मैथिली लिपि को बढ़ावा देने के लिए विशेषज्ञों की जल्द ही बैठक बुला सकते हैं प्रकाश जावड़ेकर

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर मैथिली भाषा के विशेषज्ञों की जल्द ही एक बैठक बुला सकते हैं

मैथिली लिपि को बढ़ावा देने के लिए विशेषज्ञों की जल्द ही बैठक बुला सकते हैं प्रकाश जावड़ेकर

प्रकाश जावड़ेकर (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर मैथिली भाषा के विशेषज्ञों की जल्द ही एक बैठक बुला सकते हैं. बता दें कि बिहार के एक विशाल क्षेत्र और झारखंड के कुछ हिस्सों में मैथिली भाषा बोली जाती है. बिहार योजना परिषद के सदस्य और जनता दल यूनाइटेड के नेता संजय झा ने सोमवार को दिल्ली में जावड़ेकर से मुलाकात के बाद इस बात को लेकर आश्वस्त किया. 

UGC ने जेएनयू, अलीगढ़ और BHU समेत देश के 62 उच्च शिक्षण संस्थान को लेकर दिया यह बड़ा फैसला

झा ने कहा कि उन्होंने प्रकाश वावड़ेकर को एक समिति का गठन करने की अपील की और साथ ही मैथिली लिपि को संरक्षित करने और प्रचार करने के लिए जरूरी फंड उपलब्ध कराने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि केंद्र में जब अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में पहली एनडीए की सरकार बनी थी उसी दौरान मैथिली भाषा को 8वीं अनुसूची में स्थान मिला था, अब केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दोबारा एनडीए की सरकार है तो मैथिली लिपि से प्रचार-प्रसार के लिए सरकार मजबूत कदम उठाएगी. आधिकारिक तौर पर यूपीएससी के उम्मीदवारों को परीक्षा में विषयों में से एक में मैथिली चुनने की अनुमति प्रदान है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा कि बैठक में मानव संसाधन मंत्री ने उनकी मांगों पर सहमति जता दी है और कहा कि इस संबंध में जो भी मदद होगी, वह की जाएगी. गौरतलब है कि मैथिली बिहार और झारखंड के कुछ हिस्सों में विशाल स्तर पर बोली जाती है. खासकर नॉर्थ बिहार में इसे खूब बोली जाती है. 

VIDEO: 60 शिक्षण संस्थानों को UGC की आजादी, JNU और BHU भी शामिल