अमेठी से राजनीतिक नहीं, पारिवारिक रिश्ता: प्रियंका गांधी

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि संगठन निर्माण हम सबकी पहली प्राथमिकता है.

अमेठी से राजनीतिक नहीं, पारिवारिक रिश्ता: प्रियंका गांधी

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रियंका गांधी ने बैठक को संबोधित किया

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी(Priyanka Gandhi) ने अमेठी (Amethi) की जनता को संबोधित करते हुए कहा है कि उनका अमेठी से पारिवारिक रिश्ता है, यह रिश्ता राजनीतिक नहीं है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि संगठन निर्माण हम सबकी पहली प्राथमिकता है.प्रियंका गांधी अमेठी के ज़ामों ब्लॉक की न्याय पंचायत दखिनवारा की बैठक को संबोधित कर रही थी. केंद्र सरकार पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि किसान विरोधी कानून सिर्फ किसानों के लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए खतरनाक है. प्रियंका गांधी को सुनने के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे. 

गौरतलब है कि प्रियंका गांधी हाल के दिनों में लगातार उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को मजबूत करने में लगी हैं. उत्तर प्रदेश में अपनी खोई जमीन वापस हासिल करने की जद्दोजहद में लगी कांग्रेस नए साल पर हर गांव और शहर तक पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी द्वारा भेजे गए कैलेंडर पहुंचा रही है.कांग्रेस के प्रांतीय मीडिया संयोजक ललन कुमार ने बताया था कि कांग्रेस महासचिव और पार्टी की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाद्रा ने उत्तर प्रदेश में नए साल के 10 लाख कैलेंडर भेजे हैं.

Newsbeep

महिला सुरक्षा को लेकर योगी सरकार पर बरसीं प्रियंका गांधी, गोरखपुर की घटना का लेकर कही ये बात

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उन्होंने कहा कि पार्टी पदाधिकारियों को वे कैलेंडर हर गांव और शहर के प्रत्येक वार्ड में बांटने के निर्देश दिए गए हैं तथा हर जिले और शहर कमेटी के लिए आबादी के लिहाज से कैलेंडर दिए जा रहे हैं. कुमार ने बताया कि 12 पृष्ठ के इस कैलेंडर में प्रियंका के जनसंपर्क कार्यक्रमों और संघर्षों की तस्वीरें हैं. उन्होंने कहा, ‘‘कैलेंडर में पहले पेज पर सोनभद्र के उभ्भा जनसंहार के बाद संवेदना व्यक्त करने सोनभद्र पहुंचीं प्रियंका गांधी की तस्वीर आदिवासी महिलाओं के साथ छपी है. इसके अलावा हाथरस कांड के बाद प्रियंका द्वारा पीड़ित परिवार से मिलने के लिए जाते हुए रास्ते में पुलिस लाठीचार्ज से कार्यकर्ताओं को बचाए जाने की तस्वीर भी इस कैलेंडर में शामिल की गई है.''