NDTV Khabar

गणतंत्र दिवस परेड में राहुल गांधी के बैठने की जगह को लेकर राजनीति गरमाई, इस पंक्ति में मिली जगह

राहुल गांधी को गणतंत्र दिवस परेड में पहली पंक्ति में बैठने की जगह नहीं दी गई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गणतंत्र दिवस परेड में राहुल गांधी के बैठने की जगह को लेकर राजनीति गरमाई, इस पंक्ति में मिली जगह

राहुल गांधी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नाराजगी के बावजूद परेड में शामिल होंगे राहुल गांधी.
  2. राहुल गांधी को चौथी पंक्ति में मिली बैठने की जगह.
  3. इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष को पहली पंक्ति में जगह मिलती थी.
नई दिल्ली: देश में चारों तरफ गणतंत्र दिवस की तैयारियां जोरों पर हैं. दिल्ली के राजपथ पर 26 जनवरी 69वां गणतंत्र दिवस राजपथ में परेड की सारी तैयारियां पूरी हो गई हैं, मगर परेड में राहुल गांधी के बैठने को लेकर राजनीति गरमा गई है. राहुल गांधी को गणतंत्र दिवस परेड में पहली पंक्ति में बैठने की जगह नहीं दी गई है. इससे कांग्रेस पार्टी नाराज है. हालांकि, राहुल गांधी ने ये साफ कर दिया है कि वह इस कार्यक्रम में शिरकत करेंगे.

गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम में राहुल गांधी को चौथी पंक्ति में जगह दी गई है, जबकि कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर इससे पहले सोनिया गांधी को पहली पंक्ति में जगह मिलती थी. हालांकि, राहुल गांधी का कहना है कि गणतंत्र दिवस परेड अहम है, उन्हें कहां बैठाया जाता है ये नहीं. मगर कांग्रेस इसे लेकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को घेरने की कोशिश कर रही है. 

यह भी पढ़ें - गणतंत्र दिवस का गवाह बनने को राजपथ पूरी तरह से तैयार, तस्वीरों में देखें कितना खूबसूरत है नजारा

कांग्रेस का कहना है कि ये सरकार की ओछी राजनीति का नमूना है. बता दें कि हाल ही में गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद संभाला है. हालांकि, कांग्रेस के विरोध पर भाजपा की तरफ से अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. 

गृह मंत्रालय के वारंट ऑफ प्रीसीडेंस के अनुसार विपक्ष के नेता लिए सातवें पंक्ति में बैठने की व्यवस्था है. वहीं, सांसदों के लिए 21वीं पंक्ति निर्धारित की गई है. राहुल गांधी मुख्य विपक्षी पार्टी के अध्यक्ष होने के बावजूद चौथी पंक्ति में बैठने की जगह दी गई है. हालांकि, वारंट ऑफ प्रीसीडेंस में मुख्य विपक्षी पार्टी के लिए कोई जगह नहीं है. हालांकि, यह भी एक अपवाद है कि पहली बार जब गणतंत्र दिवस मनाया गया था, तो प्रधानंत्री जवाहरलाल नेहरू ने खान अब्दुल गफ्फार खान को सबसे आगे की पंक्ति में बैठाया था. 

गृह मंत्रालय के मुताबिक, विपक्ष के नेता के लिए लोकसभा में कम से कम 10 फीसदी सांसदों की जरूरत होती है यानी कि 54. कांग्रेस के पास अभी मात्र 44 सांसद ही हैं. इसलिए कांग्रेस को विपक्ष का दर्जा नहीं दिया गया है. लोकसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे को 'सबसे बड़े विपक्षी दल के नेता' का दर्जा दिया गया है न कि विपक्षी दल के नेता का. मगर राहुल गांधी का इन सबसे कोई वास्ता नहीं है. वो एक सांसद हैं. हालांकि, कांग्रेस अध्यक्ष होने के नाते पार्टी उनके लिए आगे की सीट चाहती है. 

टिप्पणियां
मगर अब सवाल उठता है कि अमित शाह किस हैसियत से पहली पंक्ति में बैठते हैं जबकि वे भी बीजेपी के अध्यक्ष ही हैं. हालांकि, यूपीए सरकार के दौरान भी सोनिया गांधी को पहली पंक्ति में बैठाया गया था. 


VIDEO: गणतंत्र दिवस समारोह में चौथी पंक्ति में बैठेंगे राहुल गांधी


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement