NDTV Khabar

फारूक अब्दुल्ला को राहुल गांधी का करारा जवाब, कहा- कश्मीर इज इंडिया, इंडिया इज कश्मीर

राहुल गांधी ने कहा कि जो कह रहा है कि चीन और पाकिस्तान से कश्मीर पर बात होनी चाहिए, तो बता दूं कि कश्मीर इज इंडिया और इंडिया इज कश्मीर. यह हमारा आंतरिक मामला है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फारूक अब्दुल्ला को राहुल गांधी का करारा जवाब, कहा- कश्मीर इज इंडिया, इंडिया इज कश्मीर

राहुल गांधी ने साधा पीएम मोदी पर निशाना

खास बातें

  1. मोदी सरकार की नीतियों की वजह से जल रहा है कश्मीर
  2. कश्मीर हमारा आंतरिक मामला है
  3. किसी और की मध्यस्थता स्वीकार नहीं कर सकते
नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों की वजह कश्मीर जल रहा है. मैं काफी समय से कह रहा हूं कि पीएम मोदी और एनडीए की सरकार ने कश्मीर को जला दिया है. ANI के मुताबिक- राहुल गांधी ने कश्मीर को पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला बनाते हुए राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के उस बयान को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने मध्यस्थता की अपील की थी.

ANI के मुताबिक- राहुल गांधी ने कहा कि जो कह रहा है कि चीन और पाकिस्तान से कश्मीर पर बात होनी चाहिए, तो बता दूं कि कश्मीर इज इंडिया और इंडिया इज कश्मीर. ये हमारा आंतरिक मामला है, इसमें किसी और को कुछ लेना-देना नहीं है.

पढ़ें: बंदूक के दम पर कश्मीर में तनाव खत्म करना चाहेगी सरकार तो हम साथ नहीं : कांग्रेस

उधर- जम्मू-कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने भी फारुक अब्दुल्ला के बयान की निंदा की. निर्मल सिंह ने कहा कि उनके बयान की निंदा करता हूं. उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि जब वह सीएम थे तो वो हमेशा पाकिस्तान पर हमला करने की बात करते थे. अब दोहरा रवैया क्यों. निर्मल सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री कश्मीर के हालात की खुद निगरानी कर रहे हैं. प्रधानमंत्री चाहते हैं कि जम्मू-कश्मीर के लोग समृद्ध हो और राज्य में शांति का माहौल हो.

टिप्पणियां
पढ़ें: अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए आर्मी में भर्ती होना चाहता है किशोर, जानें क्या है पूरा मामला

दरअसल, फारुख अब्दुल्ला ने कहा है कि कश्मीर के मुद्दे पर भारत को अमेरिका और चीन की मदद स्वीकार कर लेनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हम लोग चीन और पाकिस्तान से युद्ध नहीं कर सकते हैं, क्योंकि हमारी तरह उनके पास भी एटम बम हैं. इसलिए इस मुद्दे को बातचीत से ही सुलझाना चाहिए. अब्दुल्ला ने कहा कि दोस्तों का इस्तेमाल बातचीत करने के लिए, मुद्दे को हल करने के लिए कीजिए.डोनाल्ड ट्रंप ने खुद कहा, चीन ने भी कहा कि वे कश्मीर समस्या का हल चाहते हैं. वाजपेयी ने कहा था कि दोस्त बदले जा सकते हैं, पड़ोसी नहीं.
(इनपुट्स ANI से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement