NDTV Khabar

कर्नाटक के मंत्री के 39 ठिकानों पर छापे, उन्हीं के रिसॉर्ट में ठहरे हुए हैं गुजरात के कांग्रेसी MLA

आयकर विभाग ने कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के घर में भी छापेमारी की है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कर्नाटक के मंत्री के 39 ठिकानों पर छापे, उन्हीं के रिसॉर्ट में ठहरे हुए हैं गुजरात के कांग्रेसी MLA

बेंगुलरु के ईगल्टन गोल्फ रिसॉर्ट में आयकर विभाग का छापा.

खास बातें

  1. बेंगलुरु के ईगल्टन गोल्फ रिसॉर्ट में इनकम टैक्स की छापेमारी
  2. इसी रिसॉर्ट में ठहरे हुए हैं गुजरात कांग्रेस के 44 विधायक
  3. कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के घर में भी छापेमारी
नई दिल्ली:

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु के जिस रिसॉर्ट में गुजरात के कांग्रेस विधायक ठहरे हुए हैं, वहां बुधवार तड़के आयकर विभाग की टीम पहुंची. आयकर विभाग ने कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार के घर सहित 39 ठिकारनों पर छापेमारी की है. यह रिसॉर्ट भी मंत्री डीके शिवकुमार का है. आयकर विभाग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि उनकी टीम ईगल्टन गोल्फ रिसॉर्ट में कांग्रेसी विधायकों की ठहरे होने की वजह से वहां नहीं गई थी. बयान में कहा गया है कि आयकर विभाग की टीम मंत्री शिवकुमार के 39 ठिकानों पर छापेमारी करने गई थी. ईगल्टन रिसॉर्ट भी उन्हीं का है इसलिए आयकर विभाग की टीम वहां गई थी. रिसॉर्ट में कोई छापेमारी नहीं हुई है.

गुजरात में कुछ और कांग्रेसी विधायकों के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा है. हाल ही में गुजरात में छह कांग्रेसी विधायकों ने पार्टी छोड़ी है. राज्यसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस ने अपने सभी विधायकों को कर्नाटक के ईगल्टन गोल्फ रिसॉर्ट में ठहराया है. फिलहाल गुजरात में कांग्रेस के 44 विधायक हैं.

karnataka minister sivakumar
ईगल्टन गोल्फ रिसॉर्ट में ही गुजरात के कांग्रेसी विधायक ठहरे हुए हैं.

डीके शिवकुमार 250 करोड़ के मालिक: कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने विधानसभा चुनाव के हलफनामे में 250 करोड़ की संपत्ति घोषित की है. उनके भाई डीके सुरेश बेंगलुरु ग्रामीण सीट से सांसद हैं. ईगल्टन रिजॉर्ट डीके सुरेश की संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत ही आता है. डीके शिवकुमार कर्नाटक के मुख्यमंत्री की रेस में भी माना जा रहा है.

ये भी पढ़ें: गुजरात में राज्यसभा चुनाव में 'नोटा' का विकल्प, कांग्रेस व्हिप जारी करेगी

'बीजेपी विधायकों को तोड़ने की तिकड़म में' : बेंगलुरु के रिजॉर्ट में गुजरात कांग्रेस के 44 विधायक टिके हुए हैं. कांग्रेस की दलील है कि राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस नेता अहमद पटेल को हराने के लिए बीजेपी इन विधायकों को तोड़ने की तिकड़म में है. यही वजह है कि उन्हें अहमदाबाद से दूर यहां लाया गया है. रविवार को कांग्रेस नेता शक्ति सिंह गोहिल इन विधायकों को मीडिया के सामने लाए. उन्होंने दावा किया कि बीजेपी विधायकों को 15-15 करोड़ रुपये तक का लालच दे रही है.

ये भी पढ़ें: गुजरात संकट पर चुनाव आयोग पहुंची कांग्रेस​

वीडियो: गुजरात के कांग्रेस विधायक कर्नाटक पहुंचे

बाढ़ से बेहाल है गुजरात: इस बीच ये सवाल उठे हैं कि जब गुजरात बाढ़ से बेहाल है तो कांग्रेस के विधायक अपने इलाकों से दूर इस रिजॉर्ट में क्यों हैं. इस पर कांग्रेस विधायकों की दलील है कि 24 से 26 जुलाई तक वो अपने इलाकों में बाढ़ प्रभावित इलाकों में ही काम कर रहे थे, लेकिन फिलहाल सियासी हालात के आगे मजबूर हैं. इस बीच बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने इस मुद्दे का भी ज़िक्र किया और कहा कि कांग्रेस ने बेंगलुरु ले जाए गए विधायकों के मोबाइल फोन तक जमा करा लिए हैं. बेंगलुरु में शक्ति सिंह गोहिल ने मोबाइल जमा कराने जैसे सारे आरोपों से इनकार किया. इस बीच कांग्रेस छोड़ चुके शंकर सिंह वाघेला ने भी बाढ़ के हालात में कांग्रेस विधायकों के बेंगलुरु में होने पर सवाल उठाए.

टिप्पणियां

ये भी पढ़ें: कांग्रेस बोली, बीजेपी ने 15 करोड़ का ऑफर दिया​

छह विधायकों ने दिया इस्तीफा: दरअसल गुजरात में कांग्रेस के 57 विधायक हैं, जिनमें से छह ने इस्तीफ़ा दे दिया है और इनमें से 3 बीजेपी में शामिल भी हो चुके हैं, 7 अन्य विधायक हैं जो बेंगलुरु नहीं गए हैं, लेकिन उन्होंने कांग्रेस भी नहीं छोड़ी है. इन विधायकों को लेकर कयासों का दौर जारी है. अहमद पटेल को राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए 45 वोटों की दरकार है और उसके पास फिलहाल 44 वोट हैं, लेकिन चुनाव तक कहीं ये वोट खिसक ना जाएं इसकी चिंता ने कांग्रेस की दिन रात की नींद ख़राब की हुई है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement