NDTV Khabar

लोकसभा में उठा रेलवे में खानपान का मामला, फ्रोजन फूड मुहैया कराने का सुझाव

रेलवे में खराब खानपान का मामला शुक्रवार को लोकसभा में उठा और भाजपा के एक सदस्य ने ट्रेनों में फ्रोजन फूड मुहैया कराए जाने का सुझाव दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकसभा में उठा रेलवे में खानपान का मामला, फ्रोजन फूड मुहैया कराने का सुझाव

कैग ने अपनी रिपोर्ट में रेल गाड़यों में मिलने वाले खाने को घटिया स्तर का बताया था

नई दिल्ली:

रेलवे में खराब खानपान  का मामला शुक्रवार को लोकसभा में उठा और भाजपा के एक सदस्य ने ट्रेनों में फ्रोजन फूड मुहैया कराए जाने का सुझाव दिया. रेलवे के खानपान में कैग की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए भाजपा के गणेश सिंह ने शताब्दी, राजधानी और दुरंतों जैसी ट्रेनों में फ्रोजन फूड को परोसे जाने का सुझाव दिया. उन्होंने कहा कि ट्रेनों में खाना पकाना स्वच्छता की दृष्टि से भी सही नहीं है. ऐसे में फ्रोजन फूड एक विकल्प हो सकता है जो तीन से छह महीने तक सुरक्षित रह सकता है.

यह भी पढ़ें:
रेलवे की कैटरिंग नीति में किया जा रहा है पूरा फेरबदल 
रेलवे कैटरिंग में खत्म हुआ लाइसेंस राज, अब बेहतर होगी खानपान सेवा

लक्षद्वीप से राकांपा के पीपी मोहम्मद फैजल ने लक्षद्वीप से श्रीलंका को सूखी टूना मछली के निर्यात में बिचौलियों की भूमिका को समाप्त करने और उनके द्वारा सही उत्पाद का निर्यात सुनिश्चित करने की मांग की. शिरोमणि अकाली दल के प्रेमसिंह चंदूमाजरा ने चंडीगढ़ में पंजाबी को राजकीय भाषा का दर्जा देने और जम्मू कश्मीर में सिख समुदाय को अल्पसंख्यक दर्जा दिए जाने की मांग की. उन्होंने साथ ही कहा कि राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में भी सिख समुदाय के एक सदस्य को शामिल किया जाए.


टिप्पणियां

VIDEO: ट्रेनों में खानपान का गिरता स्तर  भाजपा के सत्यपाल सिंह ने बागपत में राष्ट्रीय खेल संस्थान की स्थापना किए जाने की मांग की जबकि इसी पार्टी के पुष्पेंद्र सिंह चंदेल ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में स्थापित केंद्रीय विद्यालय में इसी सत्र से कक्षाएं शुरू कराए जाने की मांग की. भाजपा की अंजू बाला, शरद त्रिपाठी , रमा देवी और अश्विनी कुमार चौबे ने भी शून्यकाल में अपने अपने निर्वाचन क्षेत्रों से जुड़े मुद्दे उठाए.

(इनपुट भाषा से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement