NDTV Khabar

जम्मू-कश्मीर के दौरे के पहले दिन 20 प्रतिनिधिमंडलों से मिले राजनाथ सिंह

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के अपने चार दिवसीय दौरे पर, विभिन्न व्यवसायिक समूहों और धार्मिक समुदायों के प्रतिनिधियों से मिले

81 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू-कश्मीर के दौरे के पहले दिन 20 प्रतिनिधिमंडलों से मिले राजनाथ सिंह

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कश्मीर में विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात की.

खास बातें

  1. फल उत्पादकों और स्वरोजगार वाली महिलाओं से भी मुलाकात की
  2. राज्यपाल एनएन वोहरा से राजभवन में मुलाकात की
  3. प्रधानमंत्री विकास पैकेज को लागू किए जाने की प्रगति की समीक्षा की
श्रीनगर: केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के अपने चार दिवसीय दौरे के पहले दिन विभिन्न वर्गों के 20 से अधिक प्रतिनिधिमंडलों से शनिवार को मुलाकात की.

सुबह यहां पहुंचे सिंह ने कहा कि वह खुले दिमाग के साथ आए हैं और राज्य की समस्याओं का हल तलाशने में सरकार की मदद करने वाले किसी भी व्यक्ति से मिलने के लिए तैयार हैं. अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर घाटी से सामाजिक, व्यापार, यात्रा और व्यापारिक संगठनों के लगभग 24 प्रतिनिधिमंडलों ने सिंह से मुलाकात की. यात्रा एजेंटों, होटल और रेस्त्रां मालिकों और शिकारा तथा हाउस बोट एसोसिएशनों के प्रतिनिधिमंडलों ने भी गृह मंत्री से मुलाकात की. सिंह ने कश्मीरी पंडितों, सिखों, शिया, गुज्जरों और बक्करवाला समेत विभिन्न समुदायों का प्रतिनिधित्व करने वाले प्रतिनिधिमंडलों के साथ भी बात की.

अधिकारियों ने बताया कि फल उत्पादकों और स्वरोजगार वाली महिलाओं ने भी मंत्री से मुलाकात की. प्रतिनिधिमंडलों ने सिंह को अपनी समस्याओं से अवगत कराया और इस संबंध में ज्ञापन सौंपा. ये बैठकें तीन घंटे से अधिक समय तक चलीं.

एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताया कि सिंह ने राज्यपाल एनएन वोहरा से शनिवार शाम यहां राजभवन में मुलाकात की और राज्य में व्याप्त चुनौतियों से संबंधित कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की. वोहरा ने सुरक्षा संबंधित मुद्दों के अलावा प्रशासनिक मशीनरी के प्रभावशाली और जवाबदेह कामकाज, भ्रष्टाचार के खात्मे, युवाओं के शैक्षिक हितों और ग्रामीण तथा शहरी स्थानीय स्वशासी निकायों के लंबित चुनावों को जल्द कराने पर जोर दिया.

यह भी पढ़ें : राजनाथ की बैठक से पहले अनंतनाग में पुलिस टीम पर आतंकी हमला, एक पुलिसकर्मी शहीद

सिंह ने जम्मू कश्मीर के लिए 80 हजार करोड़ रुपये के प्रधानमंत्री विकास पैकेज (पीएमडीपी) को लागू किए जाने की प्रगति की समीक्षा की और अधिकारियों को काम शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए. अधिकारियों ने बताया कि मंत्री की अध्यक्षता में हुई एक समीक्षा बैठक में बताया गया कि केन्द्र पहले ही पैकेज के 78 प्रतिशत के लिए 62,599 करोड़ रुपये मंजूर कर चुका था और 22,000 करोड़ रुपये जारी किे जा चुके हैं. मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती, उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह, राज्य के मुख्य सचिव बी बी व्यास और केन्द्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारी इस बैठक में शामिल हुए.

एक अधिकारी ने बताया ‘‘पीएमडीपी के तहत 63 परियोजनाओं की कुल लागत 80,068 करोड़ रुपये है. परियोजना में बाढ़ प्रभावित लोगों के पुनर्वास के लिए सहायता भी शामिल हैं. इस उद्देश्य के लिए 1,200 करोड़ रुपये दिए गए हैं.’’ राष्ट्रीय राजमार्ग के चेनानी- नाशरी खंड के चार लेन का काम पूरा हो गया है. इस परियोजना की लागत 781 करोड़ रुपये है और इसमे भारत की सबसे बड़ी सड़क सुरंग शामिल है.

यह भी पढ़ें : राजनाथ सिंह चार दिन के जम्मू-कश्मीर दौरे पर, कहा, सबसे बातचीत के लिए तैयार हूं

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सात नवम्बर 2015 को पीएमडीपी की घोषणा की थी जिसमे 15 केन्द्रीय मंत्रालयों से संबंधित 63 परियोजनाएं कवर होती हैं.

अधिकारियों ने बताया कि 63 परियोजनाओं में से पांच पूरी हो गई हैं. उन्होंने बताया कि जम्मू और श्रीनगर में सेमी-रिंग सड़कों के लिए भूमि अधिग्रहण का काम दो महीनों के अन्दर पूरा हो जाएगा. राष्ट्रीय राजमार्ग के जम्मू-उधमपुर खंड पर चार लेन बनाने का काम लगभग पूरा होने वाला है जबकि राज्य में 43,000 करोड़ रुपये की लागत वाली 19 सड़क परियोजनाएं लागू की गई है. राज्य में प्रेषण और वितरण नेटवर्क को सुधारने के लिए ऊर्जा सेक्टर में 5,810 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है. अवंतीपुरा और जम्मू में एम्स के निर्माण के लिए दो-दो हजार करोड़ रुपये उपलब्ध कराए गए हैं और लगभग 91 करोड़ रुपये जारी कर दिए गए हैं.

इसके अलावा आईआईटी जम्मू और आईआईएम जम्मू ने अस्थाई परिसरों में काम करना शुरू कर दिया है और स्थाई परिसरों को स्थापित करने का काम चल रहा है.

VIDEO : दौलतमंद अलगाववादी

सिंह का दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में खानबल जाने का भी कार्यक्रम है जहां वह सीआरपीएफ और पुलिस के अधिकारियों से बातचीत करेंगे. दक्षिण कश्मीर पिछले डेढ़ साल से हिंसा से जूझ रहा है और वहां सुरक्षाबलों तथा आतंकवादियों के बीच कई मुठभेड़ हुई है.

सिंह चार दिवसीय दौरे के दौरान राजौरी जिले के नौशेरा और जम्मू भी जाएंगे.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement