मंदिर पर फैसला आने के बाद भी राम आंदोलन जारी, बनाई जा रही योजना

पुरुषोत्तम नारायण सिंह ने कहा, "इसकी वजह से अन्य गैर-भाजपा राजनीतिक दलों को मुस्लिम तुष्टीकरण की नीति को छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा. हिंदू जागरण मंदिर आंदोलन का एक परिणाम है.''

मंदिर पर फैसला आने के बाद भी राम आंदोलन जारी, बनाई जा रही योजना

विश्व हिंदू परिषद 4 महीनों तक ग्रामीण स्तर पर कई कार्यक्रमों का आयोजन करेगी

लखनऊ:

तीन दशक लंबा राम मंदिर आंदोलन भले ही अपने तार्किक निष्कर्ष पर पहुंच गया है, लेकिन इस आंदोलन का नेतृत्व करने वाले विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) इससे आगे बढ़ने के मूड में नहीं लगते हैं. वीएचपी आने वाले महीनों में राम मंदिर पर केंद्रित कार्यक्रमों की एक श्रृंखला की योजना बना रही है. परिषद 'राम महोत्सव' के साथ आगामी चार महीनों में ग्रामीण स्तर पर अन्य कार्यक्रमों का आयोजन करेगी. इस संबंध में काम अभी जारी है.

यह भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बोले- राम मंदिर का मेरा काम पूरा, अब रिटायर होने का वक्त आ गया

परिषद के वरिष्ठ प्रचारक पुरुषोत्तम नारायण सिंह ने कहा है कि राम मंदिर मुद्दे पर हिंदुओं को जागृत रखना आवश्यक है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा, "इसकी वजह से अन्य गैर-भाजपा राजनीतिक दलों को मुस्लिम तुष्टीकरण की नीति को छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा. हिंदू जागरण मंदिर आंदोलन का एक परिणाम है. धर्मनिरपेक्षता के नाम पर हिंदुओं को सदियों से दूसरे दर्जे का नागरिक माना जाता रहा है."

इन कार्यक्रमों के माध्यम से परिषद लोगों को बताएगी कि किस तरह से राम मंदिर के लिए लड़ाई अदालत के अंदर और बाहर लड़ी गई और अयोध्या आंदोलन में इनकी क्या भूमिका रही है.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)