Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

पढ़ें पूर्व पीएम पीवी नरसिम्हा राव और गांधी परिवार के रिश्तों में क्यों आई थी खटास 

नरसिम्हा राव कांग्रेस की बांह पकड़कर सियासत की सीढ़ियां चढ़ते हुए पीएम पद तक पहुंचे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पढ़ें पूर्व पीएम पीवी नरसिम्हा राव और गांधी परिवार के रिश्तों में क्यों आई थी खटास 

वर्ष 1991 में बतौर प्रधानमंत्री राव ने आर्थिक सुधारों का दरवाजा खोला था.

नई दिल्ली :

आज पूर्व प्रधानमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता स्वर्गीय पीवी नरसिम्हा राव की जयंती है. राव देश के ऐसे प्रधानमंत्री रहे हैं जिनका नाम देश में आर्थिक सुधार (इकनोनॉमिक रिफॉर्म्स) का जिक्र छिड़ते ही तपाक से लिया जाता है. यूं तो नरसिम्हा राव कांग्रेस की बांह पकड़कर सियासत की सीढ़ियां चढ़ते हुए पीएम पद तक पहुंचे, लेकिन सियासी गलियारों में अक्सर चर्चा इस बात की होती है कि राव के आखिरी दिनों में पार्टी ने उनके साथ किस तरह का सुलूक किया. आखिर ऐसी क्या वजह थी जो कांग्रेस और उससे कहीं ज्यादा गांधी परिवार और राव के रिश्तों में इतनी ज्यादा कड़वाहट घुल गई थी. राजनीतिक विशेषज्ञ इस कड़वाहट के पीछे उन्हीं आर्थिक सुधारों को देखते हैं जिसकी वजह से राव की देश-दुनिया में अलग पहचान बनी.

वह प्रधानमंत्री, जिसका शव आधे घंटे बाहर रखा रहा, लेकिन नहीं खुला पार्टी मुख्यालय का दरवाजा 


साल 1991 में बतौर प्रधानमंत्री राव ने आर्थिक सुधारों का दरवाजा खोला और इससे उनकी लोकप्रियता तेजी से बढ़ने लगी. अखबार से लेकर टेलीविजन तक में सुधारों के चर्चे हुए. किताबें लिखी गईं और राव को हीरो की तरह पेश किया गया, लेकिन विशेषज्ञ मानते हैं कि कांग्रेस को इन सुधारों के पीछे राव को क्रेडिट दिया जाना पसंद नहीं आया. विनय सीतापति अपनी किताब 'द हाफ लायन' में इस बात का जिक्र करते हुए लिखते हैं, कांग्रेस के 125वें स्थापना दिवस पर सोनिया गांधी ने कहा कि 'राजीव जी अपने सपनों को साकार होते हुए देखने के लिए हमारे बीच नही हैं, लेकिन हम देख सकते हैं कि वर्ष 1991 के चुनावी घोषणा पत्र में उन्होंने जो दावे किये थे वही अगले पांच वर्षों के लिए आर्थिक नीतियों के आधार बने'.

'नरसिम्हा राव कोई आर्थिक मसीहा नहीं थे, नेहरू की नीतियां फेल हुईं तो मजबूरी में उठाया कदम'  

वह लिखते हैं कि राव की आलोचना के पीछे एक और वजह थी. वह है बाबरी मस्जिद कांड में उनकी कथित भूमिका. वह आगे लिखते हैं कि, 'नरसिम्हा राव के प्रशंसकों में से एक और कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार जयराम रमेश कहते हैं कि, 'कांग्रेस के 99.99 फीसद लोगों का मानना है कि बाबरी मस्जिद के गिरने के पीछे कहीं न कहीं राव की मिलीभगत थी. और उस घटना की कसौटी पर पूरी कांग्रेस पार्टी को कसा जाता है'. विनय सीतापति आगे लिखते हैं कि, राहुल गांधी ने तो सार्वजनिक तौर पर यह कहा कि 'अगर उनका परिवार वर्ष 1992 में सत्ता में होता तो शायद बाबरी मस्जिद नहीं गिरती'. 

टिप्पणियां

नरसिम्हा राव का किया नुकसान अब भी भारी कीमत वसूल रहा है : उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी   

VIDEO : अटल जी मेरे लिए पिता के समान: PM मोदी​



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... तमंचा लहराते हुए बैंक पहुंचा शख्स, कैशियर ने किया ऐसा काम कि भाग खड़ा हुआ लुटेरा- देखें VIDEO

Advertisement