NDTV Khabar

कभी समीक्षा की बात कहने वाले मोहन भागवत अब बोले- आरक्षण समस्या नहीं, आरक्षण की राजनीति समस्या

आरक्षण को लेकर देश में काफी समय से बहस जारी है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
कभी समीक्षा की बात कहने वाले मोहन भागवत अब बोले- आरक्षण समस्या नहीं, आरक्षण की राजनीति समस्या

आरक्षण पर संघ प्रमुख मोहन भागवत का बयान

नई दिल्ली:

आरक्षण को लेकर देश में काफी समय से बहस जारी है. ऐसे आरोप लगते रहते हैं कि संघ यानी आरएसएस आरक्षण विरोधी संगठन है, मगर इस पर खुद राष्ट्रीय स्वंयसेवक सघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने स्पष्ट कर दिया है कि आरएसएस आरक्षण आरक्षण के समर्थन में है. उन्होंने कहा कि आरक्षण जारी रहना चाहिए और उनका संगठन आरक्षण व्यवस्था का समर्थन करता है. बुधवार को संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि आरएसएस ने हमेशा आरक्षण व्यवस्था का समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि आरक्षण कोई समस्या नहीं है, लेकिन आरक्षण की राजनीति समस्या है. 

मोहन भागवत बोले- राम मंदिर जल्द बनाने से हिंदू-मुस्लिम के बीच तनाव होगा खत्म, मॉब लिंचिंग समेत इन 10 मुद्दों पर रखी RSS की राय


आरक्षण कब तक रहेगा? सवाल के जवाब में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि क्या आर्थिक आधार पर सामाजिक विषमता को हटा कर सबको बराबर का अधिकार संविधान में दिया गया है. संघ आरक्षण के पक्ष में है. जिन्हें दिया गया वे तय करेंगे कि उन्हें कब तक नहीं चाहिए. किसे मिले इस पर संविधान पीठ विचार कर रही है. आरक्षण समस्या नहीं है. आरक्षण पर राजनीति समस्या है.

मोहन भागवत बोले- नागपुर से सरकार को नहीं करते कॉल, कई नेता हमसे वरिष्ठ और अनुभवी

उन्होंने कहा, "समाजिक कलंक को मिटाने के लिए संविधान में प्रदत्त आरक्षण का आरएसएस पूरी तरह समर्थन करता है. आरक्षण कब तक दिया जाना चाहिए, यह निर्णय वही लोग करें, जिनके लिए आरक्षण की व्यवस्था की गई है. जब उन्हें लगे कि यह जरूरी नहीं है, तो वे इसका निर्णय लें." मोहन भागवत ने अपनी तीन दिवसीय व्याख्यान श्रंखला के समापन के मौके पर कहा, " इस व्यवस्था के प्रारंभ से आरएसएस का यही विचार है और यही विचार रहेगा."

टिप्पणियां

उन्होंने कहा, "आरक्षण कोई समस्या नहीं है, समस्या आरक्षण की राजनीति से है. समाज का एक अंग पीछे छूट गया है, यह हमारे कर्मों का परिणाम है. इस 1000 साल पुरानी बीमारी को ठीक करने के लिए हमें 100-150 साल पीछे जाना होगा, और मैं नहीं समझता कि यह कोई महंगा सौदा है." ध्यान देने वाली बात है कि मोहन भागवत का यह ताजा रुख उनके 2015 के रुख से अलग है, जब उन्होंने सार्वजनिक तौर पर आरक्षण की नीतियों की समीक्षा की मांग की थी. 

 VIDEO: मिशन 2019: संविधान सम्मत आरक्षण का समर्थन - भागवत



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement