संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले: अटल जैसे व्यक्ति बार-बार नहीं मिलते, युगों में एक होते हैं

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी आज पंचतत्व में विलीन हो जाएंगे. आज शाम चार बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले: अटल जैसे व्यक्ति बार-बार नहीं मिलते, युगों में एक होते हैं

अटल बिहारी वाजपेयी को मोहन भागवत ने श्रद्धांजलि अर्पित की.

नई दिल्ली:

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी आज पंचतत्व में विलीन हो जाएंगे. आज शाम चार बजे उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. अटल जी का जाना राजनीति में एक युग के अंत के समान है. अटल जी की मौत से पूरा देश शोक की लहर में डूब गया है. देश भर से अटल जी को श्रद्धांजलि दी जा रही है. पीएम मोदी से लेकर संघ प्रमुख मोहन भागवत तक ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है. पीएम मोदी ने अटल जी की निधन पर कहा कि उनके माथे से पितातुल्य अटल जी का साया उठ गया है. 

बीजेपी मुख्यालय में गूंज रहा है वही नारा- राजतिलक की करो तैयारी, आ रहे हैं अटल बिहारी

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने ट्वीट कर कहा- भारतीय संस्कृति एवं मूल्यों को अपने विचार और आचरण द्वारा राष्ट्र जीवन में प्रतिष्ठित करने वाले, एक प्रखर दृढ एवं सर्व स्वीकृत व्यक्तित्व हम सब के बीच में से चला गया. समाज जीवन में इस शून्यता को भरना आसान नहीं होगा. उनकी पुण्य स्मृति में शत शत नमन.

आगे उन्होंने एक और ट्वीट कर कहा, अटलजी का जाना हम सबके मन में एक रिक्तता छोड़ गया है, जिसकी पूर्ति असंभव है. उनके जैसे व्यक्ति बार-बार नहीं मिलते. युगों में, करोड़ों में, एक होते हैं. अपने युग की छाप छोड़कर अटलजी ने अपना जन्मकार्य समाप्त किया. पूर्व पीएम अटल जी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे स्वामी अग्निवेश के साथ बीजेपी मुख्यालय में हाथापाई, बोले- मुझे गद्दार कहा गया

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

वहीं, अटल बिहारी वाजपेयी के निधन को बड़ी क्षति बताते हुए उनके परिवार के सदस्यों ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री के जाने से एक ऐसा शून्य पैदा हो गया है जिसे भरना नामुमकिन है. वाजपेयी के भांजे अनूप मिश्रा ने कहा, “यह हमारे लिए बड़ी क्षति है और उनके निधन से पैदा शून्य को भरना नामुमकिन है.” वाजपेयी के परिवार में उनकी दत्तक पुत्री नमिता कौल भट्टाचार्य भी हैं. बता दें कि वाजपेयी का लंबी बीमारी के बाद यहां एम्स में 93 साल की आयु में निधन हो गया. 

VIDEO: अटल जी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे स्वामी अग्निवेश से हाथापाई