चार साल पुराने हत्‍या के 2 मामलों में रामपाल समेत सभी आरोपी दोषी करार, सजा पर फैसला 16-17 अक्‍टूबर को

हिसार में नवम्बर 2014 में रामपाल (Sant Rampal) से जुड़े बरवाला के सतलोक आश्रम (Satlok Ashram Case) में हत्‍या के दो मामलों में गुरुवार को कोर्ट ने रामपाल दोषी करार दिया है.

चार साल पुराने हत्‍या के 2 मामलों में रामपाल समेत सभी आरोपी दोषी करार, सजा पर फैसला 16-17 अक्‍टूबर को

रामपाल को हिसार कोर्ट ने हत्‍या के दो मामलों मे दोषी करार दिया

खास बातें

  • रामपाल को हत्‍या के दो मामलों में अदालत ने दोषी करार दिया
  • बाबा रामपाल से जुड़े सतलोक आश्रम के मामले में सुनाया फैसला
  • हिसार शहर में किए गए सुरक्षा का पुख्‍ता बंदोबस्‍त
नई दिल्ली:

हिसार में नवम्बर 2014 में रामपाल (Sant Rampal) से जुड़े बरवाला के सतलोक आश्रम (Satlok Ashram Case) में हत्‍या के दो मामलों में गुरुवार को कोर्ट ने रामपाल दोषी करार दिया है. रामपाल के ऊपर फैसले के मद्देजनर हरियाणा के हिसार शहर को पूरी तरह से छावनी में तब्दील कर दिया गया. किसी भी अप्रिय घटना की आशंकाओं से बचने के लिए पूरे हिसार शहर में धारा 144 लागाई गई है. वहीं, आसपास के 7 ज़िलों से पुलिस बल बुलाया गया है और RAF को स्टैंड बॉय पर रखा गया है. हिसार की सेंट्रल जोन जेल के भीतर ही कोर्ट लगी है, जिसमें फैसला सुनाया जाएगा. गौरतलब है कि पुलिस प्रशासन ने राम रहीम प्रकरण से सबक लेते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये हैं. हिसार के पंचकुला में राम रहीम पर कोर्ट के फैसले के बाद बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी, जिसमें कई लोगों की मौत हो गई थी और काफी नुकसान हुआ था. 


जूनियर इंजीनियर की नौकरी छोड़ रामपाल बन गए थे 'बाबा'
 

Sant Rampal Verdict in Satlok Ashram Case Live Updates:


- हिसार की ज़िला अदालत ने ये फ़ैसला सुनाया है. 

- दो अलग-अलग मुक़दमे दर्ज किए गए थे. एक केस में रामपाल और उसके 14 समर्थकों और दूसरे केस में रामपाल और उसके 13 समर्थकों को आरोपी बनाया गया था. 

- रामपाल समेत सभी आरोपी हत्या के दो मामलों में दोषी करार,सज़ा पर फैसला 16-17 अक्टूबर को

- रामपाल को हत्या के दो मामलों में कोर्ट ने दोषी करार दिया

- रामपाल के वकील महेंद्र सिंह सुनवाई के लिए पहुंचे सेंट्रल जेल वन.

-हिसारसतलोक आश्रम मामले में संत रामपाल पर कुछ देर में आएगा कोर्ट फैसला.

-आज 11: 30 बजे सेंट्रल जेल वन में सुनाया जाएगा फैसला.

-संत रामपाल और अन्य के खिलाफ एफआईआर 429 और 430 पर आना है फैसला.

रामपाल को उसके आश्रम ले गई पुलिस, तलाशी में मिली नकदी, हथियार, बुलेट प्रूफ जैकेट


प्रशासन को आशंका है कि संत रामपाल पर कोर्ट के फैसले के मद्देनजर बड़ी संख्या में उनके समर्थक हिसार और उसके आस-पास के इलाकों में जमा हो सकते हैं. फैसले के बाद किसी तरह की अप्रिय स्थिति न बने, इसके लिए पुलिस बलों की भारी संख्या में तैनाती की गई है. शहर में एंट्री के लिए चेक प्वाइंट भी लगाए गये हैं और कई नाकों को सील कर दिया गया है. 

Newsbeep

दरअसल, 2014 में संत रामपाल को चंडीगढ़ हाई कोर्ट ने तलब किया था, लेकिन ये वहां नहीं गया था. इसके बाद पुलिस ने जबरन इसे आश्रम से निकाला था. तब आश्रम में हज़ारों अनुयायी थे. उस दौरान वहां भगदड़ मची और हिंसा हुई थी. जिसकी वजह से 5 महिलाओं समेत 1 बच्चे की मौत हो गई थी. संत रामपाल और उसके समर्थकों पर इन्हीं मामलों के आरोप हैं. इस पूरे मामले में 2 मुकदमे हैं. पहला मुकदमा नंबर 429 है जिसमे रामपाल समेत 15 लोग आरोपी हैं. इस केस में 4 महिलाएं और एक बच्चे की मौत का मामला है. वहं दूसरा मुकदमा नंबर 430 है जिसमे रामपाल समेत 13 आरोपी हैं. इस केस में एक महिला की मौत हुई थी. इन दोनों मुकदमों में रामपाल समेत 6 लोग ऐसे हैं, जो दोनों मुकदमों में आरोपी हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: रामपाल के आश्रम में चार महिलाओं की मौत पिटाई से?