NDTV Khabar

कामकाज की एक्सेल शीट देखकर पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने लिया मंत्रियों को हटाने का फैसला

मंत्रियों के प्रदर्शन के हिसाब से आकलन किया गया है. मंत्रियों के काम के आधार पर उनका काम सकारात्मक या नकारात्मक कहा गया. आकलन एक्सेल शीट पर तैयार हुआ. फेरबदल इसी आधार पर किया जा रहा है.

63 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कामकाज की एक्सेल शीट देखकर पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने लिया मंत्रियों को हटाने का फैसला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में रविवार को होना है फेरबदल
  2. कामकाज के आधार पर मंत्रियों से लिया गया इस्तीफा
  3. एक्सेल सीट पर कामकाज का आकलन किया गया था
नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में रविवार को फेरबदल होने जा रहा है. फेरबदल से पहले बीजेपी के कोटे से कुछ मंत्रियों ने अपने इस्तीफे सौंप दिए हैं. इन नेताओं को पार्टी कार्यों में लगाए जाने की बात कही जा रही है. हालांकि इस्तीफे के पीछे कुछ और वजह बताई जा रही है. सूत्रों ने बताया कि मंत्रियों के प्रदर्शन के हिसाब से आकलन किया गया है. इस बार काम के आधार पर सकारात्मक या नकारात्मक श्रेणियां बनाई गईं. इस बार रैंकिंग नहीं दी गई. मंत्रियों के काम के आधार पर उनका काम सकारात्मक या नकारात्मक कहा गया. आकलन एक्सेल शीट पर तैयार हुआ. फेरबदल इसी आधार पर किया जा रहा है. आकलन पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को दिया गया.

यह भी पढ़ें : मोदी मंत्रिमंडल विस्तार के लिए जेडीयू में मंथन जारी, रामचंद्र प्रसाद का नाम तय, दूसरे के लिए रेस जारी

सहयोगी दलों के मंत्रियों का भी इसी आधार पर आकलन
सहयोगी दलों के मंत्रियों को भी इसी आधार पर आंका गया है. आकलन के अन्य आधार संगठन से जुड़े कार्यक्रमों के क्रियान्वयन से जुड़े हुए हैं. पार्टी ने मंत्रियों से यात्राएं निकालने को कहा था. इनमें संकल्प से सिद्धि, तिरंगा यात्रा, पटेल, दीनदयाल, 3 साल बेमिसाल जैसे कार्यक्रमों में कितना हिस्सा लिया या कितना प्रचार किया इसको आधार बनाया गया.

NDTV के पोलिटिकल एडिटर अखिलेश शर्मा की ताजा रिपोर्ट #FBLive में​

इसके साथ ही केंद्र की योजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए क्या किया. उज्ज्वला जैसी योजना को कहां तक लागू किया. कितने दौरे किए, इन्हीं के आधार पर सकारात्मक और नकारात्मक श्रेणियों में रखा गया जैसे आधार इस्तीफे के पीछे हैं.

यह भी पढ़ें : मोदी कैबिनेट में फेरबदल : जानें उमा भारती- राजीव प्रताप रूडी समेत क्यों हो रही है इन 6 मंत्रियों की छुट्टी?

VIDEO: मोदी कैबिनेट में फेरबदल से पहले 8 से 9 मंत्री दे सकते हैं इस्तीफा



मंत्रालय में संतोषजनक प्रदर्शन नहीं रहा

उमा भारती का स्वास्थ्य कारणों से हटना आधिकारिक कारण बताया गया है. जबकि नमामि गंगे की प्रगति संतोषजनक न होना भी एक कारण है. उन्हें बुंदेलखंड में पार्टी संगठन को मज़बूत करने की ज़िम्मेदारी मिल सकती है. कलराज मिश्र
75 साल से अधिक उम्र के हो गए हैं और मंत्रालय में संतोषजनक प्रदर्शन नहीं  कर पा रहे हैं. नोटबंदी के बाद लघु और मंझौले उद्योगों को समस्या हुई है. वहीं, संजीव बालियान का कार्यशैली संतोषजनक नहीं रहा है. उन्हें संगठन में बड़ी ज़िम्मेदारी मिल सकती है. फग्गन सिंह कुलस्ते को मप्र चुनावों के मद्देनज़र प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिल सकती है. वहीं, महेंद्र नाथ पांडे के यूपी बीजेपी अध्यक्ष बन गए है और एक व्यक्ति एक पद के सिद्धांत है. राजीव प्रताप रुडी के मंत्रालय का काम संतोषजनक नहीं रहा है. नए मंत्रालय में अधिक उपलब्धि नहीं मिली. पीएम चाहते थे कौशल विकास में बड़ी उपलब्धि हासिल हो. उन्हें भी संगठन में बड़ी ज़िम्मेदारी दी जा सकती है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement