NDTV Khabar

इस्तीफे के सवाल पर बोलीं उमा भारती- न सुनूंगी, न जवाब दूंगी

इस्तीफे को लेकर उमा भारती ने ट्वीट किया है. कल से चल रही मेरे इस्तीफे के खबरों पर मीडिया ने प्रतिक्रिया पूछी. इस पर मैंने कहा कि मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, न सुनूंगी, न जवाब दूंगी.

587 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
इस्तीफे के सवाल पर बोलीं उमा भारती- न सुनूंगी, न जवाब दूंगी

क्या उमा भारती हैं नाराज?

खास बातें

  1. मोदी मंत्रिमंडल का फेरबदल शनिवार शाम को
  2. उमा भारती ने इस्तीफे के सवाल पर जवाब देने से किया मना
  3. राजीव प्रताप रूडी बोले- पार्टी का फैसला
नई दिल्ली: मोदी सरकार में बड़े फेरबदल की सुगबुगाहट तेज हो गई है. तीन केंद्रीय मंत्रियों राजीव प्रताप रूडी, उमा भारती संजीव बालियान और फग्गन सिंह कुलस्ते ने मंत्रिमंडल से अपना इस्तीफा प्रधानमंत्री को भेज दिया है. कुल 9 से 10 मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है जिनमें कलराज मिश्र नाम भी शामिल हैं. बताया जा रहा है कि हटाए गए मंत्रियों को पार्टी संगठन में जगह दी जा सकती है. 2019 में होने जा रहे लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार का ये आखिरी मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार माना जा सकता है. पहले कहा जा रहा था कि इस्तीफे के बाद उमा भारती नाराज हैं, लेकिन उन्होंने इसका खंडन किया है.

पढ़ेंजानिए, किन चेहरों को मिल सकती है मोदी मंत्रिमंडल में जगह​

उमा भारती ने किया ट्वीट
इस्तीफे को लेकर उमा भारती ने ट्वीट किया है. कल से चल रही मेरे इस्तीफे के खबरों पर मीडिया ने प्रतिक्रिया पूछी. इस पर मैंने कहा कि मैंने ये सवाल सुना ही नहीं, न सुनूंगी, न जवाब दूंगी. इस बारे में या तो राष्ट्रीय अध्यक्ष @AmitShah या अध्यक्ष जिसको नामित करें, वही बोल सकते हैं. मेरा इस पर बोलने का अधिकार नहीं है.

पढ़ें: उमा भारती बोलीं, शराबबंदी पर शिवराज सिंह चौहान मेरे प्लान पर काम कर रहे हैं

राजीव प्रताप रूडी और संजीव बालियान ने भी दी प्रतिक्रिया
मंत्रीपद से इस्तीफा देने के बाद पहली बार इस मामले पर टिप्पणी करते हुए राजीव प्रताप रुडी ने NDTV से कहा, यह मेरा फैसला नहीं है. उन्होंने कहा, यह पार्टी का फैसला है और मैं इसका पालन करूंगा. ऐसे ही संजीव बालियान से जब इस बाबत पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्होंने 'तुरंत एक लाइन का इस्तीफा भेज दिया था.' उन्होंने यह भी कहा कि वह नहीं जानते कि उनके इस्तीफा क्यों लिया गया. लेकिन साथ ही उन्होंने जोड़ा, वह पार्टी के आदेश का पालन करते हुए खुश हैं. 





कामकाज की एक्सेल शीट देखकर अमित शाह और पीएम मोदी ने लिया फैसला
मंत्रियों के प्रदर्शन के हिसाब से आकलन किया गया है. इस बार काम के आधार पर सकारात्मक या नकारात्मक श्रेणियां बनाई गईं.  इस बार रैंकिंग नहीं दी गई. मंत्रियों के काम के आधार पर उनका काम सकारात्मक या नकारात्मक कहा गया. आकलन एक्सेल शीट पर तैयार हुआ. फेरबदल इसी आधार पर किया जा रहा है. आकलन पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को दिया गया. सहयोगी दलों के मंत्रियों को भी इसी आधार पर आंका गया है. आकलन के अन्य आधार संगठन से जुड़े कार्यक्रमों के क्रियान्वयन से जुड़े हैं. पार्टी ने मंत्रियों से यात्राएं निकालने को कहा था. इनमें संकल्प से सिद्धि, तिरंगा यात्रा, पटेल, दीनदयाल, 3 साल बेमिसाल जैसे कार्यक्रमों में कितना हिस्सा लिया या कितना प्रचार किया इसको आधार बनाया गया. इसके साथ ही केंद्र की योजनाओं को जमीन पर उतारने के लिए क्या किया. -उज्ज्वला जैसी योजना को कहां तक लागू किया. कितने दौरे किए, इन्हीं के आधार पर सकारात्मक और नकारात्मक श्रेणियों में रखा गया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement