कांग्रेस और NCP के साथ आने से शिवसेना के कार्यकर्ता ने दिया इस्तीफा, कहा- जो राम का नहीं...

शिवसेना का कांग्रेस और राकांपा के साथ हाथ मिलाना उसके एक कार्यकर्ता को रास नहीं आया और उसने मंगलवार की रात को पार्टी से इस्तीफा दे दिया.

कांग्रेस और NCP के साथ आने से शिवसेना के कार्यकर्ता ने दिया इस्तीफा, कहा- जो राम का नहीं...

रमेश सोलंकी ने कई ट्वीट्स के माध्यम से कहा 'जो राम का नहीं (कांग्रेस), वो किसी काम का नहीं.'

मुंबई :

शिवसेना का कांग्रेस और राकांपा के साथ हाथ मिलाना उसके एक कार्यकर्ता को रास नहीं आया और उसने मंगलवार की रात को पार्टी से इस्तीफा दे दिया. रमेश सोलंकी नामक व्यक्ति ने पार्टी से इस्तीफे की घोषणा ट्विटर पर की. उन्होंने एक ट्वीट में लिखा कि वह शिवसेना के बीवीएस/युवा सेना के पद से इस्तीफा दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि उनकी अंतरात्मा और विचारधारा कांग्रेस के साथ काम करने की अनुमति नहीं देती है. सोलंकी ने कई ट्वीट्स के माध्यम से कहा 'जो राम का नहीं (कांग्रेस), वो किसी काम का नहीं.'

महाराष्ट्र का सियासी संग्राम बनाम संविधान दिवस का सरकारी विधान

बता दें कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे. शिवसेना-कांग्रेस और एनसीपी (Shiv Sena-NCP-Congress) की बैठक में उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के नाम का ऐलान किया गया. उद्धव ठाकरे गुरुवार (28 नवंबर) को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. इससे पहले महाराष्ट्र में आज सियासी घटनाक्रम तेज़ी से बदला. पहले उप मख्यमंत्री अजित पवार ने इस्तीफ़ा दिया और उसके बाद मुख्यमंत्री फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने भी अपने इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया और राजभवन जाकर राज्यपाल को इस्तीफ़ा सौंप दिया. इसके बाद मुंबई के होटल ट्राइडेंट में शिवसेना-कांग्रेस और एनसीपी (Shiv Sena-NCP-Congress) ने बैठक की. बैठक में एनसीपी चीफ शरद पवार (Sharad Pawar), शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, उनके बेटे आदित्य और तेजस और उनकी पत्नी भी मौजूद रहीं. 

महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम से क्‍या बिहार में बीजेपी लेगी सबक?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इन सबके अलावा नई सरकार में दो उपमुख्यमंत्री होने की भी खबरें हैं. एनसीपी के जयंत पाटील और कांग्रेस के बाला साहेब थोराट के उपमुख्यमंत्री बनाए जाने की खबरें हैं. उधर BJP के कालिदास कोलंबर प्रोटेम स्पीकर बनाए गए हैं. बुधवार सुबह 8 बजे से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया है, जिसमें नए चुने गए विधायकों को शपथ दिलाई जाएगी.