NDTV Khabar

सृजन घोटाले के आरोपी की मौत पर तेजस्वी यादव का सवाल, कहीं ये व्यापमं तो नहीं?

तेजस्वी ने ट्वीट कर सृजन घोटाले की तुलना मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले से की है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सृजन घोटाले के आरोपी की मौत पर तेजस्वी यादव का सवाल, कहीं ये व्यापमं तो नहीं?

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव लगातार सृजन घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रहे हैं.

खास बातें

  1. सृजन घोटाले के आरोपी जदयू नेता की रहस्यमयी तरीके से मौत
  2. 700 करोड़ रुपए का बताया जा रहा है सृजन घोटाला
  3. मौत पर तेजस्वी ने इस घोटाले की तुलना एमपी के व्यापमं से की
नई दिल्ली: बिहार में 700 करोड़ के सृजन घोटाले के आरोपी नाजिर महेश मंडल की रहस्यमयी तरीके से हुई मौत पर आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने सवाल खड़े किए हैं. इस मौत के बाद तेजस्वी ने ट्वीट कर सृजन घोटाले की तुलना मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले से की है. साथ ही ये भी आशंका जताई है कि सृजन घोटाला व्यापमं से भी ज्यादा व्यापक है. तेजस्वी ने ट्वीट किया, 'सृजन घोटाले में गिरफ्तार आरोपी जदयू नेता के पिता और आरोपी नाजिर महेश मंडल की देर रात जेल में विषम परिस्थितियों मे मौत। व्यापमं से भी व्यापक है सृजन.' मालूम हो कि मध्य प्रदेश में बहुचर्चित व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) घोटाले से जुड़े अब तक 40 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें बड़े पत्रकार के अलावा कई अधिकारी और कॉलेजों के प्रोफेसर तक हैं. व्यापमं घोटले की सीबीआई जांच की मांग लंबे समय से हो रही है, लेकिन शिवराज सिंह सरकार इसे मान नहीं रही है.

ये भी पढ़ें: 700 करोड़ के सृजन घोटाले में आरोपी महेश मंडल की मौत, परिवार ने लगाया पुलिस पर आरोप

परिवार वाले कह रहे पुलिस की लापरवाही से हुई मौत: सृजन घोटाले के आरोपी महेश मंडल की रविवार शाम मौत हो गई. महेश किडनी और कैंसर की बीमारी का इलाज करा रहे थे. महेश की गिरफ्तारी पिछले रविवार को भागलपुर से हुई थी, हालांकि गिरफ्तारी के बाद भी उनका इलाज एक अस्पताल में चल रहा था. परिवारवालों का आरोप है कि महेश की मौत जेल और पुलिस की लापरवाही का परिणाम है.

ये भी पढ़ें: सृजन घोटाला: CBI जांच के आदेश से संतुष्‍ट नहीं राजद

महेश जिला कल्याण विभाग में नाजिर थे और इस घोटाले के सामने आने के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया था. अपनी गिरफ्तारी के बाद महेश ने अपनी संपत्ति का जो ब्योरा दिया था वह काफी चौंकाने वाला था. उनके गांव में डेढ़ एकड़ का विशाल घर मिला था, जिसकी चर्चा है कि हर कमरा न केवल वातानूकुलित है, बल्कि बाथरूम में भी एयरकंडीशन लगा है. महेश का बेटा शिव मंडल जनता दल यूनाइटेड का भागलपुर इकाई का युवा विंग का अध्यक्ष था और इस मामले के प्रकाश में आने के बाद उसे भी पार्टी से बाहर कर दिया गया.

टिप्पणियां
VIDEO : बिहार में 700 करोड़ रुपये का सृजन घोटाला


शिव जिला परिषद का सदस्य है और अपने साथ पूछताछ में महेश ने माना था कि जिला परिषद अध्यक्ष के चुनाव में उन्होंने करीब 3 करोड़ ख़र्च किया, लेकिन वह अपने बेटे को चुनाव में जीत नहीं दिला सके. इस बीच भागलपुर पुलिस ने रविवार को आरोपी और अब भाजपा से निलंबित नेता विपिन शर्मा समेत कई लोगों के यहां छापेमारी की. इनमें से अधिकांश इन आरोपियों के सृजन की काली कमाई से शुरू किए गए व्यावसायिक प्रतिष्ठान हैं.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement