NDTV Khabar

समलैंगिकता अब अपराध नहीं, सवर्णों के भारत बंद के दौरान हुई हिंसा, पढ़ें दिन भर की 5 बड़ीं खबरें...

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने अप्राकृतिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे में रखने वाली धारा 377 (Section 377) के हिस्से को तर्कहीन, सरासर मनमाना और बचाव नहीं किये जाने वाला करार दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
समलैंगिकता अब अपराध नहीं, सवर्णों के भारत बंद के दौरान हुई हिंसा, पढ़ें दिन भर की 5 बड़ीं खबरें...

धारा 377 को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया ऐतिहासिक फैसला

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (SC) ने गुरुवार को अपने एक ऐतिहासिक फैसले में धारा 377 के एक हिस्से को निरस्त कर दिया. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने अप्राकृतिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे में रखने वाली धारा 377 (Section 377) के हिस्से को तर्कहीन, सरासर मनमाना और बचाव नहीं किये जाने वाला करार दिया. वहीं SC/ST एक्ट के विरोध में सवर्णों  ने भारत बंद बुलाया. इस दौरान देश के अलग-अलग हिस्सों से हिंसा की खबरें सामने आईं. बिहार के कई जिलों में सवर्णों ने ट्रेनें रोकी और कई जगहों पर हाई-वे को भी बंद किया. उधर, नई दिल्ली में गुरुवार को भारत और अमेरिका के बीच अहम सैन्य समझौते COMCASA पर दस्तखत किए गए. अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस व विदेशमंत्री माइक पॉम्पियो तथा भारतीय रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के बीच 2+2 वार्ता के बाद संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी गई कि भारत और अमेरिका के बीच अहम सैन्य समझौते COMCASA पर दस्तखत किए गए, जिसके ज़रिये भारत को महत्वपूर्ण अमेरिकी रक्षा तकनीक हासिल करने में मदद मिलेगी. वहीं एक अन्य बड़ी घटना में तेलंगाना के मौजूदा मुख्यमंत्री के.चंद्रशेखर राव ने कैबिनेट की बैठक के बाद विधानसभा को भंग कर दिया. विधानसभा भंग करने के बाद अब राज्य में किसी भी वक्त विधानसभा चुनाव हो सकते हैं. उधर, अभिनेत्री उर्वशी रौतेला एक बार फिर ट्रोल हो गई. इस बार उन्हें अनुष्का शर्मा की तरह साड़ी पहनने को लेकर ट्रोल किया गया है. 


1. Section 377 पर SC ने कहा, जबरन बनाए गए संबंध, बच्चों और पशुओं के साथ यौनाचार अब भी अपराध
 
ftd549q

सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने गुरूवार को एकमत से 158 साल पुरानी आईपीसी की धारा 377 (Section 377) के उस हिस्से को निरस्त कर दिया जिसके तहत परस्पर सहमति से अप्राकृतिक यौन संबंध अपराध था. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने अप्राकृतिक यौन संबंधों को अपराध के दायरे में रखने वाली धारा 377 (Section 377) के हिस्से को तर्कहीन, सरासर मनमाना और बचाव नहीं किये जाने वाला करार दिया. संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति आर एफ नरिमन, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा शामिल हैं. संविधान पीठ ने धारा 377 (Section 377) को आंशिक रूप से निरस्त करते हुये इसे संविधान में प्रदत्त समता के अधिकार का उल्लंघन करने वाला करार दिया. पीठ ने चार अलग अलग परंतु परस्पर सहमति के फैसले सुनाये.प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने अपनी और न्यायाधीश ए एम खानविलकर ओर से कहा कि खुद को अभिव्यक्त नहीं कर पाना मरने के समान है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एलजीबीटी समुदाय को अन्य नागरिकों की तरह समान मानवीय और मौलिक अधिकार हैं. धारा 377 (Section 377) ‘अप्राकृतिक अपराधो’ से संबंधित है ओर इसमें कहा गया है कि जो कोई भी स्वैच्छा से प्राकृतिक व्यवस्था के विपरीत किसी पुरूष, महिला या पशु के साथ गुदा मैथुन करता है तो उसे उम्र कैद या फिर एक निश्चित अवधि के लिये कैद जो दस साल तक बढ़ाई जा सकती है, की सजा होगी और उसे जुर्माना भी देना होगा.  शीर्ष अदालत ने हालांकि अपनी व्यवस्था में कहा कि धारा 377 में प्रदत्त पशुओं ओर बच्चों से संबंधित अप्राकृतिक यौन संबंध स्थापित करने को अपराध की श्रेणी में रखने वाले प्रावधान यथावत रहेंगे. असहमति या जबरन बनाए गए संबंध इस धारा के तहत अपराध बने रहेंगे. 


2.भारत बंद Live: SC/ST एक्ट के विरोध में सवर्णों का आज भारत बंद, बिहार में कई जगह ट्रेनें रोकी गईं
 
sg45otn8

Bharat Bandh Live Updates: केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) द्वारा एससी-एसटी एक्ट (SC/ST Act) में संशोधन कर उसे मूल स्वरूप में बहाल करने के विरोध में सवर्ण समुदाय के संगठनों ने आज यानी 6 सितंबर को भारत बंद (Bharat Bandh) बुलाया है. मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में बंद को लेकर प्रदर्शनकारी सड़क पर उतरे हैं.  देश के कई इलाकों से सवर्ण संगठनों के भारत बंद के मद्देनजर एहतियातन कदम उठाए गये हैं. मध्य प्रदेश के ग्वालियर में जहां स्कूलों-कॉलेजों को बंद रखने के आदेश दिये गये हैं, वहीं, मध्य प्रदेश के 10 जिलों में एहतियात के तौर पर धारा 144 लगा दी गई है. धारा 144 भारत बंद के अगले दिन यानी 7 सितंबर तक प्रभावी रहेगी. इसके अलावा, मध्य प्रदेश में कई जगहों पर पेट्रोल पंप को भी बंद रखने का फैसला किया गया है.  इसके अलावा, मध्य प्रदेश में कई जगहों पर पेट्रोल पंप को भी बंद रखने का फैसला किया गया है. गौरतलब है कि पिछली बार 2 अप्रैल को भारत बंद एससी/एसटी एक्ट (SC/ST Amendment Bill) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court)  के फैसले के विरोध में दलित संगठनों ने बुलाया था. तब सबसे ज्यादा हिंसा मध्य प्रदेश के ग्वालियर और चंबल संभाग में हुई थी. इस वजह से इस बार मध्य प्रदेश प्रशासन इस बार भारत बंद को देखते हुए पूरी तरह सतर्क है. हालांकि, दलितों के बंद के विरोध में उस वक्त भी कुछ दिन बाद ही सवर्णों ने बंद का आह्वान किया था.


3. India-US 2+2 summit : भारत और अमेरिका के बीच अहम सैन्य समझौते COMCASA पर दस्तखत
 
u4t7lrro

अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस व विदेशमंत्री माइक पॉम्पियो तथा भारतीय रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण व विदेशमंत्री सुषमा स्वराज के बीच 2+2 वार्ता के बाद संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी गई कि भारत और अमेरिका के बीच अहम सैन्य समझौते COMCASA पर दस्तखत किए गए, जिसके ज़रिये भारत को महत्वपूर्ण अमेरिकी रक्षा तकनीक हासिल करने में मदद मिलेगी. भारतीय-अमेरिकी रक्षामंत्रियों व विदेशमंत्रियों के बीच 2+2 वार्ता के बाद संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस में विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, "हम न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में भारत के प्रवेश के लिए मिलकर काम करने पर सहमत हो गए हैं..." विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि हमने H-1B visa के मुद्दे पर भी चर्चा की. यह वीजा आईटी प्रोफेशनल्स पर प्रभाव डालता है. हमने अमेरिका से अपील की है कि हमारे संबंधों को प्रमुखता में रखें. 


4. तेलंगाना विधानसभा भंग, नई सरकार तक कार्यवाहक मुख्यमंत्री बने रहेंगे KCR
 
q7en0ca8

तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर ने गुरुवार यानी छह सितंबर को सुबह बुलाई मंत्रिमंडल की बैठक बुलाई में विधानसभा भंग करने का फैसला लिया है. तेलंगाना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव की विधानसभा भंग करने की सिफारिश को स्वीकार कर लिया है. राज्यपाल ने नई सरकार का गठन होने तक चंद्रशेखर राव से कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में पद पर बने रहने का आग्रह किया है.दरअसल मुख्यमंत्री केसीआर अपने लिए छह अंक को लकी मानते हैं, यही वजह है कि उन्होंने छह सितंबर की तिथि को ही विधानसभा भंग करने के लिए चुना.तेलंगाना में तेलंगाना राष्ट्रीय समिति (टीआरएस )सरकार का कार्यकाल  मई 2019 तक का है, मगर मुख्यमंत्री केसीआर इस साल के अंत में चार राज्यों में होने वाले चुनाव के साथ ही यहां भी चुनाव कराना चाहते हैं.राज्य में इस तरह की पिछले कुछ दिनों से अटकलें लग रहीं कि मुख्यमंत्री केसीआर विधानसभा भंग करने के बाद बड़ी रैली का आयोजन कर चुनाव का बिगुल फूकेंगे.

टिप्पणियां

5. अनुष्का शर्मा की तरह उर्वशी रौतेला ने भी पहनी साड़ी, यूजर्स ने यूं बनाया मजाक
 
savfop1

बॉलीवुड एक्ट्रेस व मॉडल उर्वशी रौतेला अपने बोल्ड और हॉट अंदाज के लिए पहचानी जाती हैं. सोशल मीडिया पर अक्सर एक्टिव रहने वाली उर्वशी ने हाल ही में एक तस्वीर शेयर की है. उर्वशी ने इंस्टाग्राम पर साड़ी पहने हुए जमीन पर बैठकर एक फोटो पोस्ट की. इस फोटो को देखने के बाद यूजर्स ने सीधा कनेक्शन अनुष्का शर्मा से जोड़ दिया. फिल्म 'सुई धागा' में अनुष्का की देसी अंदाज में पहनी हुई साड़ी को सोशल प्लैटफॉर्म पर खूब ट्रोल किया गया था. ठीक उसी तरह उर्वशी रौतेला की यह तस्वीर भी दिखाई दे रही है और यूजर्स इसे भी ट्रोल करने में जुट गए. उर्वशी की यह तस्वीर देखने के बाद आप भी अनुष्का शर्मा की वायरल हुई साड़ी वाली फोटो जरूर याद करेंगे.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement