सुप्रीम कोर्ट के जज ने पीएम मोदी की तारीफों के बांधे पुल, बताया- बहुमुखी प्रतिभा के धनी

सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठता में तीसरे स्थान पर आने वाले न्यायमूर्ति मिश्रा ने सम्मेलन के शुभारंभ के लिए पीएम मोदी का आभार जताया.

सुप्रीम कोर्ट के जज ने पीएम मोदी की तारीफों के बांधे पुल, बताया- बहुमुखी प्रतिभा के धनी

अप्रचलित हो चुके 1500 से ज्यादा कानूनों को खत्म करने के लिए अरूण मिश्रा ने पीएम मोदी की जमकर तारीफ की

नई दिल्ली:

सुप्रीम कोर्ट के जज न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा ने शनिवार को पीएम मोदी की जमकर तारीफ की और उन्हें इंटरनेशनल लेवल पर तारिफ-ए-काबिल और बहुमुखी प्रतिभा वाला ऐसा नेता बताया जिनकी सोच ग्लोबल लेवल की है, लेकिन काम वह स्थानीय हितों की तहत करते हैं. अप्रचलित हो चुके 1500 से ज्यादा कानूनों को खत्म करने के लिए मोदी और केंद्रीय विधि मंत्री रवि शंकर प्रसाद की तारीफ करते हुए जज मिश्रा ने कहा कि मोदी की अगुवाई में भारत अंतरराष्ट्रीय समुदाय का जिम्मेदार और सबसे अनुकूल सदस्य है.  सुप्रीम कोर्ट में अंतरराष्ट्रीय न्यायिक सम्मेलन 2020-‘न्यायपालिका और बदलती दुनिया' के उद्घाटन समारोह में उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर न्यायपालिका के समक्ष चुनौतियां समान हैं और बदलती दुनिया में न्यायपालिका की भूमिका महत्वपूर्ण है. 

ट्रंप परिवार के साथ क्या ताजमहल देखने नहीं जाएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी?

सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठता में तीसरे स्थान पर आने वाले न्यायमूर्ति मिश्रा ने सम्मेलन के शुभारंभ के लिए पीएम मोदी का आभार जताया. मिश्रा ने कहा, "गरिमापूर्ण मानव अस्तित्व हमारी अहम चिंता है. हम ग्लोबल लेवल की सोच रखकर अपने यहां काम करने वाले बहुमुखी प्रतिभा के धनी नरेंद्र मोदी का उनके प्रेरक भाषण के लिए शुक्रिया अदा करते हैं. उनके संबोधन सम्मेलन में विचार-विमर्श की शुरूआत के साथ और सम्मेलन का एजेंडा तय करने में उत्प्रेरक भूमिका निभाऐंगे." उन्होंने कहा कि भारत दुनिया में सबसे बड़ा लोकतंत्र है और लोगों को हैरानी होती है कि यह लोकतंत्र कैसे इतनी कामयाबी से काम करता है. 

PM मोदी ने किया अंतर्राष्ट्रीय न्यायिक सम्मेलन का उद्घाटन, बोले- हर भारतीय की न्यायपालिका पर बहुत आस्था है

Newsbeep

उन्होंने कहा, "इंटरनेशनल लेवल पर सराहना प्राप्त विजनरी पीएम नरेंद्र मोदी की अगुवाई में भारत एक जिम्मेदार और अंतरराष्ट्रीय समुदाय का मित्रतापूर्ण व्यवहार रखने वाला सदस्य है. डेवलेपमेंट की प्रक्रिया में पर्यावरण का संरक्षण सुप्रीम है." न्यायिक प्रणाली को मजबूत करने की जरूरत पर जोर देते हुए उन्होंने कहा, "अब हम 21 वीं सदी में हैं. हम केवल आज ही नहीं भविष्य के लिए मॉडर्न इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए भी देख रहे हैं." इस सम्मेलन में 20 से ज्यादा देशों के जज शिरकत कर रहे हैं. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: सफर पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की दोस्ती का