NDTV Khabar

पाकिस्तान के पास झूठ का पिटारा, पाक की गलतबयानी के 10 सबूत

पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान लगातार झूठ बोले जा रहा है. उसके एक के बाद एक बोले गए तमाम झूठ दुनिया के सामने आ गए फिर भी उसके झूठ बंद नहीं हुए हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नई दिल्ली:

पुलवामा हमले के बाद से पाकिस्तान लगातार झूठ बोले जा रहा है. उसके एक के बाद एक बोले गए तमाम झूठ दुनिया के सामने आ गए फिर भी उसके झूठ बंद नहीं हुए हैं. वैसे तो इस दौरान पाकिस्तान ने दसियों झूठ बोले, लेकिन हमने दस बड़े झूठ की फेहरिस्त तैयार की है. पाकिस्तान सेना ने सबसे बड़ा झूठ यह बोला कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का पाकिस्तान में कोई वजूद ही नहीं है. जबकि खुद पाकिस्तान के विदेश मंत्री ने माना कि प्रधानमंत्री इमरान खान जैश के मुखिया मसूद अजहर के संपर्क में हैं. वहीं, पाकिस्तान ने कहा कि भारत ने बिना सबूत पुलवामा हमले का इल्जाम लगाया. जबकि हकीकत यह है कि पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद ने खुद ही हमले के तुरंत बाद इसकी जिम्मेदारी ली थी. पाकिस्तान ने कहा कि उसने भारतीय वायुसीमा में अमेरिका में बने एफ16 लड़ाकू विमान नहीं भेजे. भारत ने उन मिसाइलों के टुकड़े दिखाए जो सिर्फ एफ-16 पर लगती हैं.

पाक की ग़लतबयानी के सबूत
 
झूठ नंबर-1: पाक सेना ने कहा कि जैश-ए-मोहम्मद का पाक में कोई वजूद नहीं.
सच: पाक विदेश मंत्री ने माना, इमरान जैश मुखिया मसूद अजहर के संपर्क में हैं.


झूठ नंबर-2:'बिना सबूत भारत ने हम पर पुलवामा हमले का इल्ज़ाम लगाया.'
सच: ख़ुद जैश ने पुलवामा हमले की ज़िम्मेदारी ली है.

झूठ नंबर-3: पाकिस्तान ने कहा एफ-16 का इस्तेमाल नहीं किया.
सच: भारत ने उन मिसाइलों के टुकड़े दिखाए जो सिर्फ एफ-16 पर लगती हैं.

झूठ नंबर-4: पाकिस्तान ने कहा भारत का एक मिग और एक सुखोई विमान गिराया.
सच: भारत ने कहा सारे सुखोई अभियान के बाद वापस आ गए.

झूठ नंबर-5: पाकिस्तान जल सीमा में भारतीय पनडुब्बी आने की बात कही.
सच: कोई पनडुब्बी गई ही नहीं, पाकिस्तान ने पुराना फुटेज दिखाया.

झूठ नंबर-6: इमरान खान ने कहा, गुडविल जेस्चर के तहत विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करेंगे.
सच: जेनेवा कंवेंशन के तहत अभिनंदन को रिहा करना ही पड़ता.

झूठ नंबर-7: 'हम भारत से आतंकवाद पर बातचीत को तैयार हैं'.
सच: हाफिज सईद, मसूद अजहर को पाक आतंकी मानने को ही तैयार नहीं.

झूठ नंबर-8: आतंकवादी संगठनों जमात-उद-दावा और फ़तह-ए-इंसानियत पर पाबंदी लगाई.
सच: पाबंदी लगाने की बात ग़लत, सिर्फ़ वॉच लिस्ट में रखा गया.

झूठ नंबर-9:'पुलवामा हमले से पाकिस्तान को कोई फ़ायदा नहीं है.'
सच: सियासी और सामरिक हितों के लिए पाक में आतंकी ठिकाने.

टिप्पणियां

झूठ नंबर-10: भारतीय एजेंसियों पर पाक में आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप.
सच: पाक द्विपक्षीय और वैश्विक मंच पर इसे कभी साबित नहीं कर पाया.

VIDEO: चुनाव इंडिया का: सामने आई शौर्य की तस्वीरें



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement