NEET परीक्षा से एक दिन पहले तमिलनाडु में 2 छात्रों ने की आत्महत्या

राष्ट्रीय प्रवेश एवं पात्रता परीक्षा (NEET) में खराब प्रदर्शन के भय से 19 वर्षीय एक परीक्षार्थी ने मदुरै आत्महत्या कर ली. वहीं धरमपुरी में एक छात्रा ने आत्महत्या की.

NEET परीक्षा से एक दिन पहले तमिलनाडु में 2 छात्रों ने की आत्महत्या

प्रतीकात्मक तस्वीर

चेन्नई:

राष्ट्रीय प्रवेश एवं पात्रता परीक्षा (NEET) में से ठीक एक दिन पहले तमिलनाडु में दो उम्मीदवारों के आत्महत्या की खबर ने झकझोर कर रख दिया. मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए अत्याधिक प्रतिस्पर्धी राष्ट्रीय परीक्षा NEET कोरोनावायरस संकट के बीच रविवार को आयोजित की जा रही है.

पुलिस ने आज बताया कि धर्मपुरी के एक स्क्रैप व्यापारी का बेटा, जो पिछले साल एनईईटी परीक्षा में फेल हो गया था और मदुरै की एक 19 वर्षीय लड़की जिसका नाम पिछले साल एनईईटी पास करने के बाद वेटिंग लिस्ट में था, उनकी आज आत्महत्या से मौत हो गई. पुलिस के मुताबिक महिला ने सुसाइड नोट में लिखा वह परीक्षा को लेकर आशंकित थी.

एक पुलिस अधिकारी ने NDTV को बताया, "लड़की ने 2017 में 12 वीं कक्षा पूरी की और पिछले साल हालांकि उसने NEET क्लियर कर लिया था. वह प्रतीक्षा सूची में थी. उसके पिता एक सब-इंस्पेक्टर और मां सरकारी कर्मचारी हैं."

ऐसा बताया जा रहा है कि खराब प्रदर्शन के भय से मदुरै की इस 19 वर्षीय एक परीक्षार्थी ने आत्महत्या कर ली. पुलिस ने कहा कि मृतका की पहचान जोतिश्री दुर्गा के रूप में की गई है और वह अपने घर में लटकी हुई पाई गई.

पुलिस ने कहा कि शव के पास से एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें मृतका ने कथित तौर पर लिखा कि उसे परीक्षा में अपने खराब प्रदर्शन का डर था. इस घटना से कुछ दिन पहले राज्य के अरियालुर जिले में एक अन्य परीक्षार्थी ने कथित रूप से आत्महत्या कर ली थी.

उप मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम द्वारा घटना पर शोक प्रकट किए जाने के बावजूद तमिलनाडु नीट परीक्षा कराए जाने का विरोध करने वाली विपक्षी पार्टियों ने सरकार पर निशाना साधा था. द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन ने कहा कि नीट कोई परीक्षा ही नहीं है. पन्नीरसेल्वम ने अपने एक ट्वीट में कहा कि इस प्रकार की घटनाएं दुखद हैं और छात्र भविष्य का आधार हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के नेता स्टालिन ने ट्वीट किया, “अनीता (2017 में आत्महत्या करने वाली छात्रा) से लेकर जोतिश्री दुर्गा तक की मौत से हमें यह समझ में आ जाना चाहिए कि नीट छात्रों को गंभीर रूप से प्रभावित कर रही है.” उन्होंने कहा, “मैं दोबारा कहता हूं कि आत्महत्या समाधान नहीं है. नीट कोई परीक्षा ही नहीं है.” (इनपुट एजेंसी भाषा से भी)

(अगर आपको सहायता की ज़रूरत है या आप किसी ऐसे शख्‍स को जानते हैं, जिसे मदद की दरकार है, तो कृपया अपने नज़दीकी मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य विशेषज्ञ के पास जाएं)
हेल्‍पलाइन :
1) वंद्रेवाला फाउंडेशन फॉर मेंटल हेल्‍थ : 1860-2662-345 / 1800-2333-330 (24 घंटे उपलब्ध)
2) TISS iCall - 022-25521111 (सोमवार से शनिवार तक उपलब्‍ध - सुबह 8:00 बजे से रात 10:00 बजे तक)



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)