NDTV Khabar

सिरसा में डेरा सच्चा सौदा परिसर में रहकर पढ़ रही लड़की गायब

डेरा कर्मी ने बताया कि राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद लड़की डेरा छोड़कर चली गई, हरियाणा के तिवाला में रहने वाला लड़की का परिवार उसे खोजने में जुटा

657 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
सिरसा में डेरा सच्चा सौदा परिसर में रहकर पढ़ रही लड़की गायब

सिरसा में डेरा सच्चा सौदा परिसर में रहने वाली एक लड़की गायब हो गई है.

खास बातें

  1. वर्ष 2008 से लड़की श्रद्धा से संपर्क में नहीं था परिवार
  2. डेरा कर्मी परिवार के लोगों को मिलने नहीं देते थे
  3. डेरा में मिलीं लड़कियों को किशोर सुधार गृहों में भेजा
चंडीगढ़: सिरसा में डेरा सच्चा सौदा परिसर में रहकर पढ़ाई कर रही एक लड़की के परिवार वालों ने डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बलात्कार के मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद से उसके लापता होने का दावा किया है.

हरियाणा के तिवाला में रहने वाले परिवार ने दावा किया कि वे 2008 से श्रद्धा से संपर्क में नहीं थे. उसके रिश्तेदार परिमंदर सिंह अपने साथी गांव वालों के साथ सिरसा में उसे तलाशने का प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने दावा किया कि आखिरी बार उन्हें श्रद्धा के बारे में डेरा की तरफ से निकाली जाने वाली एक पत्रिका में जानकारी मिली थी जिसमें उसे एक योगाभ्यास करने वाला बताया गया था.

यह भी पढ़ें : गुरमीत राम रहीम की सुरक्षा बनी सुनारिया जेल के कैदियों के लिए सिरदर्द, बंदियों ने की हड़ताल

परिमंदर सिंह ने कहा, ‘‘साहे बेटियां बसेरा (नाबालिग लड़कियों के लिए आश्रय गृह) की संरक्षक पूनम ने कहा कि डेरा प्रमुख (गुरमीत राम रहीम) को दोषी ठहराए जाने के बाद श्रद्धा डेरा छोड़कर चली गई थी.’’ उन्होंने बताया कि उन्होंने सच्चा सौदा के दूसरे पदाधिकारियों से भी संपर्क करने की कोशिश की. 28 अगस्त को सीबीआई की विशेष अदालत ने दो महिला अनुयायियों के बलात्कार के लिए राम रहीम को 20 साल की कैद की सजा सुनाई थी.

यह भी पढ़ें : डेरा प्रमुख की सहयोगी हनीप्रीत कौर और आदित्य की तलाश के लिए छापेमारी जारी

सिंह ने आरोप लगाया, ‘‘श्रद्धा को पढ़ाई के लिए लंबे समय पहले डेरा में डाल दिया गया था. 2008 में हमने उससे मिलने की कोशिश की लेकिन डेरा कर्मियों ने हमें मिलने नहीं दिया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने डेरा के पदाधिकारियों से उनके मोबाइल फोन पर संपर्क करने की कोशिश की लेकिन यह पूरी कवायद विफल रही.’’ सिंह ने कहा कि क्योंकि डेरा के आसपास कर्फ्यू लगा है, ऐसे में अंदर जाना भी बेहद मुश्किल है. डेरा संचालित ‘साहे बेटियां बसेरा’ में करीब 29 लड़कियां रह रही थीं.

यह भी पढ़ें : गुरमीत राम रहीम ने भागने के लिए रचा था चक्रव्यूह, हरियाणा पुलिस ने खोला लाल बैग का राज

सिरसा के उपायुक्त प्रभजोत सिंह ने इससे पहले कहा था, ‘‘18 नाबालिग लड़कियों ने कहा कि वे खुश हैं और बाहर नहीं जाना चाहतीं. लेकिन हमने डेरा प्रबंधन को रजामंद किया और उनकी मदद से लड़कियों को बाहर ले आए.’’ अधिकारियों ने बताया कि इन लड़कियों को सोनीपत सहित हरियाणा में अलग-अलग जगहों पर किशोर सुधार गृहों में भेज दिया गया.

VIDEO : हथियारों के साथ समर्थक

श्रद्धा के परिवार के जैसे ही दिल्ली में रहने वाले सुचेतना और अपार के परिवार वाले भी उनके लौटने का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं.
(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement