आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी की 1400 बीघा जमीन सरकार की हुई

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर के सांसद मोहम्मद आजम खान को करारा झटका, शासन की भूमि खरीदने की अनुमति की शर्तों का पालन नहीं किया गया

आजम खान की जौहर यूनिवर्सिटी की 1400 बीघा जमीन सरकार की हुई

समाजवादी पार्टी के नेता आजम खान (फाइल फोटो).

लखनऊ:

यूपी के रामपुर में जौहर यूनिवर्सिटी की 1400 बीघा जमीन सरकार के नाम दर्ज करने का आदेश दिया गया है. रामपुर एडीएम प्रशासन के राजस्व न्यायालय में वाद का निर्णय देते हुए समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के वरिष्ठ नेता और रामपुर (Rampur) के सांसद मोहम्मद आजम खान (Azam Khan) की अध्यक्षता वाली मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी रामपुर के नाम साढ़े 12 एकड़ से अधिक भूमि है. उसके अलावा 1400 बीघा भूमि राज्य सरकार की संपत्ति घोषित किए जाने के आदेश दिए गए हैं. इन आदेशों के बाद अब एसडीएम सदर रामपुर को इस भूमि पर कब्जा प्राप्त करने और राजस्व अभिलेखों में राज्य सरकार के नाम दर्ज करने की कार्यवाही करनी है.

रामपुर सदर तहसील में मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी ट्रस्ट के नाम उसके अध्यक्ष समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर के सांसद मोहम्मद आजम खान द्वारा जमीनें खरीदकर उस पर यूनिवर्सिटी बनाई गई थी. शासन से साढ़े 12 एकड़ से अधिक भूमि रखने की अनुमति लेने के बाद जौहर यूनिवर्सिटी ट्रस्ट के नाम जमीनें खरीदी गई थीं. प्रदेश में सत्ता बदलने के बाद भारतीय जनता पार्टी की सरकार आते ही जौहर यूनिवर्सिटी के विरुद्ध कार्रवाईयां होने लगीं. 

ताजातरीन कार्रवाई के तहत एडीएम प्रशासन रामपुर के राजस्व न्यायालय ने एक फैसला सुनाते हुए यह माना है कि मोहम्मद आजम खान, अध्यक्ष मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट द्वारा शासन द्वारा साढ़े 12 एकड़ से अधिक भूमि खरीदने की अनुमति जिन शर्तों के अधीन दी गई थी उनका पालन नहीं किया गया. इसलिए शर्तों का उल्लंघन मानते हुए मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट के नाम दर्ज भूमि में साढ़े 12 एकड़ भूमि छोड़कर शेष 70 हेक्टेयर भूमि जो कि लगभग 14 सौ बीघा होती है राज्य सरकार के नाम राजस्व अभिलेखों में दर्ज किए जाने और उस पर कब्जा प्राप्त करने के आदेश पारित किए हैं. 

एडीएम प्रशासन रामपुर द्वारा पारित फैसला मोहम्मद आजम खान के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है. यह फैसला ऐसे समय आया है जब आजम खान अपने विधायक पुत्र अब्दुल्लाह आजम खान के साथ पिछले 11 माह से सीतापुर जेल में बंद हैं और उन पर सत्ता परिवर्तन के बाद सौ से अधिक मामले दर्ज हो चुके हैं. इनमें से अधिकतर में जमानत भी मिल गई है लेकिन अभी जेल से रिहाई आसान नहीं है. ऐसे में आजम खान के ड्रीम प्रोजेक्ट जौहर यूनिवर्सिटी की भूमि को सरकारी घोषित करने और उस पर कब्जा प्राप्त करने की कार्रवाई उनके लिए किसी त्रासदी से कम नहीं है.

शासकीय अधिवक्ता अजय तिवारी ने बताया कि मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट के अध्यक्ष मोहम्मद आजम खान द्वारा साढ़े 12 एकड़ से अधिक भूमि खरीदने की अनुमति जो शासनादेश के आधार पर मांगी गई थी उनके द्वारा शासनादेश द्वारा दी गई शर्तों का पालन नहीं किया गया. इसको लेकर एक वाद एडीएम जेपी गुप्ता के न्यायालय में चल रहा था. उस पर आज फैसला आया है. जौहर ट्रस्ट की साढ़े बारह एकड़ जमीन है. उसको छोड़कर बाकी 70.005  हेक्टयर भूमि राज्य सरकार में निहित करने का आदेश एडीएम जेपी गुप्ता जी की कोर्ट ने पारित किया है. उप जिलाधिकारी सदर को यह भी आदेशित किया है कि वह नियमानुसार कब्जा प्राप्त करें और अभिलेखों में अंकन की कार्यवाही करें.


सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान की पत्नी व बेटे की जमानत के खिलाफ UP सरकार की अर्जी पर सुनवाई टाली

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उधर आजम खान के राजनैतिक धुर विरोधी और भाजपा नेता आकाश सक्सेना उर्फ हनी जो कि इस मामले के शिकायतकर्ता भी हैं, इस फैसले से उत्साहित हैं. उनका कहना है कि इस निर्णय के बाद अब जब अधिकतर जमीन सरकार की हो चुकी है तो उस पर बनी हुई जौहर यूनिवर्सिटी को भी सरकार को अधिग्रहीत कर लेना चाहिए.