NDTV Khabar

सर्जिकल स्ट्राइक का Video हुआ जारी, जवानों ने POK में घुसकर की थी कार्रवाई

ड्रोन से शूट क़रीब 8 मिनट के इस वीडियो में दिखाया गया है कि किस तरह सेना ने आतंकियों के बंकरों को तबाह कर दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सर्जिकल स्ट्राइक का Video हुआ जारी, जवानों ने POK में घुसकर की थी कार्रवाई

सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो ड्रोन के कैमरे से लिया गया है

खास बातें

  1. 8 मिनट का है वीडियो
  2. ड्रोन कैमरे से बनाया गया है ये वीडियो
  3. 29 सितंबर 2016 को हुई थी सर्जिकल स्ट्राइक
नई दिल्ली: 29 सितंबर 2016  को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी कर दिया गया है. ड्रोन से शूट क़रीब 8 मिनट के इस वीडियो में दिखाया गया है कि किस तरह सेना ने आतंकियों के बंकरों को तबाह कर दिया. साथ ही कुछ आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया. टीवी चैनलों पर सितंबर 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो दिखाये जाने के बाद , तत्कालीन रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने आज कहा कि कांग्रेस को भारतीय सैन्य बलों की कार्रवाई पर संदेह करने की अपनी ‘‘गलती’’ को महसूस करना चाहिये. 

सर्जिकल स्ट्राइक का फुटेज आखिर अब क्यों जारी किया गया ?

टिप्पणियां
वहीं कांग्रेस ने डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत 69 के पार चले जाने को 'भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए काला दिन' करार दिया और सवाल किया कि क्या रुपये के अवमूल्यन से ध्यान भटकाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो चुनिंदा ढंग से जारी किया गया.  पार्टी ने यह आरोप भी लगाया कि 'फर्जी राष्ट्रवादी' भाजपा हमारे जवानों की बहादुरी और बलिदान का राजनीतिक और चुनावी फायदा उठाने को आतुर है. वहीं सर्जिकल स्ट्राइल पर कांग्रेस के सवालों पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा, कांग्रेस सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाकर पाकिस्तान के आतंकियों का हौसला मजबूत कर रही है. कांग्रेस के बयानों से लग रहा है कि अब वह मुख्यधारा की पार्टी नहीं रही है. केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'जब पूरा देश भारतीय सेना के जवानों और अधिकारियों के साहस पर गर्व कर रहा था तो राहुल गांधी ने सर्जिकल स्ट्राइक को खून की दलाली कहा था.'​

सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के ऊरी में सेना पर आतंकी हमला हुआ था. जिसमें कई जवानों की मौत हो गई थी इस घटना के बाद पूरे देश में गुस्सा था. हमले पर पीएम मोदी ने एक रैली में ऐलान किया था कि जवानों की शहादत बेकार नहीं जाएगी. उसके बाद कुछ महीने बाद सेना ने इस सर्जिकल स्ट्राइक की थी. लेकिन उस समय राजनीतिक दलों ने इसके सबूत मांगे थे.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement