NDTV Khabar

जुलाई माह में थोक महंगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी, साथ ही खाने-पीने की चीजें भी हुईं महंगी

जून में यह 0.90 फीसदी थी. थोक महंगाई दर में जो इजाफा देखा गया है इसकी वजह खाने-पीने की चीज़ों का महंगा होना है.

6 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
जुलाई माह में थोक महंगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी, साथ ही खाने-पीने की चीजें भी हुईं महंगी

थोक मंहगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  1. थोक मुद्रास्फीति जुलाई में उछलकर 1.88 प्रतिशत पर पहुंच गयी.
  2. थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति जून 2017 में 0.90 प्रतिशत थी.
  3. वहीं जुलाई 2016 में यह 0.63 प्रतिशत थी.
नई दिल्ली: जुलाई माह में देश के थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर बढ़कर 1.88 फीसदी रही. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई में थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित महंगाई दर बढ़कर 1.88 फीसदी रही, जबकि जून में यह 0.90 फीसदी थी. थोक महंगाई दर में जो इजाफा देखा गया है इसकी वजह खाने-पीने की चीज़ों का महंगा होना है.

जुलाई माह में सब्जियों की महंगाई दर 21.16 से बढ़कर 21.95 फीसदी हो गई, जबकि खाद्य महंगाई जुलाई में 1.25 फीसदी से बढ़कर 2.12 हो गई. माल एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के पहले महीने में कुछ जिंसों के दाम बढ़ने से थोक मुद्रास्फीति जुलाई में उछलकर 1.88 प्रतिशत पर पहुंच गयी.

यह भी पढ़ें : हुआ रिकॉर्ड उत्पादन, फिर भी है अनाज की कमी की चिंता

थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति जून 2017 में 0.90 प्रतिशत थी. वहीं जुलाई 2016 में यह 0.63 प्रतिशत थी. यहां सोमवार जारी सरकारी आंकड़े के अनुसार खाद्य वस्तुओं की कीमत जुलाई में सालाना आधार पर 2.15 प्रतिशत बढ़ी. वहीं जून में कीमत में 3.47 प्रतिशत की गिरावट आयी थी.

सब्जियों की कीमत में जुलाई महीने में 21.95 प्रतिशत का उछाल आया जबकि जून में इसमें 21.16 प्रतिशत की गिरावट आयी थी. हालांकि विनिर्मित वस्तुओं की महंगाई दर जुलाई में घटकर 2.18 प्रतिशत रही जो जून में 2.27 प्रतिशत थी. ईंधन और बिजली खंड में मुद्रास्फीति आलोच्य महीने में कम होकर 4.37 प्रतिशत हो गयी जो पिछले महीने में 5.28 प्रतिशत थी.

सब्जी के अलावा अंडा, मांस और मछली समेत खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर आलोच्य महीने में बढ़कर 3.30 प्रतिशत पहुंच गयी. फलों की मुद्रास्फीति 2.71 प्रतिशत अनाज 0.63 प्रतिशत तथा धान की महंगाई दर 3.47 प्रतिशत दर्ज की गयी.

हालांकि आलू, दाल और प्याज के मूल्यों में क्रमश: 42.45 प्रतिशत, 32.56 प्रतिशत तथा प्याज में 9.50 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी। इस बीच, मई की थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति मामूली रूप से बढ़कर 2.26 प्रतिशत हो गयी जबकि पूर्व में इसके 2.17 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया था.

 Video : मुंबई से ग्राउंड रिपोर्ट - जीएसटी से परेशान मछुआरे
देश में जीएसटी एक जुलाई से लागू किया गया था.
(इनपुट :एजेंसी से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement