Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

भोपाल में पुलिस प्रताड़ना से परेशान महिला के आत्मदाह पर हंगामा, 'आप' के तीन नेता गिरफ्तार

लोगों ने शहर के गांधीनगर थाने के सामने प्रदर्शन किया, थाने पर पथराव, पुलिस ने आंसूगैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
भोपाल में पुलिस प्रताड़ना से परेशान महिला के आत्मदाह पर हंगामा, 'आप' के तीन नेता गिरफ्तार

प्रतीकात्मक फोटो.

भोपाल:

मध्य प्रदेश की राजधानी में कथित तौर पर पुलिस प्रताड़ना के चलते एक महिला ने आत्मदाह कर लिया. पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर स्थानीय लोगों ने आम आदमी पार्टी के साथ शहर के गांधीनगर थाने के सामने प्रदर्शन किया. भीड़ ने थाने पर पथराव किया, पुलिस ने आंसूगैस के गोले छोड़ने के साथ लाठीचार्ज किया. साथ ही आप के तीन नेताओं को गिरफ्तार कर लिया.

सूरज बाई ने बताया कि गांधी नगर थाने के पुलिस जवानों ने उसकी परिजन इंद्रमल बाई (35) से 20 हजार रुपये की मांग करते हुए धमकाया. इससे परेशान होकर उसने 17 नवंबर को केरोसिन डालकर आग लगा ली. रविवार को देर रात को उपचार के दौरान हमीदिया अस्पताल में उसकी मौत हो गई. इंद्रमल के परिजनों और पारदी समाज के लोगों ने सोमवार को गांधीनगर थाने के सामने प्रदर्शन किया. इसी बीच आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल के साथ कई कार्यकर्ता वहां पहुंच गए. उन्होंने पीड़ितों की मांग का समर्थन किया. वे जब थाने के भीतर जाने लगे तो उनकी पुलिस से धक्का-मुक्की भी हुई.

यह भी पढ़ें : साहूकार से पीड़ित परिवार ने आत्मदाह किया, महिला और दो बच्चों की मौत


अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर यादव ने बताया कि भीड़ ने थाने पर पथराव किया. इस पथराव में चार पुलिस जवानों को चोटें आईं, वहीं वाहन क्षतिग्रस्त हुए. पुलिस ने आंसूगैस का उपयोग कर भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया. साथ ही आप के प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल, पंकज सिंह और मुन्ना सिंह को गिरफ्तार कर लिया. आप का आरोप है कि अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक समीर यादव ने पुलिस वालों पर एफआईआर करने से मना कर दिया और उल्टा प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल और प्रदेश संगठन सचिव पंकज सिंह के साथ मारपीट कर उन्हें घसीटा गया.

टिप्पणियां

VIDEO : नाबलिग ने किया आत्मदाह

प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने कहा है कि एक महिला को पुलिस परेशान करती है, जिसके चलते वह आत्महत्या कर लेती है, और उस मामले में एफआईआर करने की जगह पुलिस उल्टा मांग करने वालों को गिरफ्तार करती है. शिवराज के शासन में कानून व्यवस्था पूर्णता ध्वस्त हो चुकी है.
(इनपुट आईएएनएस से)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


 Share
(यह भी पढ़ें)... पक्षियों ने अपने बच्चे को ऐसे खिलाया खाना, IFS ऑफिसर ने शेयर किया वीडियो, बोले- 'प्रकृति की सबसे...' देखें Video

Advertisement