NDTV Khabar

अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर उनके आवास ले जाया गया, सीएम योगी ने कहा- राजनीति के महायुग का अवसान

आपको बता दें कि  पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर आज रात कृष्णा मेनन मार्ग स्थित उनके आवास पर ही रहेगा. शुक्रवार को तकरीबन 9 बजे उनके पार्थिव शरीर को बीजेपी मुख्यालय लाया जाएगा.

386 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर उनके आवास ले जाया गया, सीएम योगी ने कहा- राजनीति के महायुग का अवसान

अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर उनके आवास ले जाया गया है.

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने  पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी  के निधन पर गुरुवार को गहरा दुख व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि भारत की राजनीति में मूल्यों और आदर्शो को प्राथमिकता देने वाले, स्वतंत्र भारत के ढांचागत विकास के दूरदृष्टा, भारतीय राजनीति के शलाका पुरुष पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी का निधन भारत की राजनीति के महायुग का अवसान है. अपने शोक संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी के लिए राष्ट्रहित सर्वोपरि था. राष्ट्र के प्रति वाजपेयी की सेवाओं के दृष्टिगत उन्हें देश का सर्वोच्च सम्मान 'भारतरत्न' प्रदान किया गया था.  मुख्यमंत्री ने कहा कि वे लोकप्रिय और सर्वमान्य नेता थे, जिनका सभी सम्मान करते थे. भारत के लोकतांत्रिक इतिहास में अटल जैसा विराट व्यक्तित्व मिलना कठिन है. उनका 6 दशक का निष्कलंक राजनैतिक जीवन हमेशा याद किया जाएगा. अटल ने राजनीति को मूल्यों और सिद्धांतों से जोड़कर देश में सुशासन की आधारशिला रखी थी.  योगी ने कहा कि एक ओजस्वी वक्ता और प्रखर सांसद के रूप में अटल की विशिष्ट पहचान थी. भारतीय संसद की गौरवशाली परंपराओं को समृद्ध करने के लिए अटल को सर्वश्रेष्ठ सांसद का पुरस्कार भी प्रदान किया गया था.

विपक्ष आपको हमेशा याद रखेगा अटल जी...


आपको बता दें कि  पू्र्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर आज रात कृष्णा मेनन मार्ग स्थित उनके आवास पर ही रहेगा. शुक्रवार को तकरीबन 9 बजे उनके पार्थिव शरीर को बीजेपी मुख्यालय लाया जाएगा. तकरीबन 1.30 बजे अंतिम यात्रा निकाली जाएगी, जो बीजेपी दफ्तर से राजघाट के के पीछे राष्ट्रीय स्मृति स्थल तक जाएगी. वहीं पर उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा. गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार को दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स)में निधन हो गया. वह 93 वर्ष के थे. उनका 11 जून से एम्स में इलाज चल रहा था. उन्हें एम्स में जीवन रक्षक प्रणाली (लाइफ सपोर्ट सिस्टम) पर रखा गया था. उनकी हालत बुधवार रात से ही काफी नाजुक बनी हुई थी.  प्रधानमंत्री मोदी समेत देश के कई वरिष्ठ नेता और मंत्री भी वाजपेयी का हाल-चाल जानने एम्स पहुंचे थे. 

'पहरा कोई काम न आया, रसघट रीत चला, जीवन बीत चला...'​

वाजपेयी को 2014 में देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था. वाजपेयी 3 बार प्रधानमंत्री रहे. वह पहली बार 1996 में प्रधानमंत्री बने और उनकी सरकार सिर्फ 13 दिनों तक ही चल पाई थी. 1998 में वह दूसरी बार प्रधानमंत्री बने, तब उनकी सरकार 13 महीनों तक चली थी. 1999 में वाजपेयी तीसरी बार प्रधानमंत्री बने और 5 सालों का कार्यकाल पूरा किया. 

टिप्पणियां


 

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement