Independence Day 2018: 5 साल में बदले PM नरेंद्र मोदी के साफे, थी ये खास बात

Independence Day 2018: PM Narendra Modi ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में साफा बांधने की अपनी परंपरा को जारी रखते हुए आज लाल किले के प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए केसरिया रंग का साफा पहना.

Independence Day 2018: 5 साल में बदले PM नरेंद्र मोदी के साफे, थी ये खास बात

इस बार PM नरेंद्र मोदी के साफे में थी ये खास बात.

Independence Day 2018: PM Narendra Modi ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में साफा बांधने की अपनी परंपरा को जारी रखते हुए आज लाल किले के प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए केसरिया रंग का साफा पहना, जिसकी किनारी लाल बंधेज की थी. हर साल पीएम मोदी के साफे बदलते गए. पिछले 5 साल में वो अलग-अलग अंदाज में नजर आए. 
 

urti57vg

इस साल भी साफा बांधने की अपनी परंपरा को जारी रखते हुए आज लाल किले के प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए केसरिया रंग का साफा पहना, जिसकी किनारी लाल बंधेज की थी.
 

a07jkab8

पिछले साल प्रधानमंत्री ने क्रीम और पीले-लाल रंग का साफा पहना था.
 

jh0duo8g

2016 में उन्होंने लाल-गुलाबी-पीले रंग का राजस्थानी साफा पहना था.
 

00gfv1uo


2015 में भी वह लाल एवं हरे रंग की पट्टियों वाला साफा पहने नजर आए थे.

pv1qh6e8

2014 में अपने पहले संबोधन के दौरान नांरगी और हरे रंग का जोधपुरी साफा बांधा था.

...जब लाल किला पर जश्न-ए-आजादी में झूम रहे बच्चों के बीच अचानक पहुंचे पीएम मोदी, देखें वीडियो

 
इस साल पीएम मोदी ने दिया 82 मिनट का भाषण
पीएम मोदी ने आज लालकिले की प्राचीर से 82 मिनट का भाषण दिया जो 15 अगस्त को दिया गया उनका तीसरा सबसे बड़ा संबोधन रहा. प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साल यानी वर्ष 2017 में स्वतंत्रता दिवस पर अपना सबसे छोटा भाषण दिया था. तब उनका भाषण 54 मिनट का था. मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में 15 अगस्त 2014 को लाल किले की प्राचीर से पहली बार देश की जनता को संबोधित किया था. उस समय उन्होंने 65 मिनट का भाषण दिया था. इसके बाद साल 2015 में उनका संबोधन 86 मिनट तक चला था और 2016 में उनका भाषण डेढ़ घंटे से अधिक समय तक चला था. 2016 में उन्होंने 94 मिनट का भाषण दिया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

लाल किले से कश्मीर पर बोले पीएम मोदी : हम गोली और गाली के रास्ते नहीं, गले लगाकर आगे बढ़ना चाहते हैं, 10 बातें

लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित कर रहे प्रधानमंत्री ने इस बार प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान, देश की अर्थव्यवस्था में सुधार, मुद्रा योजना एवं स्वच्छ भारत मिशन के सकारात्मक प्रभाव, जम्मू-कश्मीर, पूर्वोत्तर, माओवाद, किसानों, तीन तलाक विरोधी विधेयक और कई अन्य मुद्दों के बारे में बात की.