'ई-संजीवनी' ओपीडी के माध्यम से 6 महीने में 3 लाख लोगों ने फोन पर लिया परामर्श

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुरू की गई 'ई-संजीवनी' ओपीडी (E-Sanjeevani OPD) ने अपने शुरुआत के छह महीने के भीतर ही तीन लाख से अधिक लोगों को फोन के जरिए परामर्श प्रदान किया है.  

'ई-संजीवनी' ओपीडी के माध्यम से 6 महीने में 3 लाख लोगों ने फोन पर लिया परामर्श

'ई-संजीवनी' ओपीडी के माध्यम से 6 महीने में 3 लाख लोगों ने फोन पर लिया परामर्श

नई दिल्ली:

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुरू की गई 'ई-संजीवनी' ओपीडी (E-Sanjeevani OPD) ने अपने शुरुआत के छह महीने के भीतर ही तीन लाख से अधिक लोगों को फोन के जरिए परामर्श प्रदान किया है.  इसका लाभ उठाने वालों में से 90 फीसदी तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, केरल और उत्तराखंड राज्य से हैं. मंत्रालय ने कहा, कि कोविड-19 महामारी (Covid 19 Pandemic) के बीच ई-संजीवनी ओपीडी के तहत मरीज फोन के जरिए डॉक्टर से स्वास्थ्य सलाह ले सकते हैं.

यह भी पढ़ें- दिल्ली में 2 हजार के पार हुई कंटेनमेंट जोन की संख्या, पिछले 24 घंटे में सामने आए 3834 नए मामले

उन्होंने कहा, '' इस मंच के माध्यम से सामाजिक दूरी के नियमों का पालन सुनिश्चित करने से संक्रमण को काबू करने में भी सहायता मिली.  साथ ही यह गैर कोविड-19 स्वास्थ्य सेवाओं को मुहैया कराने में भी सहायक साबित हुआ इतनी अधिक संख्या में लोगों का फोन के माध्यम से परामर्श लेना नागरिकों के बीच इसकी लोकप्रियता को दर्शाता है.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

यह भी पढ़ें- Covaxin के ट्रायल को योगी सरकार की मंजूरी, इन शहरों में होगा परीक्षण

मंत्रालय के मुताबिक, तमिलनाडु के लोगों ने सबसे अधिक इस सुविधा का लाभा उठाया और इनकी संख्या 1,29,801 रही. इसके बाद, परामर्श के लिए उत्तर प्रदेश से 96,151 कॉल प्राप्त हुईं जबकि केरल से 32,921 और उत्तराखंड से 10,391 लोगों ने संपर्क साधा. ई-संजीवनी ओपीडी के लिए 4,600 डॉक्टरों को प्रशिक्षित किया गया था और प्रतिदिन देशभर के औसतन 6,000 लोगों ने इस सुविधा का लाभ उठाया.



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)