NDTV Khabar

बने रहना है जवान तो एंटी-एजिंग क्रीम छोड़‍िए, रोज खाइए बस एक आंवला

कहते हैं, बुजुर्गो की बात का और आंवले के स्वाद का पता बाद में चलता है. इसका नियमित सेवन दिल की बीमारी, डायबिटीज, बवासीर, अल्सर, दमा, ब्रॉन्काइटिस और फेफड़ों की बीमारी में राम बाण का काम करता है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बने रहना है जवान तो एंटी-एजिंग क्रीम छोड़‍िए, रोज खाइए बस एक आंवला

आंवला आपको लंबे समय तक जवान बनाए रखता है

खास बातें

  1. आंवला खाने से बुढ़ापा दूर रहता है, यौवन बरकरार रहता है
  2. लंबी उम्र के लिए आंवला चूर्ण रात के समय घी, शहद या पानी के साथ लें
  3. आंवला का पेस्‍ट लगाने से बाल घने, मुलायम और काले बनते हैं
नई द‍िल्‍ली :

आंवला को हर मर्ज की दवा भी कहा जाता है. कहते हैं, बुजुर्गो की बात का और आंवले के स्वाद का पता बाद में चलता है. आंवला को प्राचीन आयुर्वेदिक प्रणाली में कई तरह के रोगों के इलाज के लिए लगभग पांच हजार साल से इस्‍तेमाल किया जा रहा है. इसका नियमित सेवन दिल की बीमारी, डायबिटीज, बवासीर, अल्सर, दमा, ब्रॉन्काइटिस और फेफड़ों की बीमारी में राम बाण का काम करता है. पतंजलि योगपीठ हरिद्वार के आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि आंवला के सेवन से बुढ़ापा दूर रहता है, यौवन बरकरार रहता है, पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है, आंखों की रोशनी, स्मरण शक्ति बढ़ती है, त्वचा और बालों को पोषण मिलता है.

आंवले के 10 ऐसे फायदे जिन्‍हें जानना आपके लिए है बेहद जरूरी

आचार्य बालकृष्‍ण के मुताबिक लंबी उम्र के लिए आंवला चूर्ण रात के समय घी, शहद या पानी के साथ सेवन करना चाहिए. इसी तरह आंवला चूर्ण 3 से 6 ग्राम लेकर आंवले के स्वरस और 2 चम्मच शहद और 1 चम्मच घी के साथ दिन में दो बार चटाकर दूध पीयें, इससे बुढ़ापा जाता है, आप जवान बने रहते हैं.


उन्होंने कहा कि आंवला, रीठा, शिकाकाई तीनों का काथ बनाकर सिर धोने से बाल मुलायम, घने और लंबे होते हैं. सूखे आंवले 30 ग्राम, बहेड़ा 10 ग्राम, आम की गुठली की गिरी 50 ग्राम और लोह चूर्ण 10 ग्राम रातभर कढ़ाई में भिगोकर रखें और बालों पर इसका लेप लगाने से छोटी उम्र में सफेद हुए बाल कुछ ही दिनों में काले पड़ जाते हैं.

जानिए खांसी-जुकाम में क्या खाएं और क्या नहीं

आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि आंवले के 20 मिलीलीटर रस में 5 ग्राम शक्कर और 10 ग्राम शहद पीने से योनिदाह में अत्यंत आराम होता है. इसी तरह आंवले के बीज 3 से 6 ग्राम जल में ठंडाई की तरह पीस-छानकर उसमें शहद और मिश्री मिलाकर पिलाने से तीन दिन में ही श्वेतप्रदर यानी कि ल्‍यूकोरिआ में खास फायदा होता है.
 


इन बीमारियों में ऐसे करें आंवले का इस्‍तेमाल
टिप्पणियां

नेत्ररोग: 20-50 ग्राम आंवलों को जौकुट कर दो घंटे तक आधा किलोग्राम पानी में औटाकार उस जल को छानकर दिन में तीन बार आंखों में डालने से नेत्र रोगों में लाभ मिलता है.

नकसी: जामुन, आम और आंवले को बारीक पीसकर माथे पर लेप करने से नाक से खून आना बंद हो जाता है.
 
VIDEO: खुद को कैसे रखें हेल्‍दी?INPUT: IANS



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement