AAP-कांग्रेस गठबंधन पर लगेगी मुहर? सीटों पर फंसे पेंच को लेकर राहुल गांधी के घर हुई बैठक खत्म, फैसले का इंतजार

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन पर काफी समय से ऊहापोह की स्थिति कायम है

AAP-कांग्रेस गठबंधन पर लगेगी मुहर? सीटों पर फंसे पेंच को लेकर राहुल गांधी के घर हुई बैठक खत्म, फैसले का इंतजार

AAP-Congress Alliance: राहुल गांधी ने फिर बुलाई बैठक

नई दिल्ली:

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले दिल्ली में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन पर काफी समय से ऊहापोह की स्थिति कायम है. कभी हां, कभी ना के बीच आज फिर से AAP-कांग्रेस गठबंधन को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के घर पर अहम बैठक थी. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बैठक बुलाई थी. राहुल के घर पर 10.30 बजे हुई इस बैठक में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित और दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको भी मौजूद थे. क्योंकि इन्हें खुद राहुल गांधी ने बैठक में बुलाया था. बताया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच सीटों को लेकर पेच फंसा है, जिसे सुलझाने की काफी दिनों से कोशिश की जा रही है. हालांकि, राहुल गांधी के घर बैठक खत्म हो चुका है और अब सबको फैसले का इंतजार है.

दरअसल, दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (Congress-AAP Alliance) के बीच गठबंधन की कवायद अब भी चल रही है. सूत्रों के मुताबिक़ कांग्रेस ने गठबंधन के लिए आम आदमी पार्टी (AAP) को आख़िरी फ़ॉर्मूला दिया है. नए फ़ॉर्मूले के मुताबिक़ कांग्रेस (Congress) ने दिल्ली में आम आदमी पार्टी को  3 सीटें देने की बात कही है. साथ ही हरियाणा में आम आदमी पार्टी को 1 सीट और पंजाब में कोई सीट नहीं देने का ऑफ़र रखा है. अगर आम आदमी पार्टी को येफ़ॉर्मूला मंजूर होता है तो गठबंधन होगा नहीं तो कांग्रेस सातों सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान करेगी. वहीं आम आदमी पार्टी के सूत्रों के मुताबिक़ कांग्रेस से अभी कोई औपचारिक संदेश नहीं आया है. आम आदमी पार्टी दिल्ली में 6 सीटों पर अड़ी है.

उधर, 'आप' सांसद संजय सिंह ने NDTV से कहा कि गठबंधन पर कांग्रेस ने अभी तक कोई आधिकारिक चर्चा शुरू नहीं की. जो भी फॉर्मूला आ रहा है वह टीवी में और मीडिया में दे रहे हैं. हमको कोई फॉर्मूला नहीं मिला है. जो भी फॉर्मूला आ रहा है वह TV में और मीडिया में दे रहे हैं. हमको कोई फॉर्मूला नहीं या कोई औपचारिक प्रस्ताव कांग्रेस की तरफ़ से नहीं मिला है. कांग्रेस को जो प्रस्ताव शरद पवार के ज़रिए भिजवाया था उसपर भी कोई जवाब नहीं आया है. उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने जो विशाखापटनम में बोला वो राहुल गांधी से पहली बैठक के बारे में है. जिसमें कुछ नया नहीं क्योंकि, राहुल गांधी से उसके बाद कोई मीटिंग नहीं हुई है. 

Video: कांग्रेस-AAP गठबंधन की उम्मीद बाकी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com