NDTV Khabar

बेगूसराय में कन्हैया कुमार के लिए जावेद अख्तर ने चुनाव प्रचार किया 

जावेद अख्तर ने कहा कि हमें यह ध्यान में रखना चाहिए कि जहां भी धर्म का राजनीति से मिश्रण किया जाता है, वहां मानवाधिकार और नागरिक स्वतंत्रता पहले शिकार बन जाती है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बेगूसराय में कन्हैया कुमार के लिए जावेद अख्तर ने चुनाव प्रचार किया 

जावेद अख्तर ने कन्हैया कुमार के लिए मांगा वोट

पटना:

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा मुसलमानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के नेतृत्व वाली भाजपा के खिलाफ "एकजुट होने और वोट देने" की अपील को नकारते हुए मशहूर गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने मंगलवार को कहा कि किसी की धार्मिक पहचान से भरा दिमाग राजनीतिक विकल्प नहीं बन सकता है.भाकपा उम्मीदवार और जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे जावेद ने सिद्धू की ओर इशारा करते हुए कहा कि मैं उनसे (भाजपा से) बहुत उम्मीद नहीं करता हूं जो राजनीति का मिश्रण धर्म के साथ करने में विश्वास रखते हैं, लेकिन जब आप धर्मनिरपेक्षता की कसम खा रहे हों तो आप इस तरह की भाषा नहीं बोल सकते.

Election 2019: बेगूसराय से CPI उम्मीदवार कन्हैया कुमार के खिलाफ FIR दर्ज, जानिये पूरा मामला


इस महीने की शुरुआत में कटिहार में एक रैली में उक्त टिप्पणी करने वाले सिद्धू को चुनाव आयोग ने 72 घंटे के लिए चुनाव प्रचार करने से प्रतिबंधित कर दिया है. जावेद अख्तर ने कहा कि हमें यह ध्यान में रखना चाहिए कि जहां भी धर्म का राजनीति से मिश्रण किया जाता है, वहां मानवाधिकार और नागरिक स्वतंत्रता पहले शिकार बन जाती है. दुनिया के किसी भी हिस्से को देखें - मध्य पूर्व, यूरोप या लैटिन अमेरिका में, आपको एक समान प्रवृत्ति मिलेगी. भाजपा पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि आप हिंदुओं के हित के लिए चैंपियन बनना चाहते हैं. क्या आपको इस बात का एहसास नहीं है कि देश के बेघर, बेरोजगार और गरीब हिंदूओं की संख्या अन्य समुदायों से अधिक हो गयी और आपको कहीं मंदिर बनाने के वादे के अलावा उन्हें क्या पेशकश करनी चाहिए.

बेगूसराय में कन्हैया कुमार के समर्थकों और ग्रामीणों के बीच मारपीट, मौके पर बुलानी पड़ी पुलिस

उन्होंने भाजपा को एक विचित्र संगठन बताते हुए कहा कि यह दल उस आरएसएस का एक विंग है जो मोहम्मद अली जिन्ना की मुस्लिम लीग के साथ उस वक्त अंग्रेजों के सबसे बड़े सहयोगी थे जब स्वतंत्रता के लिए संघर्ष चल रहा था. हमें नेहरू के प्रति उनकी नापसंदगी को समझना होगा. बेगूसराय से भाजपा उम्मीदवार गिरिराज सिंह पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि यह सज्जन उन सभी को जो मोदी का विरोध करते हैं, उन्हें पाकिस्तान जाने की सलाह देते हैं.

टिप्पणियां

Lok Sabha Electon 2019: कन्हैया का गिरिराज सिंह पर हमला, पूछे इन सवालों के जवाब 

2014 में, जब मोदी की लोकप्रियता अपने चरम पर थी तब 31 प्रतिशत लोगों ने उन्हें वोट दिया था यानी तब भी 69 प्रतिशत भारतीय उनके खिलाफ थे. अगर गिरिराज सिंह की सलाह को ऐसे भारतीयों ने गंभीरता से लिया तो पाकिस्तान की आबादी कई गुना बढ़ जाएगी और लोगों को खड़े होने के लिए पर्याप्त जगह नहीं मिलेगी. उन्होंने यह भी कहा कि यदि आप तनवीर को वोट देते हैं, तो गिरीराज किसी भी तरह से जीत जाएंगे.(इनपुट भाषा से)              



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement