Lok Sabha Electon 2019: कन्हैया का गिरिराज सिंह पर हमला, पूछे इन सवालों के जवाब 

कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) ने Facebook पर लिखा, 'भाजपा के जो उम्मीदवार बेगूसराय आना ही नहीं चाहते थे वे यह बता दें कि उन्होंने मंत्री होने के नाते इस जिले के उद्यमों के विकास के लिए क्या किया है?

Lok Sabha Electon 2019: कन्हैया का गिरिराज सिंह पर हमला, पूछे इन सवालों के जवाब 

बेगूसराय में कन्हैया कुमार का मुकाबला BJP के गिरिराज सिंह और राजद के तनवीर हसन से है..

नई दिल्ली:

जेएनयू (JNU) के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) की तैयारी जोरों पर है. बिहार के बेगूसराय सीट से कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) का मुकाबला (Begusarai Seat) केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) और राजद के तनवीर हसन (Tanveer Hasan) से है. कन्हैया सीपीआई (CPI) के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं. कन्हैया कुमार ने इस बीच Facebook पर पोस्ट लिखकर बीजेपी उम्मीदवार गिरिराज सिंह (BJP Giriraj Singh) पर जमकर हमला बोला. कन्हैया ने Facebook पर लिखा, 'भाजपा के जो उम्मीदवार बेगूसराय आना ही नहीं चाहते थे वे यह बता दें कि उन्होंने मंत्री होने के नाते इस जिले के उद्यमों के विकास के लिए क्या किया है? अगर बेगूसराय को छोड़ भी दिया जाए, क्योंकि वे यहां से पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं, तो कम से कम यही बता दें कि उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र नवादा की जनता के लिए कौन सा ऐसा काम किया है जिसे वहां की जनता हमेशा याद रखेगी?

कन्हैया कुमार बोले- पढ़ाई और कड़ाही के बीच की लड़ाई है यह चुनाव, हम चुप रहे तो पूरे देश से हटा दिया जाएगा लोकतंत्र

उन्होंने आगे लिखा, 'जब पूरी दुनिया मे पेट्रोल के दाम घट रहे थे तब भारत में इसके दाम लगातार बढ़ते जा रहे थे. मोदी जी ने केवल दो बड़े उद्योगपतियों के फ़ायदे के लिए पूरे देश के उद्योगों की कमर तोड़ दी. जियो को हर तरीके से बढ़ावा देने वाली सरकार ने सरकारी कंपनी बीएसएनल का इतना बुरा हाल कर दिया कि उसके पास अपने कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए भी पैसे नहीं बचे. आज बीएसएनएल के 54,000 कर्मचारियों की नौकरी ख़तरे में है. अगर मोदी सरकार ने अपनी विनाशकारी नीतियों को इसी तेज़ रफ़्तार के साथ लागू करना जारी रखा तो आने वाले समय में कई सरकारी कंपनियों की ऐसी हालत हो जाएगी.

BSNL के बाद भारतीय डाक के घाटे पर कन्हैया का तंज: देश यूं ही बर्बाद नहीं हुआ, चौकीदार साहब ने 20 घंटे काम किया

आज अगर बेगूसराय में बखरी के सरकारी अस्पताल में चार डॉक्टर भी नहीं हैं तो क्या सरकार को इससे होने वाली परेशानियों की ज़िम्मेदारी नहीं लेनी चाहिए? बेगूसराय ही नहीं, बल्कि पूरे देश के अस्पतालों में लाखों डॉक्टरों की कमी है. जो हाल स्वास्थ्य के क्षेत्र का है, वही शिक्षा के क्षेत्र में दिखता है. बेगूसराय के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति का काम लंबे समय से टलता आया है. पूरे देश में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में करीब 10 लाख शिक्षकों के पद खाली पड़े हैं. जब तक भाजपा शिक्षा और स्वास्थ्य के बजट में कटौती करती रहेगी तब तक देश में ऐसे शर्मनाक आंकड़े सामने आते रहेंगे. बता दें कि बेगूसराय में चौथे चरण में 29 अप्रैल को मतदान होना है. 

कन्हैया कुमार को इस बॉलीवुड प्रोड्यूसर ने बताया 'आतंकवादी', बोले- देश के टुकड़े टुकड़े करना चाहता है...

बिहार में 40 सीटें, 7 चरणों मतदान
11 अप्रैल: जमुई औरंगाबाद, गया, नवादा,
18 अप्रैल: बांका, किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर
23 अप्रैल: खगड़िया, झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा,
29 अप्रैल: दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय, मुंगेर
6 मई: मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारन, हाजीपुर, सीतामढ़ी,
12 मई: पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, , शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सिवान, महाराजगंज, वाल्मीकिनगर
19 मई: नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकट, जहानाबाद

VIDEO: कन्हैया कुमार को लेकर बेगूसराय में कैसा है माहौल ?

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com