कर्नाटक में कांग्रेस-JDS के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, जानिये कौन कितनी सीटों पर लड़ेगा चुनाव

कर्नाटक में कांग्रेस-JDS के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है. कर्नाटक में 20 सीटों पर कांग्रेस (Congress) वहीं, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ( HD Deve Gowda) की पार्टी जेडीएस (JDS) 8 सीटों पर लोकसभा चुनाव (lok Sabha Election 2019) लड़ेगी.

कर्नाटक में कांग्रेस-JDS के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, जानिये कौन कितनी सीटों पर लड़ेगा चुनाव

Lok Sabha Election 2019: कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस के बीच हुआ सीटों का बंटवारा.

खास बातें

  • कर्नाटक में कांग्रेस-JDS के बीच हुआ सीटों का बंटवारा
  • कांग्रेस 20 और जेडीएस 8 सीटों पर लड़ेगी चुनाव
  • कर्नाटक में लोकसभा की कुल 28 सीटें
नई दिल्ली:

कर्नाटक में कांग्रेस-JDS के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है. कर्नाटक में 20 सीटों पर कांग्रेस (Congress) वहीं, पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा (HD Deve Gowda) की पार्टी जेडीएस (JDS) 8 सीटों पर लोकसभा चुनाव (lok Sabha Election 2019) लड़ेगी. कर्नाटक में लोकसभा की कुल 28 सीटें हैं. बता दें कि यह घोषणा जेडीएस संरक्षक और पूर्व पीएम एचडी देवेगौड़ा के उस बयान के बाद हुई है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अभी दोनों पार्टियों के बीच सीटों का मुद्दा तय नहीं हुआ है और राहुल गांधी से बात करने के बाद 15 तारीख को इसकी घोषणा की जाएगी. बता दें कि कर्नाटक में 28 लोकसभा सीटों को लेकर गठबंधन सरकार के दोनों दलों जेडीएस और कांग्रेस के बीच खींचतान मची हुई थी. जेडीएस 10 सीटें मांग रही थी, जबकि कांग्रेस उसे सिर्फ 6 सीटें देने को तैयार थी, लेकिन 20 और 8 सीटों पर बात बन गई है.

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019 से पहले कांग्रेस को लग न जाए कहीं बड़ा झटका? मीडिया को बताया जिम्मेदार

बता दें कि दोनों पार्टियों के बीच मामला 3 सीटों को लेकर लटका हुआ था. मैसूर, मंड्या के साथ-साथ चिकबलापूर. लेकिन बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा का मानना है कि गठबंधन के बावजूद भारतीय जनता पार्टी 28 में से 22 सींटें जीतेगी. इससे पहले जेडीएस प्रमुख एचडी देवगौड़ा ने अपने पोते प्रज्जवल रेवन्ना की अपनी जगह ताजपोशी कर दी. वो अब हासन से लोकसभा का चुनाव अपने दादा देवगौड़ा की जगह लड़ेंगे. देवगौड़ा के दूसरे पोते और मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बेटे निखिल कुमारस्वामी की उम्मीदवारी को लेकर मंड्या में काफ़ी विरोध हो रहा है. इसके इलावा जेडीएस मैसूर और चिकबलापूर सीट भी चाहती है. हालांकि गतिरोध के बावजूद जेडीएस और कांग्रेस को भरोसा है कि दोनों ही पार्टियां साथ मे बीजेपी का कर्णाटक में सफाया कर देगी.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक में फिर खतरे में गठबंधन की सरकार? कांग्रेस के रवैये पर बोले देवेगौड़ा: बहुत हुआ, अब चुप नहीं रह सकता

वहीं दूसरी तरफ अकेले पड़ी बीजेपी को भरोसा है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्में की बदौलत 28 लोकसभा सीटों में से 22 जीतेगी. पिछले लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने 17 सींटें जीती थीं, हालांकि बाद के उपचुनाव में एक सीट हार गई थी. जेडीएस के हिस्से 2 सीटें लगी थी. पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि, 'मित्रों मैंने आपको बताया कि अगर जेडीएस और कांग्रेस साथ आते हैं तो इससे हमें और फायदा होगा, क्योंकि लोगों का इस गठबंधन से भरोसा उठ चुका है.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस के विधायकों को लुभाने के लिए 50 करोड़ रुपये की पेशकश कर रही BJP: सिद्धारमैया

बता दें कि जेडीएस और कांग्रेस पहली बार साथ-साथ लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं. कैडर वाली पार्टी जेडीएस और कांग्रेस के परंपरागत वोट अगर अपनी पार्टी के साथ मज़बूती के साथ खड़े रहे तो बीजेपी की परेशानी कर्नाटक में बढ़ सकती है.

Newsbeep

कर्नाटक में 28 सीटें दो चरणों में मतदान
18 अप्रैल : उदुपी-चिकमगलूर, हासन, दक्षिण कन्नड़, चित्रदुर्गा, तुमकुर, मांड्या, मैसूर, चामराजनगर, बेंगलुरु ग्रामीण, बेंगलुरु उत्तर, बेंगलुरु मध्य, बेंगलुरु दक्षिण, चिक्काबल्लापुर, कोलार
23 अप्रैल: चिक्कोडी, बेलगांव, बगलकोट, बीजापुर, गुलबर्गा, रायचूर, बीदर, कोप्पल, बेल्लारी, हावेरी, धारवाड़ा, उत्तर कन्नड़, दावणगेरे, शिमोगा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: कांग्रेस-JDS में सीट बंटवारे का पेच?​