NDTV Khabar

जब भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद से मिलने गईं प्रियंका गांधी को अस्पताल में करना पड़ा 15 मिनट इंतजार

भीम आर्मी चीफ (Bhim Army) को आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में देवबंद से गिरफ्तार कर लिया गया था. वह बिना प्रशासन की इजाजत के मोटरसाइकिल रैली निकालने की योजना बना रहे थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जब भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद से मिलने गईं प्रियंका गांधी को अस्पताल में करना पड़ा 15 मिनट इंतजार

चंद्रशेखर आजाद से मुलाकात करतीं प्रियंका गांधी.

नई दिल्ली:

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi) बुधवार को भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) से मिलने मेरठ गई थीं. दलित नेता के रूप में पहचान रखने वाले आजाद मेरठ में अभी अस्पताल में भर्ती हैं. अस्पताल में भर्ती आजाद ने एनडीटीवी से कहा, 'मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से चुनाव लड़ूंगा.' भीम आर्मी चीफ (Bhim Army)को आचार संहिता का उल्लंघन करने के आरोप में देवबंद से गिरफ्तार कर लिया गया था. वह बिना प्रशासन की इजाजत के मोटरसाइकिल रैली निकालने की योजना बना रहे थे. जब उन्हें हिरासत में लिया गया तो वह बीमार पड़ गए, इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया.

कांग्रेस महासचिव के साथ मुलाकात की सामने आई तस्वीरों में देखा जा सकता है कि प्रियंका गांधी उनके बेड के पास बैठी हुई हैं. वहीं पश्चिमी यूपी के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) भी प्रियंका गांधी के साथ मौजूद थे. हालांकि, उन्होंने अपनी यात्रा को राजनीति से जोड़ देखने से मना किया. प्रियंका गांधी और सिंधिया जब अस्पताल पहुंचे तो चंद्रशेखर को समर्थकों ने उन्हें रास्ते में ही रोक लिया. 15 मिनट तक मनाने के बाद उन्हें जाने दिया गया.


भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद PM मोदी के खिलाफ वाराणसी से लड़ेंगे चुनाव

मुलाकात के बाद प्रियंका गांधी ने कहा कि इसे राजनीति से जोड़कर मत देखिए. इसे ऐसे देखना चाहिए कि चंद्रशेखर युवा हैं, संघर्ष कर रहे हैं. यह सरकार उस नौजवान को कुचलना चाहती है. रोजगार दिया नहीं है जब आवाज उठा रहे हैं तो उठाने दीजिए कुचलने की क्या जरूरत है. पत्रकारों ने प्रियंका गांधी से पूछा कि क्या कांग्रेस पार्टी चंद्रशेखर को नगीना से चुनाव लड़ाएगी? इसपर प्रियंका गांधी ने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है. उन्होंने कहा कि हमें इस लड़के का जोश पसंद है और देख कर अच्छा लगा कि वह संघर्ष कर रहा है. इसके बाद जब उनसे पूछा कि क्या आप ऐसे नौजवान को कांग्रेस में लाएंगे तो प्रियंका गांधी ने कहा कि देखिए आप इस का राजनीतिकरण कर रहे हैं. मैं नहीं कर रही हूं. मैं इस लड़के का संघर्ष समझ रही हूं.

क्या भीम आर्मी-कांग्रेस का होगा गठबंधन? प्रियंका गांधी ने की चंद्रशेखर आजाद से मुलाकात

बता दें, इस मुलाकात के बाद भीम आर्मी और कांग्रेस के बीच गठबंधन के कयास लगाए जा रहे हैं. मंगलवार को ही बसपा प्रमुख मायावती ने कांग्रेस के साथ किसी भी तरह के गठबंधन से इनकार किया था. ऐसे में पश्चिमी यूपी के दलित वोटों पर अच्छी पकड़ रखने वाले चंद्रशेखर आजाद के साथ गठबंधन कांग्रेस के लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकता है. 

रवीश कुमार का ब्लॉग: भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद से प्रियंका गांधी की मुलाकात के क्या हैं मायने

सूत्रों ने बताया कि इमरान मसूद की राय पर प्रियंका गांधी चंद्रशेखर से मिलने पहुंची थीं. भीम आर्मी पश्चिमी यूपी में सबसे मजबूत है. यहां के लोग मायावती से बड़ा नेता चंद्रशेखर को मानते हैं. दलित समुदाय के युवा खुदको चंद्रशेखर से जुड़ा महसूस करते हैं. 

टिप्पणियां

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद को पुलिस ने फिर लिया हिरासत में, ये है वजह

VIDEO: प्रियंका गांधी ने की चंद्रशेखर आजाद से मुलाकात


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement