NDTV Khabar

कन्हैया की उम्मीदवारी और गिरिराज की मायूसी से बेगूसराय का चुनाव बना दिलचस्प

सीपीआई के उम्मीदवार कन्हैया कुमार को कई संगठनों का समर्थन मिल रहा, नवादा से हटाकर बेगूसराय भेजने से गिरिराज सिंह दुखी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. सिंह ने कहा - पार्टी के प्रदेश नेतृत्व ने मुझे कॉन्फिडेंस में नहीं लिया
  2. गिरिराज की नाराज़गी पर युवा नेता कन्हैया कुमार ने चुटकी ली
  3. जेडीयू भी कन्हैया कुमार की तारीफ कर रही
नई दिल्ली:

बिहार की बेगूसराय सीट का मुकाबला दिलचस्प हो गया है. वहां आरजेडी-कांग्रेस के गठबंधन में सीट न मिलने के बावजूद कन्हैया कुमार सीपीआई के उम्मीदवार हैं जिन्हें कई संगठनों का समर्थन मिल रहा है. दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह दुखी हैं कि बीजेपी ने उन्हें उनकी सीट से हटाकर चुनाव लड़ने यहां भेज दिया है.

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह नाराज़ हैं. उन्हें पार्टी ने उनकी मर्ज़ी के बिना नवादा से हटाकर चुनाव लड़ने बेगूसराय भेज दिया है. बीजेपी उम्मीदवार गिरिराज सिंह ने कहा कि प्रदेश नेतृत्व अगर मुझे कॉन्फिडेंस में ले लेता तो मुझे कोई नाराजगी नहीं होती. मेरे स्वाभिवान को टच किया है.

बेगूसराय लोकसभा सीट : सीपीआई के उम्मीदवार कन्हैया कुमार को वोट के साथ नोट भी चाहिए


इस नाराज़गी पर युवा नेता कन्हैया कुमार चुटकी ले रहे हैं. उनका ट्वीट है, "बताइए, लोगों को ज़बरदस्ती पाकिस्तान भेजने वाले ‘पाकिस्तान टूर एंड ट्रेवल्स विभाग' के वीज़ा-मंत्री जी नवादा से बेगूसराय भेजे जाने पर हर्ट हो गए. मंत्री जी ने तो कह दिया “बेगूसराय को वणक्कम”  

बिहार : गिरिराज सिंह बेगूसराय से चुनाव लड़ने के पहले इतना नाटक क्यों कर रहे?

दिलचस्प ये है कि जेडीयू भी कन्हैया कुमार की तारीफ कर रही है. एनडीटीवी से बात करते हुए पार्टी के प्रधान महासचिव ने कन्हैया के बहाने लालू यादव पर तंज कसा. जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी ने कहा कि  कन्हैया कुमार की पॉलिटिकल आइडियोलॉजी से हम डिसएग्री हैं. लेकिन जेएनयू स्टूडेंट यूनियन के प्रेसिडेंट होने के नाते उन्होंने देश में एक नाम किया है. लालू यादव अपने बेटे तेजस्वी को लेकर इतने पॉलिटिकल इनसिक्योरिटी में हैं कि उसके आसपास कोई युवा नेता खड़ा नहीं होने देना चाहते. लालू भूमिहारों से नफरत करते हैं.

VIDEO : गिरिराज सिंह के बगावती तेवर

टिप्पणियां

इसमें शक नहीं कि कन्हैया की उम्मीदवारी और गिरिराज की मायूसी ने बेगूसराय के चुनाव को दिलचस्प बना दिया है. वैसे इस चुनाव का तीसरा कोण आरजेडी उम्मीदवार तहसीन हसन बना रहे हैं जिनको बनाए रखने के लिए आरजेडी कन्हैया को टिकट देने को तैयार नहीं हुई.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement