NDTV Khabar

सुषमा स्वराज ने आतंकवाद के मुद्दे पर क्यों कहा- राहुल गांधी हटवा लें SPG की सुरक्षा

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को कांग्रेस के चुनाव घोषणापत्र में कथित रूप से देश में आतंकवाद की समस्या एवं उसके निदान की कोई चर्चा न होने की बात उठाते हुए कहा कि राहुल अपनी सुरक्षा में लगी एसपीजी (विशेष सुरक्षा दल) को क्यों नहीं हटवा लेते.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सुषमा स्वराज ने आतंकवाद के मुद्दे पर क्यों कहा- राहुल गांधी हटवा लें SPG की सुरक्षा

सुषमा स्वराज (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज ने राहुल गांधी को एसपीजी सुरक्षा हटवा लेने की बात कही है. भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता एवं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार को कांग्रेस के चुनाव घोषणापत्र में कथित रूप से देश में आतंकवाद की समस्या एवं उसके निदान की कोई चर्चा न होने की बात उठाते हुए कहा कि यदि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए आतंकवाद की समस्या चुनाव में कोई मुद्दा नहीं है तो वह अपनी सुरक्षा में लगी एसपीजी (विशेष सुरक्षा दल) को क्यों नहीं हटवा लेते. वह सोमवार को मथुरा में भाजपा की सोशल मीडिया इकाई द्वारा आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करने पहुंची थीं.

बीजेपी का घोषणापत्र जारी : तस्वीरों और मंच से गायब तीनों धरोहर, अटल-आडवाणी और मुरली मनोहर


उन्होंने कांग्रेस और महागठबंधन के दलों को आड़े हाथों लेते हुए कहा, ‘वे जनता की नब्ज नहीं जानते जबकि प्रधानमंत्री अच्छे से पहचानते हैं. इसीलिए तो उन्होंने उड़ी के बाद सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवामा हमले के बाद एयर स्ट्राइक के जरिए पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब देने का काम किया.' स्वराज ने कहा, ‘असल में कांग्रेस के लिए तो देश में आतंकवाद कोई समस्या ही नहीं है. उनके यहां तो आतंकवादियों को ‘जी' और ‘साहब' कहकर सम्बोधित किया जाता है. इसीलिए तो कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में देश में लंबे समय से व्याप्त इस समस्या या इसके निदान का कोई जिक्र ही नहीं किया है जबकि भाजपा आतंकवाद को समूल नष्ट करने के लिए प्रतिबद्ध है.' 

सुषमा स्वराज, उमा भारती और सुमित्रा महाजन, मध्य प्रदेश की तीनों महिला सांसद चुनाव से बाहर

उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के लिए कहा, ‘मैं राहुल गांधी का आह्वान करती हूं कि वह यदि ऐसा सोचते हैं तो खुद भी क्यों एसपीजी की सुरक्षा चाहते हैं. वह सरकार को एक पत्र लिखकर एसपीजी की सुरक्षा व्यवस्था वापस कर दें. तब देश का इतना खर्चा तो नहीं होगा.' स्वराज ने कहा, ‘यह बड़ी शर्म की बात है कि जब सेना के जवान जान पर खेलकर आतंकवादियों को करारा जवाब देते हैं तो विपक्ष के नेता पूछते हैं कितने मरे, प्रमाण दो. वे अपनी सेना के कहे को तो नहीं मानते. लेकिन पाकिस्तानी सेना जो कहती है तो उसे जरूर मान लेते हैं. ऐसे लोगों को हमारी जनता वोट क्यों देगी.' 

राहुल गांधी की आडवाणी पर टिप्पणी से भड़कीं सुषमा स्वराज, कहा- भाषा की मर्यादा का ख़्याल रखें

उन्होंने उज्ज्वला योजना, जन-धन योजना, राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण में तेजी, डिजिटल इंडिया के तहत एक लाख से अधिक गांवों में ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाने, मोबाइल निर्माण कंपनियों की संख्या दो से 127 होने, दुनिया की छठी आर्थिक महाशक्ति बनने, पासपोर्ट केंद्रों की संख्या 73 से 159, उत्तर प्रदेश में 46 नए पासपोर्ट केंद्र की स्थापना करने आदि के विस्तृत आंकड़े पेश करते हुए इनका उपयोग हर प्रकार के सोशल मीडिया पर करने की सलाह दी.

टिप्पणियां

सुषमा स्वराज ने कहा, 'भाजपा का संकल्प पत्र पेश करते समय प्रधानमंत्री ने साफ कहा है कि हमारी तीन प्राथमिकताएं हैं- राष्ट्रवाद, अंत्योदय और सुशासन. भाजपा इन तीनों मुद्दों पर पूरी तरह से प्रतिबद्ध है. हमारी सरकार के लिए राष्ट्र की सुरक्षा सर्वोपरि है. अन्य मुद्दे भी जरूरी हैं परंतु, इनसे कोई समझौता नहीं। यही भाजपा का संकल्प है.'

VIDEO: लालकृष्ण आडवाणी ने ब्लॉग लिखकर तोड़ी चुप्पी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement