NDTV Khabar

गांधीनगर : बीजेपी ने लालकृष्ण आडवाणी की जगह अमित शाह को ही क्यों दिया टिकट?

बीजेपी ने गांधीनगर की बहुचर्चित सीट से लालकृष्ण आडवाणी की जगह पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को क्यों उतारा? इसके पीछे क्या है वजह..

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
गांधीनगर : बीजेपी ने लालकृष्ण आडवाणी की जगह अमित शाह को ही क्यों दिया टिकट?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और लालकृष्ण आडवाणी की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

बीजेपी ने गुरुवार को लोकसभा चुनाव के कुल 184 उम्मीदवारों की सूची घोषित कर दी. इसमें गांधीनगर की बहुचर्चित सीट से लालकृष्ण आडवाणी की जगह पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को टिकट मिला है. बीजेपी की राजनीति के 'पितामह' माने जाने वाले लालकृष्ण आडवाणी का टिकट कटने को लेकर न केवल पार्टी में हलचल है बल्कि सोशल मीडिया पर भी लोगों की प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं.सूत्र बता रहे हैं कि गुजरात की बीजेपी इकाई ने गांधीनगर से किसी का नाम ही नहीं भेजा था. गांधीनगर से कौन चुनाव लड़ेगा, राज्य नेतृत्व ने इसका फैसला केंद्रीय नेतृत्व पर छोड़ दिया गया था. दरअसल राज्य इकाई के ज्यादातर नेता गांधीनगर सीट से पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को चुनाव लड़ते हुए देखना चाहते थे.

यह भी पढ़ें- क्या बिहार में इस डर से BJP ने घोषित नहीं किए अपने उम्मीदवार, अब यह होगी रणनीति 


सूत्र यह भी बता रहे हैं कि भाजपा की प्रदेश इकाई ने मांग की थी कि या तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को या शाह को इस बार राज्य से लोकसभा चुनाव में उतारा जाए. प्रदेश भाजपा नेताओं ने यह भी मांग की थी शाह गांधीनगर से चुनाव लड़ें. पार्टी पर्यवेक्षक निमाबेन आचार्य ने बताया था कि भाजपा ने 16 मार्च को पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं की राय जानने के लिए गांधीनगर में पर्यवेक्षकों को भेजा था और इनमें से अधिकतर ने शाह का पक्ष लिया.पूर्व उप प्रधानमंत्री आडवाणी (91) ने छह बार गांधीनगर सीट पर जीत दर्ज की है. 

यह भी पढ़ें- बीजेपी ने आडवाणी ही नहीं एक और बुजुर्ग पूर्व CM का भी काटा टिकट, जिनके बेटे ने बदल लिया था पाला

गांधीनगर संसदीय सीट के ही तहत नारणपुरा से अमित शाह विधायक रहे हैं. फिलहाल अमित शाह राज्यसभा सांसद हैं. पार्टी नेताओं का मानना था कि अमित शाह के लड़ने से गुजरात में 'मिशन 26' पूरा करने में मिल सकती है. यूं तो पार्टी की एक बैठक के बाद यह कहा गया था कि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य 91 वर्षीय आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को लड़ने का फैसला उन पर छोड़ दिया गया है. हालांकि सूत्र बताते हैं कि आडवाणी से पार्टी ने इसको लेकर संपर्क नहीं किया. एक अन्य बुजुर्ग नेता कलराज मिश्रा ने मौके की नजाकत भांपते हुए टिकट घोषित होने से पहले ही खुद ही चुनाव न लड़ने की घोषणा कर दी.पार्टी ने अभी कानपुर सीट से प्रत्याशी तय नहीं किया है. यह सीट मुरली मनोहर जोशी की है. आडवाणी का टिकट कटने के बाद माना जा रहा है कि पार्टी जोशी की तरह किसी और को इस सीट से उतार सकती है. हालांकि इससे पहले बीजेपी ने कहा था 75 पार के नेता चुनाव लड़ सकते हैं  मगर मंत्री पद या संगठन में पद नहीं मिलेगा.

वीडियो- आडवाणी की सीट से शाह लड़ेंगे चुनाव? 

टिप्पणियां


 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement