जैस्मीन भसीन ने रश्मि देसाई को लेकर किया साफ, बोलीं- मैं रश्मि की दोस्त नहीं हूं लेकिन दुश्मन...

जैस्मीन भसीन (Jasmin Bhasin) ने 'बिग बॉस हाउस (Bigg Boss House)' में एंट्री से पहले रश्मि देसाई (Rashami Desai) को लेकर सबकुछ साफ कर दिया.

जैस्मीन भसीन ने रश्मि देसाई को लेकर किया साफ, बोलीं- मैं रश्मि की दोस्त नहीं हूं लेकिन दुश्मन...

जैस्मीन भसीन (Jasmin Bhasin) ने रश्मि (Rashami Desai) देसाई को लेकर कही यह बात

खास बातें

  • बिग बॉस हाउस में हैं जैस्मीन भसीन
  • रश्मि देसाई को लेकर कही यह बात
  • शो में जाने से पहले दिया था इंटरव्यू
नई दिल्ली:

जैस्मीन भसीन (Jasmin Bhasin) 'दिल से दिल तक (Dil Se Dil Tak)' और 'टश्न-ए-इश्क (Tashn-e-Ishq)' जैसे सीरियल्स के साथ अपनी खास पहचान बना चुकी हैं और इन दिनों बिग बॉस 14 में हैं. लेकिन लंबे समय से उनके और रश्मि देसाई (Rashami Desai) के बीच सबकुछ सही नहीं होने की खबरें आती रही हैं. फिर चाहे वह 2017 से 2108 के बीच 'दिल से दिल तक' की शूटिंग के दौरान की बात हो या फिर 'नागिनः भाग्य का जहरीला खेल' की हो. हालांकि जैस्मीन भसीन हमेशा से कहती आई हैं कि उनके और रश्मि के बीच कुछ भी खराब नहीं है. जैस्मीनने कहा है कि अगर हम दोस्त नहीं हैं तो एक दूसरे के दुश्मन भी नहीं हैं.

Newsbeep

जैस्मीन भसीन (Jasmin Bhasin) इस समय 'बिग बॉस हाउस (Bigg Boss House)' में हैं,  लेकिन रियलिटी शो में एंट्री से पहले उन्होंने रश्मि देसाई (Rashami Desai) के साथ समीकरणों को लेकर सबकुछ साफ कर दिया था. जैस्मीन भसीन ने कहा, 'मैं हर किसी की दोस्त तो बन नहीं सकती. लेकिन इसके मायने यह नहीं हैं कि उनके साथ मेरे संबंध खराब हैं. मैं जब भी रश्मि से मिलती हूं तो हम हाय हैलो करते हैं. सबकुछ एकदम कूल हैं. ऐसा नहीं है कि हम एक दूसरे को पसंद नहीं करते हैं. वो अपनी जिंदगी में खुश हैं और मैं अपनी जिंदगी में.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


'दिल तो हैप्पी है' में नजर आ चुकीं जैस्मीन भसीन (Jasmin Bhasin) 'बिग बॉस 13' में आई थीं और उन्होंने सिद्धार्थ शुक्ला सो सपोर्ट भी किया था. उस समय उन्हें लेकर कई तरह की बातें हुई थीं. इश पर जैस्माीन भसीन ने कहा, 'शो में मुझे जो करने के लिए बुलाया गया था, मैंने किया. मैं चाहे रश्मि हो या सिद्धार्थ सबसे अच्छे से मिली थी. दोनों के साथ मेरे प्रोफेशनल संबंध रहे हैं. अब जिसे जो कहना है, वह कहता रहे. इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता.'