NDTV Khabar

फेसबुक पर आईएसआईएस के समर्थकों को जोड़ने का आरोप

अमेरिकी गैर - सरकारी संगठन ( एनजीओ ) काउंटर एक्सट्रीमिजम प्रोजेक्ट ( सीईपी ) इस महीने के आखिर में इस अध्ययन का प्रकाशन करेगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
फेसबुक पर आईएसआईएस के समर्थकों को जोड़ने का आरोप

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: डाटा लीक मामले के बाद अब सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर सजेस्टेड फ्रेंड्स टूल्स के जरिये इस्लामिक स्टेट के हजारों समर्थकों को एकसाथ जोड़ने का आरोप लगा है. मीडिया की एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है. गौरतलब है कि ब्रिटिश कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका से 8.7 करोड़ उपयोगकर्ताओं की निजी जानकारी अनुचित तरीके से साझा करने की खबर के बाद मार्क जुकरबर्ग की अगुवाई वाली यह कंपनी विश्वसनीयता के संकट से जूझ रही है. अनुसंधानकर्ताओं ने 96 देशों में मौजूद आईएसआईएस के 1,000 समर्थकों की ऑनलाइन गतिविधियों का अध्ययन किया और पाया कि नियमित तौर पर कट्टरपंथी इस्लामवादियों की एक - दूसरे से पहचान कराई गई.

यह भी पढ़ें: डेटा लीक: भारत ने कहा, कैंब्रिज एनालिटिका की जांच जारी रहेगी

अमेरिकी गैर - सरकारी संगठन ( एनजीओ ) काउंटर एक्सट्रीमिजम प्रोजेक्ट ( सीईपी ) इस महीने के आखिर में इस अध्ययन का प्रकाशन करेगा. अध्ययन में इस बात का खुलासा किया जा सकता है कि आईएसआईएस नेटवर्क को किस हद तक सोशल मीडिया के एल्गोरिदम से मदद मिली. आलोचकों का कहना है कि आपसी रुझानों के आधार पर उपयोगकर्ताओं को मिलाने वाले सजेस्टेड फ्रेंड्स टूल्स के जरिये आतंकियों को समूह बनाने और नेटवर्क विकसित करने में मदद मिली.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें: महिला का ऑनलाइन पीछा करने वाले अपने इंजीनियर को फेसबुक ने निकाला

सीईपी के अनुसंधानकर्ताओं ने जब कुछ कट्टरपंथियों की प्रोफाइल देखी तो उन्हें दोस्त बनाने के लिए फेसबुक की तरफ से कई कट्टरपंथियों के प्रोफाइल की सिफारिश की गई. अध्ययन में दावा किया गया है कि एक गैर - मुसलमान ने आईएसआईएस के एक समर्थक के मित्रता के निवेदन को स्वीकार किया , जिसके बाद वह छह माह के भीतर कट्टरपंथी बन गया. (इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
 Share
(यह भी पढ़ें)... ब्‍लॉग : अनिल मानहानि अंबानी की जय हो...

Advertisement