NDTV Khabar

पैदा हुई पहली डिजाइनर बेबी! आपकी तमन्नाओं के मुताबिक खूबियों वाला बच्चा जन्म ले सकेगा

अब जेनेटिकली मॉडिफाइड बच्चे का जन्म भी संभव हुआ, चीन के एक शोधकर्ता के दावे के साथ दुनिया ने डिजाइनर बेबी के जन्म की दिशा में कदम बढ़ा दिया

372 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पैदा हुई पहली डिजाइनर बेबी! आपकी तमन्नाओं के मुताबिक खूबियों वाला बच्चा जन्म ले सकेगा

चीन के शोधकर्ता का दावा है कि उसने डीएनए में फेरबदल करके पहली डिजाइनर बेबी का जन्म संभव कर दिखाया है.

खास बातें

  1. दुनिया में पहली बार जेनेटिकली मोडिफाइड बेबी के जन्म लेने का दावा
  2. दो जुड़वां बहनों के डीएनए में एक नए औज़ार के ज़रिए किया फेरबदल
  3. दावा किया कि डिजाइनर बेबी एचआईवी, एड्स से पीड़ित नहीं होगा
नई दिल्ली:

क्या आपने कभी कल्पना की है कि आप जिस तरह के बच्चे की इच्छा करें, वैसे बच्चे को जन्म दे सकें. जैसे कि आप चाहें कि आपकी भूरे रंग के बालों वाली बेटी हो या फिर गोरे रंग का बेटा हो! अब शायद यह कोरी कल्पना नहीं रही, अब जेनेटिकली मॉडिफाइड बच्चे का जन्म भी संभव हो गया है. चीन के एक शोधकर्ता के दावे के साथ दुनिया ने डिजाइनर बेबी के जन्म की दिशा में कदम बढ़ा दिया है.   

चीन के एक शोधकर्ता ने दुनिया में पहली बार जेनेटिकली मोडिफाइड यानी डिज़ाइनर बेबी के जन्म लेने का दावा किया है. उन्होंने बताया कि इस महीने जन्मी जुड़वा बच्चियों के डीएनए में बदलाव के लिए क्रिस्पर तकनीक का इस्तेमाल किया गया. दावा ये भी किया जा रहा है कि डिजाइनर बेबी एचआईवी, एड्स से पीड़ित नहीं होगी. अगर ये दावा सही तो भविष्य में ऐसे बच्चों को जन्म दिया जा सकेगा जिसकी आंख, बाल, त्वचा और अन्य खूबियों का चयन खुद उसके माता-पिता कर सकेंगे.

इस शोध से विज्ञान जगत में हलचल मची है. चीन के एक शोधकर्ता का दावा है कि उसने दुनिया की पहली जेनेटिकली मॉडिफाइड (genetically modified) बच्चियां बनाने में मदद की. यह दो जुड़वां बहनों के डीएनए में एक नए औज़ार के ज़रिए फेरबदल करके किया गया.


साउदर्न यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नालॉजी ऑफ चाइना के शोधकर्ता हे जियानकुई का कहना है कि "मुझे जिम्मेदारी का एहसास है कि सिर्फ पहला ही नहीं बनूं बल्कि एक मिसाल कायम करूं कि इस तरह की चीज़ें कैसे की जाएं. इसमें समाज की नैतिकता और लोगों पर पड़ने वाले असर का भी ध्यान रखा गया है."

शोधकर्ता का दावा है कि उसने गर्भ धारण करने की चाह में इलाज करवा रहे सात जोड़ों के भ्रूणों में बदलाव किए और अब तक सिर्फ एक कामयाब गर्भ धारण हुआ. जीन एडिटिंग CRISPR - CAS9 के जरिए की गई. इसमें DNA को काटकर एक ख़ास जीन को नकारा बना दिया जाता है.

यह भी पढ़ें : अब पैदा होंगे डिजाइनर बच्चे? अमेरिका का पहला कदम, जानें पूरा मामला

हालांकि बहुत से वैज्ञानिकों का कहना है कि इस तरह की जीन एडिटिंग की अभी कोशिश नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे DNA को स्थाई नुकसान पहुंच सकता है जिससे आने वाली पीढ़ियां भी प्रभावित हो सकती हैं. लोगों को इस बात की भी चिंता है कि इसके ज़रिए डिजाइनर बच्चों का जन्म मुमकिन होगा.

यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेनसिल्वेनिया की डॉ किरण मुसुनुरु  कहती हैं कि "मेरा मानना है कि अभी इस टेक्नालॉजी के ज़रिए एक भी बच्चे का जन्म नहीं होना चाहिए. फिलहाल इसके लिए बहुत जल्दी है."

जीन एडिटिंग वयस्कों में हाल ही में गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए की गई है न कि जन्म के इरादे से किसी भ्रूण की. लेकिन हे जियानकुई का कहना है कि इसका समय आ चुका है. हे जियानकुई ने कहा कि "कहीं न कहीं, कोई न कोई यह कर रहा है. अगर मैं नहीं तो कोई और करेगा."

टिप्पणियां

VIDEO : अमेरिका में  डिजाइनर बच्चे पैदा होंगे

इस काम की अभी न तो स्वतंत्र रूप से पुष्टि हुई है और न ही दूसरे वैज्ञानिकों ने इसका जायजा लिया है, लेकिन अगर ये साबित हो जाता है तो दवा और नैतिकता की एक हद जरूर पार करेगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement