क्या सच में 6 इंच का ये रहस्यमयी कंकाल एलियन का है? जानिए क्या है सच्चाई

चिली में मिले रहस्यमयी छह इंच के कंकाल को एलियन का बताने के दावों का खंडन करते हुए वैज्ञानिकों ने इसका अध्ययन कर पाया है कि यह एक कन्या भ्रूण का कंकाल है.

क्या सच में 6 इंच का ये रहस्यमयी कंकाल एलियन का है? जानिए क्या है सच्चाई

वैज्ञानिकों ने बताया कि ये कोई एलियन का कंकाल नहीं बल्कि एक कन्या भ्रूण का कंकाल है.

खास बातें

  • वैज्ञानिकों का दावा- एलियन नहीं कन्या भ्रूण का कंकाल है.
  • चिली में मिला था रहस्यमयी छह इंच का कंकाल.
  • चिली के अटाकामा रेगिस्तान में एक दशक पहले यह कंकाल बरामद हुआ था.
नई दिल्ली:

चिली में मिले रहस्यमयी छह इंच के कंकाल को एलियन का बताने के दावों का खंडन करते हुए वैज्ञानिकों ने इसका अध्ययन कर पाया है कि यह एक कन्या भ्रूण का कंकाल है, जिसे हड्डियों का दुर्लभ विकार था. चिली के अटाकामा रेगिस्तान के निर्जन कस्बे में एक दशक पहले यह कंकाल बरामद हुआ था, जिसे अटा नाम दिया गया था. स्पेन में एक स्थायी घर मिलने के बाद अटा की ओर लोगों ने ध्यान दिया.

बच्चे को गोद में लेकर मां ने जमीन पर बैठकर दी परीक्षा, रोया तो ऐसे कराया शांत

चपटी और धंसी हुई खोपड़ी व आंखों वाले मात्र छह इंच के इस कंकाल को लेकर इंटरनेट पर इसे दूसरी दुनिया के जीव बताने की खबरों ने जोर पकड़ रहा था, लेकिन स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के वैज्ञानिकों ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि बिना शक, यह मानव कंकाल है. 

POOL में अचानक तैरता दिखा मगरमच्छ, मालिक ने देखा तो फटी की फटी रह गई आंखें

'जीनोम रिसर्च' में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, यह गंभीर आनुवंशिक उत्परिवर्तनों से पीड़ित एक मानव (कन्या) का कंकाल है. शोध में पता चला है कि यह भ्रूण हड्डियों के गंभीर रोग से पीड़ित था. इसकी आनुवंशिक प्रक्रिया को समझने के लिए शोधकर्ताओं ने अटा की पसलियों से डीएनए का एक छोटा नमूना निकाला और संपूर्ण जीनोम का अनुक्रम बिठा इसे समझने का प्रयास किया.

भरे बाजार में अचानक स्क्रीन पर चलने लगा PORN वीडियो, हैरान हो गए लोग

कंकाल संभवता 40 साल पुराना था, इसलिए इसका डीएनए आधुनिक और अपेक्षाकृत काफी अच्छी स्थिति में था. संपूर्ण जीनोम अनुक्रमण से एकत्र आंकड़ों से पता चला कि अटा की आण्विक संरचना मानव जीनोम के समान है. यूनिवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया-सान फ्रांसिस्को से इस अध्ययन के सह-लेखक अतुल बटे ने कहा, "मुझे इस अध्ययन से वास्तव में यह चीज सीखने को मिली कि हमें एक जीन मिल जाने पर जांच बंद नहीं करनी चाहिए. यहां कई चीजें गलत हो सकती हैं और यह पूरी तरह से समझने योग्य है, खासकर जब हम जीन थेरेपी के करीब और करीब जाते हैं."

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com