NDTV Khabar

Happy Holi 2019: होली को मुगल काल में कहा जाता था 'ईद-ए-गुलाबी', जानें Holi से जुड़ी सभी मान्यताएं

Happy Holi: Holi 2019 मार्च 21 को मनाई जाएगी. भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है होली (Happy Holi 2019) जिसे आम तौर पर लोग 'रंगो का त्योहार' भी कहते हैं. होली के साथ कई प्राचीन पौराणिक कथाएं भी जुड़ी हैं और हर कथा अपने आप में विशेष है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Happy Holi 2019: होली को मुगल काल में कहा जाता था 'ईद-ए-गुलाबी', जानें Holi से जुड़ी सभी मान्यताएं

2019 Holi: इस साल 21 मार्च को मनाई जाएगी होली.

खास बातें

  1. इस साल 21 मार्च को मनाई जाएगी होली.
  2. आम तौर पर लोग 'रंगो का त्योहार' भी कहते हैं.
  3. मुगल काल में होली (Holi) को 'ईद-ए-गुलाबी' कहा जाता था.

होली (Holi 2019) इस साल 21 मार्च को मनाई जाएगी. भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है होली (Happy Holi 2019) जिसे आम तौर पर लोग 'रंगो का त्योहार' भी कहते हैं. हिंदू पंचांग के मुताबिक फाल्गुन माह में पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है. देश के दूसरे त्योहारों की तरह होली (Holi) को भी बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है. ढोल की धुन और घरों के लाउड स्पीकरों पर बजते तेज संगीत के साथ एक दूसरे पर रंग और पानी फेंकने का मजा देखते ही बनता है. होली (Holi 2019) के साथ कई प्राचीन पौराणिक कथाएं भी जुड़ी हैं और हर कथा अपने आप में विशेष है. 

Holi 2019: आज मुबारक, कल मुबारक, आपको होली का हर रंग मुबारक, Happy Holi के शानदार Messages

biendoa8

(2019 Holi: 21 मार्च को खेली जाएगी होली.)

मुगल काल में होली (Holi) को ये कहा जाता था
यह रंगों का त्योहार कब से शुरू हुआ इसका जिक्र भारत की विरासत यानी कि हमारे कई ग्रंथों में मिलता है. शुरू में इस पर्व को होलाका के नाम से भी जाना जाता था. इस दिन आर्य नवात्रैष्टि यज्ञ किया करते थे. मुगल शासक शाहजहां के काल में होली (Holi 2019) को ईद-ए-गुलाबी के नाम से संबोधित किया जाता था. 

होली के रंगों में डूबे राधा-कृष्ण, 'जहां जहां राधे वहां जाएंगे मुरारी' सॉन्ग हुआ वायरल- देखें Video

1dnanb

(2019 Holi: 20 मार्च को होलिका दहन होगा.)

होली (Holi 2019) पर शिव पार्वती की कहानी
होली (Holi 2019) को लेकर जिस पौराणिक कथा की सबसे ज्यादा मान्यता है वह है भगवान शिव और पार्वती की. पौराणिक कथा में हिमालय पुत्री पार्वती चाहती थीं कि उनका विवाह भगवान शिव से हो लेकिन शिव अपनी तपस्या में लीन थे. कामदेव पार्वती की सहायता के लिए आते और प्रेम बाण चलाकर भगवान शिव की तपस्या भंग करते थे. 

इंडिया की रंग वाली Holi छोड़िए, इन देशों में होती है कीचड़, टमाटर, आटा और अंडों की होली

शिवजी को उस दौरान बड़ा क्रोध आया और उन्होंने अपनी तीसरी आंख खोल दी. उनके क्रोध की ज्वाला में कामदेव का शरीर भस्म हो गया. इन सबके बाद शिवजी पार्वती को देखते हैं पार्वती की आराधना सफल हो जाती है और शिवजी उन्हें अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लेते हैं. होली (Holi 2019) की आग में वासनात्मक आकर्षण को प्रतीकत्मक रूप से जला कर सच्चे प्रेम के विजय के उत्सव में मनाया जाता है.

गुजिया बनाने की झटपट रेसिपी, इस Holi अपने हाथों से ऐसे बनाएं स्वादिष्ट Gujia

k6vkn0n

होली (Holi 2019) पर हिरण्यकश्यप की कहानी
वहीं, दूसरी पौराणिक कथा हिरण्यकश्यप और उसकी बहन होलिका की है. प्राचीन काल में अत्याचारी हिरण्यकश्यप ने तपस्या कर भगवान ब्रह्मा से अमर होने का वरदान पा लिया था. उसने ब्रह्मा से वरदान में मांगा था कि उसे संसार का कोई भी जीव-जन्तु, देवी-देवता, राक्षस या मनुष्य रात, दिन, पृथ्वी, आकाश, घर, या बाहर मार न सके.

Holi 2019 Photos: बरसाना की हुरियारिनों ने ग्वालों पर जमकर बरसाईं लाठियां

वरदान पाते ही वह निरंकुश हो गया. उस दौरान परमात्मा में अटूट विश्वास रखने वाला प्रहलाद उनके पुत्र के रूप में पैदा हुआ. प्रहलाद भगवान विष्णु का परम भक्त था और उसे भगवान विष्णु की कृपा-दृष्टि प्राप्त थी. हिरण्यकश्यप ने सभी को आदेश दिया था कि वह उसके अतिरिक्त किसी अन्य की स्तुति न करे लेकिन प्रहलाद नहीं माना. प्रहलाद के न मानने पर हिरण्यकश्यप ने उसे जान से मारने का प्रण लिया. प्रहलाद को मारने के लिए उसने अनेक उपाय किए लेकिन वह हमेशा बचता रहा. हिरण्यकश्यप की बहन होलिका को अग्नि से बचने का वरदान प्राप्त था. हिरण्यकश्यप ने उसे अपनी बहन होलिका की मदद से आग में जलाकर मारने की योजना बनाई. और होलिका प्रहलाद को गोद में लेकर आग में जा बैठी. हुआ यूं कि होलिका ही आग में जलकर भस्म हो गई और प्रहलाद बच गया. तभी से होली (Holi 2019) का त्योहार मनाया जाने लगा.

Holi 2019: कैसे हुई लट्ठमार होली खेलने की शुरुआत, मथुरा में किन्हें कहते हैं 'होरियारे'?

e8cib5v8

 

होली (Holi 2019) पर भगवान श्रीकृष्ण की कथा
इसके अलावा तीसरी पौराणिक कथा है भगवान श्रीकृष्ण की जिसमें राक्षसी पूतना एक सुन्दर स्त्री का रूप धारण कर बालक कृष्ण के पास आती है और उन्हें अपना जहरीला दूध पिला कर मारने की कोशिश की. दूध के साथ साथ बालक कृष्ण ने उसके प्राण भी ले लिये. कहा जाता है कि मृत्यु के पश्चात पूतना का शरीर लुप्त हो गया इसलिए ग्वालों ने उसका पुतला बना कर जला डाला. इसके बाद से मथुरा होली (Holi 2019) का प्रमुख केन्द्र रहा है. 

Holi 2019: 20 मार्च को है होलिका दहन, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, व्रत कथा और महत्व

होली (Holi 2019) का त्योहार राधा और कृष्ण की प्रेम कहानी से भी जुड़ा हुआ है. वसंत के इस मोहक मौसम में एक दूसरे पर रंग डालना उनकी लीला का एक अंग माना गया है. होली (Holi 2019) के दिन वृन्दावन राधा और कृष्ण के इसी रंग में डूबा हुआ होता है.

टिप्पणियां

Photos: जब राधा रानी के मंदिर में होने लगी लड्डुओं की बरसात, बरसाना में यूं खेली गई 'लड्डू होली'

इसके अलावा होली (Holi 2019) को प्राचीन हिंदू त्योहारों में से एक माना जाता है. ऐसे प्रमाण मिले हैं कि ईसा मसीह के जन्म से कई सदियों पहले से होली (Holi 2019) का त्योहार मनाया जा रहा है. होली (Holi 2019) का वर्णन जैमिनि के पूर्वमीमांसा सूत्र और कथक ग्रहय सूत्र में भी है. प्राचीन भारत के मंदिरों की दीवारों पर भी होली (Holi 2019) की मूर्तियां मिली हैं. विजयनगर की राजधानी हंपी में 16वीं सदी का एक मंदिर है. इस मंदिर में होली (Holi 2019) के कई दृश्य हैं जिसमें राजकुमार, राजकुमारी अपने दासों सहित एक दूसरे को रंग लगा रहे हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement