NDTV Khabar

जानिए कैसे हुआ था भारत में 1 रुपये के नोट का जन्म, बड़ी दिलचस्प है कहानी

युद्ध के चलते सरकार चांदी का सिक्का ढालने में असमर्थ हो गई और इस प्रकार 1917 में पहली बार एक रुपये का नोट लोगों के सामने आया. इसने उस चांदी के सिक्के का स्थान लिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जानिए कैसे हुआ था भारत में 1 रुपये के नोट का जन्म, बड़ी दिलचस्प है कहानी

सौ साल पहले 30 नवंबर 1917 को ही यह एक रुपये का नोट सामने आया था.

खास बातें

  1. सौ साल पहले 30 नवंबर 1917 को ही यह एक रुपये का नोट सामने आया था.
  2. जिस पर ब्रिटेन के राजा जॉर्ज पंचम की तस्वीर छपी थी.
  3. इस नोट की छपाई को पहली बार 1926 में बंद किया गया था.
नई दिल्ली:

मार्केट में ज्यादातर 10, 50, 100, 500 और दो हजार के नोट ज्यादा दिखते हैं. बाकी तो ज्यादातर 1, 2 और 5 के सिक्के चलते हैं. शादी में भी 101 का लिफाफा देना हो तो एक रुपये का सिक्का ढूंढते हैं. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि पहले के जमाने में सिक्के को हटाकर एक रुपये का नोट लाया गया था. आजकर एक रुपये का नोट ढूंढने से नहीं मिलता. किसी को दे भी दिया जाए तो बड़े सहेज के रखता है ताकी आगे बता सके कि पहले ऐसे नोट चला करते थे. आज यानी 30 नवंबर को एक रुपये के नोट को 100 साल हो गए हैं. ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं. भारत में कैसे आया था एक रुपये का नोट...

नोट: माइक्रोसॉफ्ट अब ऑनलाइन बेच रहा सैमसंग गैलेक्सी नोट-8, 150 डॉलर तक हुई कीमत

ऐसे हुआ एक रुपये के नोट की शुरुआत
इसकी शुरुआत का इतिहास भी बड़ा दिलचस्प है. हुआ यूं कि दौर था पहले विश्वयुद्ध का और देश में हुकूमत थी अंग्रेजों की. उस दौरान एक रुपये का सिक्का चला करता था जो चांदी का हुआ करता था लेकिन युद्ध के चलते सरकार चांदी का सिक्का ढालने में असमर्थ हो गई और इस प्रकार 1917 में पहली बार एक रुपये का नोट लोगों के सामने आया. इसने उस चांदी के सिक्के का स्थान लिया. ठीक सौ साल पहले 30 नवंबर 1917 को ही यह एक रुपये का नोट सामने आया जिस पर ब्रिटेन के राजा जॉर्ज पंचम की तस्वीर छपी थी.


नोट: नाहरगढ़ किले पर लटका मिला शव, 'पद्मावती का विरोध, लिखा- हम पुतले नहीं जलाते, लटकाते हैं'
 

rupee

नोट: लिखे हुए 500 और 2000 रुपये के नोट लेने से बैंक नहीं कर सकता इनकार

1926 में किया गया था बंद
भारतीय रिजर्व बैंक की वेबसाइट के अनुसार इस नोट की छपाई को पहली बार 1926 में बंद किया गया क्योंकि इसकी लागत अधिक थी. इसके बाद इसे 1940 में फिर से छापना शुरु कर दिया गया जो 1994 तक अनवरत जारी रहा. बाद में इस नोट की छपाई 2015 में फिर शुरु की गई. इस नोट की सबसे खास बात यह है कि इसे अन्य भारतीय नोटों की तरह भारतीय रिजर्व बैंक जारी नहीं करता बल्कि स्वयं भारत सरकार ही इसकी छपाई करती है. इस पर रिजर्व बैंक के गवर्नर का हस्ताक्षर नहीं होता बल्कि देश के वित्त सचिव का दस्तखत होता है.

नोट: क्या हुआ पुराने 500 और हजार रुपये के नोटों का, इन्होंने खत्म की पीएम मोदी की टेंशन
 

1 rupee note

कानूनी भाषा में कहते थे 'सिक्का'
इतना ही नहीं कानूनी आधार पर यह एक मात्र वास्तविक 'मुद्रा' नोट (करेंसी नोट) है बाकी सब नोट धारीय नोट (प्रॉमिसरी नोट) होते हैं जिस पर धारक को उतनी राशि अदा करने का वचन दिया गया होता है. दादर के एक प्रमुख सिक्का संग्राहक गिरीश वीरा ने पीटीआई से कहा, ''पहले विश्वयुद्ध के दौरान चांदी की कीमतें बहुत बढ़ गईं थी. इसलिए जो पहला नोट छापा गया उस पर एक रुपये के उसी पुराने सिक्के की तस्वीर छपी. तब से यह परंपरा बन गई कि एक रुपये के नोट पर एक रुपये के सिक्के की तस्वीर भी छपी होती है.'' शायद यही कारण है कि कानूनी भाषा में इस रुपये को उस समय 'सिक्का' भी कहा जाता था.
टिप्पणियां

पहले एक रुपये के नोट पर ब्रिटिश सरकार के तीन वित्त सचिवों के हस्ताक्षर थे. ये नाम एमएमएस गुब्बे, एसी मैकवाटर्स और एच. डेनिंग थे. आजादी से अब तक 18 वित्त सचिवों के हस्ताक्षर वाले एक रुपये के नोट जारी किए गए हैं. वीरा के मुताबिक एक रुपये के नोट की छपाई दो बार रोकी गई और इसके डिजाइन में भी कम से कम तीन बार आमूल-चूल बदलाव हुए लेकिन संग्राहकों के लिए यह अभी भी अमूल्य है.

(इनपुट-भाषा से)



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement