NDTV Khabar

क्या अमेरिकी इतने बुद्धू होते हैं? यहां के 16.4 मिलियन लोगों ने कहा 'भूरी गाय देती है भूरा दूध'

यूएस डेयरी के इनोवोशन सेंटर की ओर से कराए गए सर्वे में करीब एक करोड़ 60 लाख अमेरिकी लोगों ने बताया कि भूरे रंग की गाय भूरे रंग का दूध देती है, शायद इसी से चॉकलेट बनता है. चौंकाने वाली बात यह है कि इस सर्वे में व्यस्कों को लिया गया था. ये बातें आपको थोड़ी अटपटी लग रही होगी, लेकिन सर्वे रिपोर्ट में यही सच्चाई सामने आई है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या अमेरिकी इतने बुद्धू होते हैं? यहां के 16.4 मिलियन लोगों ने कहा 'भूरी गाय देती है भूरा दूध'

ज्यादातर अमेरिकी लोगों ने पता नहीं है कि उनकी खाने की चीजें कहां से आती हैं. तस्वीर: प्रतीकात्मक

खास बातें

  1. अमेरिका के 7 फीसदी लोगों को नहीं पता है कि दूध कहां से आता है
  2. सर्वे में ज्यादातर लोगों ने कहा, भूरे रंग की गाय देती है भूरा दूध
  3. अधिकतर लोगों को ये नहीं मालूम है कि खाने की चीजें कहां से आती हैं
नई दिल्ली: हम भारतीय आमतौर पर समझते हैं विकसित देशों खासकर अमेरिका के लोग काफी बुद्धिमान होते होंगे और उन्हें हर क्षेत्र में हमसे ज्यादा जानकारी होती होंगी. हाल में हुए एक सर्वे की रिपोर्ट जानकर शायद आप कहेंगे, 'क्या अमेरिकी इतने बुद्धू होते हैं?. आपको जानकर ताज्जुब होगा कि 7 फीसदी (16.4 मिलियन) अमेरिकी नागरिककों को ये तक नहीं पता है कि चॉकलेट बनाने के लिए दूध कहां से और कैसे आता है. यूएस डेयरी के इनोवोशन सेंटर की ओर से कराए गए सर्वे में करीब एक करोड़ 60 लाख अमेरिकी लोगों ने बताया कि भूरे रंग की गाय भूरे रंग का दूध देती है, शायद इसी से चॉकलेट बनता है. चौंकाने वाली बात यह है कि इस सर्वे में व्यस्कों को लिया गया था. ये बातें आपको थोड़ी अटपटी लग रही होगी, लेकिन सर्वे रिपोर्ट में यही सच्चाई सामने आई है. 

द वाशिंगटन पोस्ट की खबर के मुताबिक इस सर्वे को कराने के पीछे का मकसद ये पता लगाना था कि अमेरिकी नागरिक अपने खाने-पीने की चीजों के बारे में कितनी बातें जानते हैं. सर्वे करने पर पता चला कि यहां के लोगों को खेती और दूध से जुड़े पदार्थों के बारे में बहुत कम जानकारी है. अधिकतर लोगों को ये नहीं मालूम है कि वे जो चीजें खा रहे हैं, वास्तव में वह कहां से आता है. 1990 में बर्गर को लेकर कराए गए एक सर्वे में भी कुछ इसी तरह के परिणाम सामने आए थे.

गैर-सरकारी संगठन फूडकॉर्प्स के सह संस्थापक सिसली अपटोन ने कहा, 'यह रिपोर्ट ज्यादा चौंकाने वाले नहीं हैं. अमेरिका के लोगों में प्राकृतिक चीजों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है. इस बात का अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि यहां के लोगों का मानना है कि खाना केवल दुकानों में पर मिलता है. अमेरिकी लोग अपने बच्चों को ये कभी बताने की कोशिश ही नहीं करते हैं कि आखिर ये खाना कौन बनाता है, यह कैसे बनता है, अनाज कौन उपजाता है आदि. सर्वे के दौरान पता चला कि अमेरिका के लोगे खेती से काफी दूर हो चुे हैं, इसलिए उन्हें ये बातें नहीं पता है. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement