लॉकडाउन में छत पर ऐसे कट रही है लोगों की जिंदगी, फोटोग्राफर ने चोरी से शूट किया ये Video

ब्रुकलिन (Brooklyn) के फेमस फोटोग्राफर जेरेमी कोहेन (Jeremy Cohen) ने हाल ही में अपने ट्विटर (Twitter) हैंडल से एक वीडियो (Video) शेयर किया है.

लॉकडाउन में छत पर ऐसे कट रही है लोगों की जिंदगी, फोटोग्राफर ने चोरी से शूट किया ये Video

लॉकडाउन में छत पर ऐसे कट रही है लोगों की जिंदगी

ब्रुकलिन (Brooklyn) के फेमस फोटोग्राफर जेरेमी कोहेन (Jeremy Cohen) ने हाल ही में अपने ट्विटर (Twitter) हैंडल से एक वीडियो (Video) शेयर किया है. इस वीडियो को कोहेन ने छिपकर फिल्माया है इसमें आप देख सकते हैं कि कैसे लॉकडाउन के दौरान न्यूयार्क में 'रूफ कल्चर' शुरु हो गया है. जी हां 'रूफ कल्चर' का साफ अर्थ यह है लोग लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान अपना ज्यादा से ज्यादा वक्त छतों पर ही गुजारते हैं जैसे- एक्सरसाइज करना, डांस, पेंटिंग करना, अकेले बैठना या फैमिली के साथ बैठना. इस वीडियो में आप साफ देख सकते हैं कि किस तरह से लॉकडाउन के दौरान कोरोनावायरस के खौफ के कारण लोगों ने खुद को घरों में कैद तो कर लिया है लेकिन किस तरह से वह इस खौफ के बीच भी अपने घर के छतों पर आजादी की सांस लेते हुए नजर आ रहे हैं.

इस वीडियो में एक कपल डांस करते हुए वीडियो कॉल पर बातें करता हुआ नजर आ रहा है. तो वहीं एक शख्स बॉक्सिंग के साथ जिम करते हुए नजर आ रहा हैं. लोग अपने कुत्तों को भी छतों पर घूमाते नजर आ रहे हैं. इस वीडियो को सोशल मीडिया पर लोग काफी पसंद कर रहें हैं. इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि इस खौफ से भरे माहौल में इस तरह की वीडियो लोगों के अंदर एक उम्मीद की किरण जगाती है. इसे देखने के बाद सबसे बड़ी सीख यह मिलती है कि भले लॉकडाउन के कारण हम घर के बाहर नहीं निकल सकते लेकिन खुद को खुश और फिट रखने के लिए घर के छत का इस तरह से इस्तेमाल तो कर सकते हैं.

इस वीडियो के बैकग्राउंड में जो गाने की आवाज रही है वह मैक मिलर की ब्लू मून का गाना है. इस वीडियो को अबतक 30 लाख से भी ज्यादा बार देखा जा चुका है और 90,600 से ज्यादा रिट्वीट मिल चुके हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस वीडियो को देखने के बाद लोग काफी मजेदार कमेंट कर रहे हैं. एक ने कहा कि इस वीडियो को देखने के बाद दर्द होता है. एक यूजर ने कमेंट करते हुए लिखा 'मेरी भी इच्छा है कि काश मैं भी ऐसी ही बिल्डिंग में रहता जहां की छते ऐसी हैं. मैं भी छत पर आराम करता''.