NDTV Khabar

विराट कोहली ड्रेसिंग रूम में नए खिलाड़ियों को कंफर्टेबल करने के लिए करते हैं ऐसा, खुद किया खुलासा

विराट कोहली (Virat Kohli) भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के सबसे सीनियर खिलाड़ी हैं. उनकी कप्तानी में कई नए खिलाड़ी टीम इंडिया में शामिल हो रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विराट कोहली ड्रेसिंग रूम में नए खिलाड़ियों को कंफर्टेबल करने के लिए करते हैं ऐसा, खुद किया खुलासा

Virat Kohli नए खिलाड़ियों को कंफर्टेबल करने के लिए करते हैं ऐसा.

विराट कोहली (Virat Kohli) भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के सबसे सीनियर खिलाड़ी हैं. उनकी कप्तानी में कई नए खिलाड़ी टीम इंडिया में शामिल हो रहे हैं. जो कप्तान विराट कोहली को फॉलो करते हैं. विराट कोहली ने एक बार बताया था कि जब वो ड्रेसिंग रूम में सचिन तेंदुलकर से पहली बार मिले थे तो वो कितना नर्वस थे. जब भी कोई नया खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में आता है तो उसे भी वैसा ही लगता है. विराट कोहली उनको कंफर्टेबल करने के लिए खास चीज करते हैं. ये खुलासा उन्होंने एक इंटरव्यू में किया. उन्होंने कहा- 'मैं ड्रेसिंग रूम में सीनियर रहने की कोशिश नहीं करता.'

क्रिकेट ऑस्‍ट्रेलिया की 'टेस्ट टीम ऑफ द ईयर' में भारत के दो खिलाड़ी, जानें कौन-कौन है टीम में...

kh9og35g

 

विराट कोहली ने बताया कि जब यंगस्टर्स ड्रेसिंग रूम में आते हैं तो उनको कंफर्टेबल करने के लिए क्या करते हैं. जिससे वो खुलकर अपनी बात सभी के सामने रखते हैं. विराट ने कहा- 'मैं सीनियर की तरह बिहेव नहीं करता. मैं उस वक्त भी ऐसा फील नहीं करता जब मुझे ज्यादा रिस्पेक्ट दी जाती है. मैं खुद को सीनियर क्रिकेटर नहीं मानता. जब कोई मेरे पास आता है और जरूरत से ज्यादा रिस्पेक्ट देने लगता है तो मैं उसी वक्त मजाक कर देता हूं और कहने की कोशिश करता हूं कि इतना भी सीरियस होने की जरूरत नहीं है. मैं उनको उसी वक्त कंफर्टेबल कर देता हूं. मैं समझता हूं कि इंसान को अपनी बात खुलकर रखनी चाहिए.'


टिप्पणियां

Happy New Year 2019: अनुष्का-विराट ने सिडनी के सड़कों पर यूं मनाया न्यू ईयर, फोटो हुई वायरल

6iduoq6o

 

विराट कोहली ने अपने बचपन का किस्सा भी सुनाया, उन्होंने कहा- 'मैं बचपन में अपने भाई और उनके दोस्तों के साथ रहना चाहता था. मेरा बड़ा भाई मुझसे 7 साल बड़ा है. ऐसे में वो और उसके दोस्त अपने साथ नहीं रखते थे. लेकिन मुझे वो लोग ज्यादा कूल लगते थे. जब भी मैं उनके साथ क्रिकेट खेलता तो बल्लेबाजी के वक्त घर भेज देते थे. मेरे साथ उस वक्त बहुत नाइंसाफी हुई. मेरे भाई ने बाद में जाकर पिता के साथ बिजनेस में हाथ बटाया. जब भी मेरा मैच होता था तो वो मुझे ले जाता था और मैच के बाद घर लाता था. उसने मेरे लिए बहुत मेहनत की है.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement