NDTV Khabar

दुनिया की पहली स्मार्ट ट्रेन, जो पटरी पर नहीं बल्कि सड़क पर दौड़ेगी, जानिए खासियत

चीन की बुलेट ट्रेन काफी फेमस है. अब चीन ने ऐसी ट्रेन बनाई है जो बिना पटरी के चलेगी. जी हां, विश्वास नहीं हो रहा होगा न आपको. पर हमेशा से कुछ नया करने वाले चीन ने अब वर्चुअल ट्रैक पर दौड़ने वाली ट्रेन बनाई है.

1467 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
दुनिया की पहली स्मार्ट ट्रेन, जो पटरी पर नहीं बल्कि सड़क पर दौड़ेगी, जानिए खासियत

दुनिया की पहली स्मार्ट ट्रेन, जो चीन ने चलाई है.

खास बातें

  1. चीन ने बनाई दुनिया की पहली स्मार्ट ट्रेन.
  2. इस ट्रेन में एक बार में 300 यात्री सफर कर सकते हैं.
  3. 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से यह ट्रेन चलेगी.
नई दिल्ली: कुछ सालों में भारत को हाईपरलूप ट्रेन आने वाली है जो हवाई सफर से भी जल्दी पहुंचाएगी. स्पीड के मामले में ये बाकी ट्रेनों के मुकाबले कई ज्यादा होगी. लेकिन इन सबके बीचे पड़ोसी देश चाइना इससे कई आगे निकल चुका है. बता दें, चीन की बुलेट ट्रेन काफी फेमस है. अब चीन ने ऐसी ट्रेन बनाई है जो बिना पटरी के चलेगी. जी हां, विश्वास नहीं हो रहा होगा न आपको. पर हमेशा से कुछ नया करने वाले चीन ने अब वर्चुअल ट्रैक पर दौड़ने वाली ट्रेन बनाई है. चीन इस ट्रेन को लेकर काफी उत्साहित है.

पढ़ें- एक नवंबर से बदलने जा रहा है इन ट्रेनों का टाइम और नंबर, जानिए क्या होगा अब​
 
smart train

प्रदूषण रहित है ये ट्रेन
बता दें, चीन प्रदूषण से काफी परेशान है ऐसे में ये मेट्रो उनके लिए एकदम सटीक है. चीन रेल कॉर्पोरेशन ने वर्ष 2013 में इस तरह की ट्रेन की डिजाइन बनाने की शुरुआत की थी. इस स्मार्ट ट्रेन को सबसे पहले तकरीबन 40 लाख के आबादी वाले झूजो प्रांत में चलाया जा रहा है. हालांकि, बाद में कई अन्य शहरों में भी यह रेल सेवा शुरू की जा सकती है.

पढ़ें- यूपी के सीतापुर में महिला और उसकी बेटियों को चलती ट्रेन से फेंका, दो की मौत
 
smart train

पढ़ें- मुंबई में नए साल से शुरू होगी पहली लोकल AC ट्रेन, रोजाना लगाएगी 7 फेरे

ट्रेन से जुड़ी खास बातें

* इस ट्रेन में एक बार में 300 यात्री सफर कर सकते हैं.
* 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से यह ट्रेन चलेगी.
* इस ट्रेन को बस और ट्राम की तरह बनाया गया है. यह बस से अधिक यात्रियों को ले जा सकती है.
* ट्रेन में तीन कोच दिए गए हैं, स्‍मार्ट ट्रेन के अंदर भी यात्री एक कोच से दूसरे कोच में जा सकते हैं.
* एक किलोमीटर की कॉस्‍ट 17 से 23 मिलियन यूरो है.
* इस ट्रेन को चलाने के लिए सड़क के अंदर ही सेंसर फिट किए जाते हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement