NDTV Khabar

अमोल पालेकर को सरकार की आलोचना करना पड़ा भारी, कार्यक्रम के बीच में रोका- Video वायरल

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर व डायरेक्टर अमोल पालेकर (Amol Palekar) शनिवार को मुंबई के नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (NGMA) में गेस्ट के तौर स्पीच दे रहे थे तो उन्हें इसलिए रोक दिया गया, क्योंकि उन्होंने सरकार की आलोचना की.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. अमोल पालेकर ने की सरकार की आलोचना
  2. बीच में ही रोक दिया गया स्पीच
  3. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल
नई दिल्ली:

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर व डायरेक्टर अमोल पालेकर (Amol Palekar) शनिवार को मुंबई के नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट (NGMA) में गेस्ट के तौर स्पीच दे रहे थे तो उन्हें इसलिए रोक दिया गया, क्योंकि उन्होंने सरकार की आलोचना की. इसका वीडियो इंटरनेट पर काफी वायरल हो गया है. अमोल पालेकर मशहूर आर्टिस्ट प्रभाकर बारवे के स्मरण में आयोजित प्रदर्शनी के दौरान 'इनसाइड द इम्पटी बॉक्स' टॉपिक पर बोल रहे थे. इसी दौरान जब उन्होंने मिनिस्ट्री ऑफ कल्चर के खिलाफ कुछ बातें कहना शुरू ही किया था कि उन्हें रोक दिया गया. जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. अमोल पालेकर एनजीएमए (NGMA) के मुंबई और बैंगलोर केंद्रों की एडवाइजरी समिति को कथित तौर पर खत्म करने के लिए संस्कृति मंत्रालय की आलोचना किया था.

रणवीर सिंह ने स्विटजरलैंड को दिया बड़ा तोहफा, अब हर कोई जाना चाहता है यहां- देखें Video


 

 

इस दौरान मौजूद वहां मॉडरेट कर रहीं एक महिला ने अमोल पालेकर को रोक दिया और कार्यक्रम से जुड़ी बातों के बारे में कहने के लिए कहा. मालूम हो कि पिछले साल अक्टूबर महीने तक एनजीएमए (NGMA) की एक सलाहकार कमेटी थी, जिसमें स्थानीय कलाकारों का प्रतिनिधित्व होता था. इसी के बारे में अमोल पालेकर ने जब कार्यक्रम में मुद्दा उठाया कि इस कमेटी को अब सीधे संस्कृति मंत्रालय कंट्रोल रह रही है. इस फैसले पर जैसे ही बोलना शुरू किया तो उस वक्त उन्हें रोक दिया. वीडियो में जैसे साफ झलक रहा है कि वह कह रहे हैं कि, 'क्या आप मुझे स्पीच बीच में खत्म करने के लिए कह रही हैं? क्या मेरे बोलने पर सेंसरशिप लगा रही हैं?'

 

 

रितेश देशमुख ने हेलीकॉप्टर में लगाया घर का पंखा, फिर हुआ ऐसा खतरनाक हादसा- देखें Video

 

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर कई बुद्धिजीवी व युवाओं ने शेयर किया है. सीपीआईएम के नेता सीताराम येचुरी ने भी इसकी निंदा करते हुए ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा, 'हमारे लोकतंत्र, हमारे संवैधानिक अधिकारों का पूरा सार, सरकार और उसके नेताओं की आलोचना करने की स्वतंत्रता पर आधारित है. कोई भी आलोचना से ऊपर नहीं है. अमोल पालेकर के साथ यह व्यवहार अलोकतांत्रिक और बेहद निंदनीय है.' जिसमें यह कहा जा रहा है कि क्या अब फ्रीडम ऑफ स्पीच (बोलने पर आजादी) भी खत्म कर दिया जाएगा. वहीं एक यूजर ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा, 'वर्तमान समय में इसे ही इन्टॉलरेंस (Intolerance) कहा जा रहा है.. दुखद..'

देखें वीडियो-

टिप्पणियां

...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement