NDTV Khabar

आनंदी गोपाल जोशी पर गूगल ने बनाया डूडल, पढ़ाई न करने पर पति ने की थी पिटाई, बनीं भारत की पहली महिला Doctor

आनंदी गोपाल जोशी का जीवन प्रेरणा भरा रहा और वे भारत की पहली महिला डॉक्टर बनीं जिन्होंने अमेरिका से क्वालीफाई किया. गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें सम्मानित किया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आनंदी गोपाल जोशी पर गूगल ने बनाया डूडल, पढ़ाई न करने पर पति ने की थी पिटाई, बनीं भारत की पहली महिला Doctor

Anandi Gopal Joshi 153rd Birthday: Google ने आनंदी गोपाल जोशी पर बनाया Doodle

खास बातें

  1. भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी
  2. आनंदी गोपाल जोशी की 153वीं जयंती
  3. समय से पहले कह गईं थीं अलविदा
नई दिल्ली: आनंदी गोपाल जोशी का जीवन प्रेरणा भरा रहा और वे भारत की पहली महिला डॉक्टर बनीं जिन्होंने अमेरिका से क्वालीफाई किया. Google ने Doodle बनाकर भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदी गोपाल जोशी (Anandi Gopal Joshi) को याद किया है. आनंदी गोपाल जोशी का जन्म 31 मार्च 1865 में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था और उनकी नौ साल की उम्र में शादी हो गई थी. कहा जाता है कि अमेरिकी धरती पर कदम रखने वाली आनंदी जोशी पहली भारतीय महिला भी थीं. Google ने आज Doodle बनाकर आनंदी गोपाल जोशी को याद किया है. Anandi Gopal Joshi's 153rd Birthday शीर्षक से डूडल बनाया गया है.

Farouque Shaikh: अभिनय में महारथ रखने वाले फारुख शेख के जन्मदिन पर गूगल ने बनाया डूडल

आनंदी गोपाल के 20 साल बड़े पति ने यूं दिया साथ
आनंदी गोपाल जोशी का जन्म महाराष्ट्र के ठाणे जिले के कल्याण में हुआ था. उनका नाम यमुना रखा गया. नौ साल की उम्र में आनंदी की शादी विदुर गोपालराव जोशी से कर दी गई जो उनसे उम्र में 20 साल बड़े थे. लेकिन शादी के बाद उनका नाम बदलकर आनंदी कर दिया गया. 14 साल की उम्र में आनंदी मातृत्व सुख से वंचित रह गईं और स्वास्थ्य सेवाओं के अभाव में उनके बेटे की जान नहीं बच सकी. इस घटना ने उनके जीवन पर गहरा असर डाला.

देखें उनसे जुड़ी पूरी फिल्म-


आनंदी गोपाल जोशी समय से पहले कह गईं अलविदा
गोपालराव ने आनंदी को पढ़ने के लिए प्रेरित किया. वे उनकी पढ़ाई को लेकर काफी सख्त थे. कहा जाता है कि गोपालराव आनंदी की शिक्षा को लेकर इतने सख्त थे कि एक बार जब आनंदी रसोई में मदद करवा रही थीं तो इस तरह टाइम खराब करने पर वे गुस्सा गए और आनंदी की छड़ी से पिटाई की थी. आनंदी पढ़ती गईं और फिर 1886 में उन्हें अमेरिका के पेनसिल्वेनिया मेडिकल कॉलेज से एमडी की डिग्री भी मिल गई.

'मैं चाहती हूं महिलाएं भी पुरुषों के बराबर ही साइंस और टेक्नोलॉजी में योगदान करें', ये था काट्सुको का सपना

टिप्पणियां
लेकिन नियती को कुछ और ही मंजूर था और दुनिया भर में भारतीय महिलाओं का सिर गर्व से ऊपर करने वाली आनंद 22 साल की होने से एक महीने पहले ही दुनिया को अलविदा कह गईं. दूरदर्शन पर ‘आनंदी गोपाल’ नाम से सीरियल आ चुका है, जिसमें उनकी पूरी जिंदगी को दिखाया गया है. इसके अलावा मराठी और हिंदी में कई शॉर्ट फिल्में बन चुकी हैं.

 ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement