NDTV Khabar

Mahatma Gandhi: चार ऐसे Gandhi जिन्हें समय के साथ भुला दिया गया, जानें क्यों हुआ ऐसा

Mahatma Gandhi को लेकर कई लोगों ने अपनी क्रिएटिविटी का इस्तेमाल किया, लेकिन रिचर्ड एटनबरो का कोई मुकाबला नहीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Mahatma Gandhi: चार ऐसे Gandhi जिन्हें समय के साथ भुला दिया गया, जानें क्यों हुआ ऐसा

Mahatma Gandhi Death Anniversary: महात्मा गांधी की तस्वीर

खास बातें

  1. बेजोड़ है रिचर्ड एटनबरो की 'गांधी'
  2. हॉलीवुड ने बनाई थी ये फिल्म
  3. बॉलीवुड ने भी की है कई कोशिशें
नई दिल्ली: महात्मा गांधी के जीवन पर कई फिल्में बनीं और सराही भी गईं. उनमें महात्मा गांधी के किरदार में कई एक्टर आए और बेहतरीन काम भी किया. लेकिन ये ऐसे गांधी रहे जिन्हें समय के साथ भुला दिया गया. हालांकि हॉलीवुड एक्टर बने किंग्स्ले एकमात्र ऐसे गांधी थे जिनके साथ ताउम्र के लिए ये छवि जुड़ गई. रिचर्ड एटरबरो की फिल्म Gandhi (1982) में वे महात्मा गांधी के रोल में नजर आए थे. हालांकि बॉलीवुड ने भी महात्मा गांधी की जिंदगी पर कई फिल्में बनाई गईं लेकिन इन फिल्मों में नजर आए गांधी पर हमेशा बेन किंग्स्ले ही भारी रहे. बाकी अधिकतर कलाकारों को दर्शक लंबे समय तक याद नहीं रख पाए. आइए एक नजर डालते हैं महात्मा गांधी पर बनी कुछ फिल्में और उनमें महात्मा गांधी का किरदार निभाने वाले एक्टरः

Mahatma Gandhi: लोग इन्हें समझते थे बापू का 'भूत', जानें Gandhi से जुड़े 5 दिलचस्प किस्से

सरदार (1993)
केतन मेहता ने ‘सरदार’ फिल्म को डायरेक्ट किया था और फिल्म में अन्नू कपूर गांधी के किरदार में नजर आए थे. हालांकि इस फिल्म के सरदार पटेल परेश रावल को ज्यादा पसंद किया गया था, और अन्नू कपूर गांधी का कैरेक्टर बहुत कामयाबी से नहीं निभा पाए थे. 



द मेकिंग ऑफ महात्मा (1996)
इस फिल्म में रजत कपूर ने युवा महात्मा गांधी का किरदार निभाया था. श्याम बेनेगल की इस फिल्म में महात्मा गांधी के साउथ अफ्रीका के सफर को पेश किया गया था. लेकिन रजत कपूर को महात्मा गांधी के इस किरदार से ज्यादा पहचान ‘डिटेक्टिव ब्योमकेश बख्शी’ के तौर पर मिली. 



हे राम (2000)
कमल हासन ने अपनी इस फिल्म के जरिये गांधी और उनकी हत्या को एकदम नए अंदाज में पेश किया और इसने विवादों को भी हवा दी. फिल्म ने खूब सुर्खियां बटोरीं, और शाहरुख खान तथा कमल हासन के कैरेक्टर पसंद भी किए गए लेकिन महात्मा गांधी बने नसीरूद्दीन शाह किसी को याद नहीं रहे. 



‘हे राम हमने गांधी को मार दिया’ का First Look रिलीज, दिखेगा महात्मा गांधी की हत्या का पूरा सच

टिप्पणियां
लगे रहो मुन्नाभाई (2006)
राजकुमार हिरानी में मुन्ना भाई संजय दत्त से लेकर सर्किट अरशद वारसी सब यादगार कैरेक्टर बन गए और फिल्म से गांधीगीरी जैसा शब्द भी मिला. लेकिन फिल्म के गांधी दिलीप प्रभवलकर यादगार नहीं रहे बल्कि संजय दत्त पूरी फिल्म पर हावी रहे. ऐसे में मुन्ना भाई की गांधीगीरी जरूर आज भी याद की जाती है. 

  ...और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement